नकली पेड़, असली मौत

1
133

कल हमारे युग को जिन चीजों से पहचाना जाएगा उनमें से एक फेसबुक भी होगी. पहले भी घटनाएं दो बार घटती थीं. पहली बार सचमुच और दूसरी बार मनुष्य के भीतर. लेकिन यह दूसरी बार का घटित होना अब अक्सर हर रंग की संवेदनाओं से जोड़ी गईं कविताओं के रूप में फेसबुक पर प्रकट होने लगा है. अगर अच्छे-बुरे के फेर में न पड़ा जाए तो मान लेना चाहिए कि पहले जो कविताएं लोगों के भीतर ही मर जाती थीं अब जन्म पा लेती हैं. कितनी देर जिंदा रहती हैं यह उनकी आंतरिक शक्ति पर निर्भर करता है. भीड़ के बीच, कैमरों के सामने हुई उस बहुआयामी घटना के बाद कृष्ण कल्पित की एक कविता आई- एक नकली किसान/एक नकली मुख्यमंत्री के सामने/एक नकली पेड़ से लटककर मर गया/और नकली पुलिस और नकली जनता देखती रही/सब नकली थे/लेकिन मृत्यु असली थी!

इस कविता की पहली ही लाइन लिखने के लिए हिम्मत चाहिए क्योंकि वह एक मौत के बाद किसानों की आत्महत्याओं पर मची देशव्यापी, नकली किंतु क्रुद्ध चक-चक के बीच लिखी जा रही है. कवि का कचूमर भी बन सकता है. अगर आप दिल्ली के जंतर मंतर पर तालियां बजाते लोगों के बीच पेड़ से गिरी उस दढ़ियल लाश के बगल में खड़े होकर देखें तो जान जाएंगे कि एक नकली जनता का भी निर्माण न सिर्फ किया जा चुका है बल्कि वह इस हद तक जटिल हो चुकी है कि अब उसका पुरानी हालत में लौट पाना नामुमकिन है. यह भीड़ अपनी अनुभूतियों को झुठलाते हुए सच और झूठ के बीच के धुंधलके में कैसे भी धक्के से किसी भी तरफ चल पड़ने को तैयार खड़ी रहती है जिसका एक नायाब नमूना मरनेवाला गजेंद्र सिंह खुद था.

वह किसानी की चौपट असलियत से वाकिफ था, वह कई राजनीतिक पार्टियों में रहते हुए नेताओं का ध्यान खींचने के छक्के पंजे सीख चुका था, किसान मिजाज के उलट अपने लिए उसने काम भी ऐसा चुना था जिसमें मजदूरी से ज्यादा बख्शीश मिलती है. वह कौतुक पैदा करनेवाली गति से मंच पर नेताओं को साफा बांधा करता था, उसे बख्शीश वे लोग दिया करते थे जो पगड़ी, तलवार, मुकुट और मक्खन के जरिए सत्ताधारी नेताओं को पांच मिनट के महाराजा बनाकर अपना उल्लू सीधा करने के उस्ताद होते हैं. वह दरअसल एक खानदान की बिरूदावली गाते या एक व्यक्ति का अहंकार सहलाते हुए राजनीति में तेजी से कामयाब हो रही नेताओं की प्रजाति का अनुसरण करना चाहता था लेकिन ऐसा करने की कोशिश में सिर्फ ध्यान खींचने वाला एक आइटम बनकर रह गया था.

1 COMMENT

  1. नकली पेड़. नकली भीड़. बहुत सुन्दर कहानी. एक नई राजनीति का इस तरह से पतन. दुखद है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here