अंशु ललित, Author at Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
अंशु ललित
अंशु ललित
Articles By अंशु ललित
केन मेरे लिए केदारनाथ की कविताओं की तरह थी, लेकिन उस दिन इस नदी से जुड़े सारे ‘भ्रम’ टूट गए

इस बार दिल्ली में ठंड सिर्फ नाम के लिए आई. फरवरी आते-आते गायब. उस रात हजरत निजामुद्दीन स्टेशन से ट्रेन पकड़ते वक्त भी ठंड का एहसास नहीं हुआ. यह बुंदेलखंड की मेरी पहली यात्रा थी, जिसका पहला पड़ाव बांदा था. आम तौर पर ट्रेन में घुसते ही मुझे नींद आ