अमित भारद्वाज, Author at Tehelka Hindi — Tehelka Hindi
अमित भारद्वाज
Amit Bhardwaj
Articles By Amit Bhardwaj
उम्मीद की डोर पर जिंदगी ‘कठपुतली’

ओ लड़ी लूमा रे लूमा, ओ लड़ी लूमा रे लूमा, लूमा झूमा लूमा झूमा, म्हारो गोरबंद नखरालो. किसी सांस्कृतिक मेले में इस तरह के राजस्थानी लोकगीत पर नाचती कठपुतलियां बरबस ही ध्यान खींच लेती हैं, पर मनोरंजन के साथ शिक्षा का माध्यम रहा कठपुतली का खेल आज अपनी पहचान बचाए रखने  

हिंदुत्व के नए ठेकेदार

गाजियाबाद के डासना में एक प्रसिद्ध देवी मंदिर है. मंदिर के प्रवेशद्वार पर टंगे बोर्ड को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. बोर्ड पर साफ लिखा है, ‘मंदिर में मुसलमानों का प्रवेश वर्जित है.’ मंदिर के अंदर एक किशोर लगभग दस साल के बच्चे को बुरी तरह पीट रहा है. बच्चा  

नगालैंड में कलम पर लगाम!

संपादकीय पेज की जगह खाली थी. नगालैंड के अखबारों- नगालैंड पेज, ईस्टर्न मिरर और मोरंग एक्सप्रेस के पाठक हैरान थे. राष्ट्रीय प्रेस दिवस, जो भारत में स्वतंत्र और जिम्मेदार प्रेस के प्रतीक दिवस के रूप में मनाया जाता है, पर इन अखबारों ने संपादकीय पेज को कोरा छोड़ दिया था.  

महफूज़ नहीं मासूम

जिस तरह सर्दी के मौसम में पुरानी चोट या जख्म की टीस ताजा हो जाती है, उसी तरह दिल्ली में सर्दी की दस्तक 16 दिसंबर 2012 की वीभत्स घटना का दर्द साथ ले आती है. निर्भया के साथ हुए हादसे ने महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों के प्रति जागरूकता  

यूजीसी का स्वप्न, छात्रों का दुःस्वप्न

वे छात्र जो मतदान करके सरकार चुन सकते हैं, उच्च स्तरीय शोध पत्र लिख सकते हैं, वे शैक्षिक टूर पर जाने जैसे निर्णय खुद नहीं ले सकते. इसके लिए उन्हें अभिभावक के अनुमति लेना अनिवार्य है. इसके अलावा उन्हें खुफिया निगरानी में रखा जाना चाहिए ताकि उनके लिए ‘सुधारात्मक कदम’  

‘मुख्यमंत्री खुद व्यापमं घोटाले में शामिल हैं और मेरी मौत चाहते हैं’

व्यापमं मामले में हुई हेर-फेर को सबसे पहले दुनिया के सामने लाने वाले आरटीआई एक्टिविस्ट आशीष चतुर्वेदी को मध्य प्रदेश सरकार की ओर से सुरक्षा मिली हुई है. इस पूरे कांड में मुख्यमंत्री की संदिग्ध भूमिका और एक व्हिसल-ब्लोअर होने के जोखिमों के बारे में आशीष चतुर्वेदी ने अमित भारद्वाज से बात की