पठन-पाठन Archives | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
‘यह सामाजिक सरोकार एक साहित्यिक व्यभिचार है’

तहलका के संस्कृति विशेषांक में प्रकाशित शालिनी माथुर के स्त्री लेखन संबंधी आलोचनात्मक लेख ‘मर्दों के खेला में औरत का नाच’ पर कथाकार जयश्री रॉय की टिप्पणी.