यतीन्द्र मिश्र, Author at Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
यतीन्द्र मिश्र
यतीन्द्र मिश्र
Articles By यतीन्द्र मिश्र
पपीहा रे मेरे पिया से कहियो जाए…

बतौर संगीतकार अनिल विश्वास ने हिंदी सिने जगत में उस वक्त कदम रखा जब नायक-नायिका नहीं बल्कि गीतकार-संगीतकार को सितारा हैसियत हसिल होती थी.  

‘तसल्ली तब हुई जब शाख़ पे एक फूल आया’

भारतीय सिनेमा के सर्वोच्च अलंकरण दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित गुलज़ार ऐसे सर्वप्रिय और प्रचलित व्यक्ति हैं, जिनके खाते में ढेरों कला-माध्यमों से होकर गुजरने का सौभाग्य दर्ज है. वे एक मशहूर शायर, अप्रतिम फिल्मकार, संजीदा कहानी लेखक, बेहतरीन गीतकार, मंजे हुए संवाद और पटकथा लेखक रहे हैं. 1934 में दीना (अब पाकिस्तान) में जन्मे गुलज़ार ने विमल राॅय के सहायक निर्देशक के रूप में अपना फिल्मी सफर 1963 में शुरू किया जो लगभग पांच दशक बीत जाने...  

सनेह को मारग

हिंदी की दुनिया में प्रेम की कविता शताब्दियों के लंबे काल-प्रवाह में बहुत असरदार तरीके से मिलती है. हिंदी साहित्य के प्रसिद्ध काल-विभाजन में तो प्रेम और रति के साहित्य को अलग से ही एक काल में मान्यता दी गई है, जिसे ‘रीतिकाल’ या ‘श्रृंगारकाल’ के नाम से जाना जाता  

सुर अविनाशी: लता मंगेशकर

मामूली आदमी से लेकर अपने क्षेत्र के शिखर पर बैठे व्यक्ति तक कोई भी ऐसा नहीं जिसकी भावनाओं को लता मंगेशकर की आवाज न मिली हो.