कुछ सपने, ख्वाहिशें और शीरोज हैंगआउट

0
68

जहां महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों के लिए उन्हें ही जिम्मेदार ठहराया जाता है, वहां किसी एसिड अटैक सरवाइवर का उस सदमे से उबरकर नए सिरे से जिंदगी शुरू करना हिम्मत का काम है. कुछ ऐसा ही जज्बा तेजाब हमलों की शिकार महिलाओं ने कैफे खोलकर दिखाया है. इन महिलाओं की ओर से आगरा में चलाए जा रहे कैफे ‘शीरोज हैंगआउट’ ने बीते 10 दिसंबर को पहली सालगिरह मनाई. इसे शुरू करने का उद्देश्य इन्हें समाज के साथ फिर से जोड़ना है. इसके जरिये अतीत से उठकर अपने जीवन के नए मायने तलाश रहीं इन आत्मविश्वासी महिलाओं ने अपने जैसे लोगों के साथ ही समाज को भी सीख दी है. कैफे का नाम ‘हीरो’ शब्द की तर्ज पर ‘शीरोज’ रखा गया है.

SHEROES HANGOUT20151129_0002
सभी फोटो : पारोमिता चटर्जी

 कैफे की अपनी एक लाइब्रेरी है जिसकी किताबें यहां आने वालों द्वारा दान की गई हैं. ये अपने आप में एक अनूठा कैफे है जो आगरा जैसी ‘टूरिस्ट सिटी’ की शोर भरी भीड़ में सुकून का एहसास देता है.

LEAD 0001

नीतू के पिता को बेटे की चाहत थी पर बेटियां ही पैदा हुईं. एक दिन नशे में धुत पिता ने तीन साल की नीतू सहित उसकी मां और छोटी बहन पर तेजाब फेंक दिया, सपने देखना भूल चुकी नीतू अब अपने पैरों पर खड़ी है

SHEROES HANGOUT20151129_0004

यहां आने वालों में ज्यादातर ग्राहक विदेशी सैलानी होते हैं जो इन महिलाओं को सहजता से स्वीकार लेते हैं. इस कैफे के आस-पड़ोस के लोगों ने शुरू में तो इनसे दूरी बना के रखी पर कुछ महीनों पहले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा की गई तारीफ के बाद उनकी सोच में बदलाव आया है

DSC_7777

कैफे में काम करने वाली महिलाएं इस बात पर जोर देती हैं कि कैफे मुनाफे के लिए नहीं चलता. इस बात की तस्दीक मेन्यू कार्ड भी करता है जिस पर किसी व्यंजन की कीमत नहीं लिखी है. यहां आने वाले मेहमान अपनी इच्छानुसार भुगतान कर सकते हैं

DSC_7748

इस कैफे ने न केवल इन महिलाओं को रोजगार दिया है बल्कि इन्हें फिर से सपने देखने की हिम्मत भी दी है. यहां काम करने वाली डॉली अपने नृत्य के शौक को पूरा करने के लिए डांसिंग क्लासेज में जाती हैं, वहीं नीतू गायकी का शौक भी रखती हैं

DSC_8005

यहां डॉली, अंशु, नीतू, ऋतु और गीता काम करती हैं. अंशु (हरे रंग की ड्रेस में) यहां नई हैं. शीरोज हैंगआउट में काम मिल जाने के बाद अब वे अपनी पढ़ाई जारी रखने की योजना बना रही हैं

SHEROES HANGOUT20151129_0003

SHEROES HANGOUT20151129_0005

कैफे में सजावट का खास ध्यान रखा गया है. यहां कई आकर्षक पेंटिंग्स लगी हैं. दीवारों का रंग-रोगन किसी चित्रकार का कैनवास लगता है. एक बोर्ड पर एसिड अटैक सरवाइवर्स पर अखबारों या मैगजीन में प्रकाशित खबरों को भी जगह दी गई है