सिर्फ हमारी सरकार किसानों की हमदर्द : मोदी

पीएम किसान योजना की गोरखपुर से की शुरुआत

0
609
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में किसान सम्मान निधि की शुरुआत करते हुए कहा कि किसानों की असली हमदर्द उनकी सरकार है और कांग्रेस और दूसरे दल किसानों के लिए सिर्फ मगरमच्छी आंसूं बहा रहे हैं। मोदी ने कहा कि हाल के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने किसानों के लिए जो वादे किये उन्हें पूरा नहीं किया।
पीएम ने इस मौके पर प्रधानमंत्री किसान योजना की शुरुआत करते हुए पहली किश्त के २००० रूपये भी प्रति किसान के खाते में डाले। उन्होंने कहा कि २०१२ करोड़ रूपये सीधे किसानों के खाते में डाल दिए गए हैं जिससे १.७ किसानों को लाभ मिलेगा।  उनके मुताबिक इस योजना के तहत इस साल करीब ७५,००० करोड़ किसानों को मिलेंगे।
इस मौके पर कमोवेश हर मुद्दे पर मोदी ने कांग्रेस के कड़ी आलोचना की। पीएम ने कहा – ”किसानों के लिए पहले की सरकारों ने बातें बहुत की लेकिन उन्होंने किसानों को छोटी-छोटी ज़रूरतों के लिए भी तरसाने का काम किया है। किसानों का भला करने की उनकी नियत नहीं थी। इसीलिए सरकार बनने के बाद से ही हमने किसानों की छोटी छोटी दिक्कतों पर ध्यान देने के साथ ही उनकी चुनौतियों के निवारण पर काम किया है।”
मोदी ने जनसभा में कहा कि किसान पूरी तरह से सशक्त और सक्षम बने इस लक्ष्य के साथ हम निकले हैं। ”हमारी सरकार बहुत इमानदारी से कोशिश कर रही है। देश के किसानों को हर साधन और संसाधन देने की कोशिश की जाए। साल २०२२ तक उनकी आय दोगुनी करने का काम चल रहा है। किसानों को सीधी मदद देने के लिए किसान सम्मान निधि की शुरुआत की गई है।”
उन्होंने कहा कि तकनीक के माध्यम से देशभर से जुड़े किसानों का अभिवादन करता हूं। आपको खुशी होगी कि गोरखनाथ की धरती से हो रहे इस कार्यक्रम से देश के दो लाख से अधिक गावों के किसान जुडे हुए हैं। ”गोरखनाथ की धरती पर अनेक बार आने का सौभाग्य मिला है। आज का दिन देश के इतिहास में दर्ज होने जा रहा है। लालबहादुर शास्त्री ने जय जवान जय किसान का नाार दिया था। इतने सालों के बाद किसानो के घर और जेब तक उतारने का काम किया गया है।”
मोदी ने कहा कि आाजदी के बाद किसानों से जुड़ी यह सबसे बड़ी योजना उप्र की पवित्र धरती से आरम्भ हो रही है। गोरखपुर के लोगों को तो दोहरी बधाई देता हूं क्योंकि वह किसान सम्मान निधि की शुरुआत के गवाह बन रहे हैं। ”आज ही गोरखपुर और पूर्वांचल के विकास से जुड़ी लगभग दस हजार करोड़ रुपए की परियाजनों का लोकार्पाण और शिलान्यास भी किया गया है।”
इस सभा में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी सरकार के मंत्री भी उपस्थित थे।