Tehelka Web Desk, Author at Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
Tehelka Web Desk
Tehelka Desk
Articles By Tehelka Desk
लेकिन विजयी होंगे नरेंद्र भाई ही

भाजपा की उपचुनावों में हार, एनडीए गठबंधन में टूट, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रैलियों में भीड़ के बावजूद ऐसा अंदेशा है कि 2019 में भाजपा शायद ही हारे। इसकी वजह यही है कि विपक्ष अभी एकजुट नहीं है। वजह अभी भी नरेंद्र दामोदर दास मोदी तमाम विपक्षी दलों के  

पूरे आसमां की तलाश करती नारी

‘अबला तेरी यही कहानी आंचल में दूध और आंखां में पानी मैथिलीशरण गुप्त ने ये पंक्तियां आज़ादी की लड़ाई के दौरान लिखी थी। सोच यह थी कि आज़ादी के बाद महिलाओं का जीवन बदलेगा। इसमें कुछ बदलाव तो आया है, महिलाओं ने बहुत कुछ कर दिखाया है। पर क्या उनके प्रति  

हिन्दी कहानी की निरंतर यात्रा

कथा और कहानी का विस्तार ज्यों-ज्यों आकार लेता गया त्यों-त्यों कहानी के शिल्प की बुनावट बदलती गई। कहानी के विषय बदले और कहानी में सघनता, प्रभाव की बात महत्वपूर्ण हो गई। कहानी सन 70 के बाद वैश्विक समस्याओं से ही नहीं जूझती बल्कि अकेलेपन और नगरीय जीवन की बहस में  

‘बड़ा गोलमाल कर सकती है भाजपा’

गुजरात विधानसभा चुनाव में पटेल समुदाय बीजेपी के लिए गले की हड्डी बन गया है। बीजेपी के तमाम पैंतरों और रणनीतियों को 23 साल के हार्दिक पटेल बैकफुट पर धकेलते दिखाई दे रहे हैं। राज्य में अगले महीने 9 और 14 दिसंबर को मतदान होंगे और नतीजा 18 दिसंबर को  

संवैधानिक बाधा नहीं आरक्षण में : हार्दिक

‘मुद्दे बीजेपी ने हरामाओ चे, अनामत नो नाथी’  

‘कांग्रेस ने योजना तक तो बनाई नहीं, विकास कहां किया’

प्रेम कुमार धूमल को हिमाचल में भाजपा का सबसे कद्दावर नेता माना जाता है। दो बार मुख्यमंत्री रहने के अलावा वे प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे हैं और इस बार भी भाजपा के मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी हैं। यह माना जाता है कि 1998 में जब  

काशी हिंदू विश्वविद्यालय: गुंडों पर नहीं, छात्राओं पर लगती है रोक

काशी हिंदू विश्वविद्यालय को जरूरत है ऐसे उपकुलपति की जिसके मन में छात्रों के प्रति चिंता हो। एक ऐसा प्रशासक जो छात्र-छात्राओं की जरूरतों को आधुनिक जीवन की चुनौतियों के लिहाज से समझता हो। देश में विकास रूप ले रहा है उसी लिहाज से छात्र-छात्राओं की अपनी मांगे भी हैं जिन  

आर्थिक सलाहकार परिषद फिर बनी आर्थिक सुझावों पर अब और ध्यान

देश में आर्थिक सलाहकार परिषद फिर सक्रिय कर दी गई। आर्थिक विकास दर बढ़ाने के इरादे से प्रधानमंत्री ने यह पहल की है। इस साल की पहली तिमाही में यह महज 5.2 फीसद रही। परिषद की कमान बिबेक देब रॉय संभालेंगे। सरकार ने सोमवार 25 सितंबर को यह घोषणा की। प्रधानमंत्री से इस आर्थिक