झारखंड Archives | Page 2 of 3 | Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
‘अनिवासी’ सारंडावासी!

केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश की पहल के बाद सारंडा में विकास की उम्मीद जगी है. लेकिन उन सौ गांवों या तकरीबन 25 हजार लोगों के लिए नहीं जिनका नाम सरकारी दस्तावेजों से गायब है  

बदले-बदले से‘सरकार…’

झारखंड के 38 वर्षीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपनी कार्यशैली में नई पीढ़ी के राजनेताओं से काफी अलग नजर आ रहे हैं. लेकिन क्या वे राज्य, पार्टी और पिता शिबू सोरेन के विवादित अतीत से आगे बढ़कर अलग पहचान बना पाएंगे?  

‘झारखंड को सिर्फ दुहते रहने से स्थिति ऐसी भयावह और अराजक होगी कि संभालना मुश्किल हो जाएगा’

हाल ही में झारखंड की कमान संभालने वाले हेमंत सोरेन बीते 13 साल में राज्य के 9वें मुख्यमंत्री हैं. अनुपमा से बातचीत में वे कह रहे हैं कि अतीत में जो गलतियां हुई हैं उन्हें ठीक किया जाएगा.  

‘सरकार’ के सहारे बेड़ा पार!

झारखंड में सरकार बदलने का दौर जारी है. छह माह के राष्ट्रपति शासन के बाद अब कमान झामुमो के हेमंत सोरेन के हाथ में है, लेकिन क्या हेमंत सरकार बचाने के साथ अपने दल की नैया पार लगा पाएंगे? अनुपमा की रिपोर्ट.  

मुर्गा लड़ाई से अवैध कमाई

कभी आदिवासियों के मनोरंजन का साधन रही मुर्गा लड़ाई अब एक बर्बर खेल और अवैध कारोबार के माध्यम में बदल गई है.  

झारखंड: बनती-बिगड़ती सरकारें

झारखंड में फिर सरकार का गठन हो गया है. इस बार झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस ने हाथ मिलाया है. झामुमो दिग्गज शिबू सोरेन के बेटे हेमंत सोरेन के नेतृत्व में बनने वाली यह सरकार करीब छह माह के राष्ट्रपति शासन के बाद बनी है. झामुमो द्वारा अर्जुन मुंडा सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद जनवरी में राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा था. तभी से झामुमो और कांग्रेस के बीच सरकार बनाने की कोशिशें जारी थीं. राष्ट्रपति शासन...  

आदि चिकित्सा की वैद्यराज महिलाएं

झारखंड के छोटे इलाकों की महिलाओं द्वारा कई बड़े प्रयास हो रहे हैं. उन्हीं में से एक है उनका वैद्य के पारंपरिक पेशे में आना. अनुपमा की रिपोर्ट.  

बेपटरी रेल

रेलवे को सबसे अधिक राजस्व देने वाला झारखंड परियोजनाओं के मोर्चे पर घनघोर उपेक्षा का शिकार है. अनुपमा की रिपोर्ट.  

…और नहीं आया भेड़िया

रुडयार्ड किपलिंग की किताब ‘द जंगल बुक’ से नई मानवीय पहचान पाने वाला वन्य जीव भेड़िया सदियों से ग्रामीण जीवन में शामिल रहा है. लेकिन देश के इकलौते भेड़िया अभयारण्य में यह जीव किन हालात में है? है भी या नहीं? अनुपमा की रिपोर्ट.  

कला अनमोल, मिट्टी के मोल

डोकरा आर्ट की कलाकृतियों की वैश्विक बाजारों में भले ही खूब कीमत लगती हो लेकिन झारखंड के संथाल परगना क्षेत्र में जादुपेटिया समुदाय के लोग अब भी अपनी कला को मिट्टी के मोल बेचने को विवश हैं. अनुपमा की रिपोर्ट.