शिक्षा नीति-2019

0
567

प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में 09 दिसंबर, 2019 को एक संयुक्त बैठक आयोजन किया गया। बैठक में एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर राष्ट्रीय शिक्षा नीति (डीएनईपी) 2019 का मसौदे पर चर्चा की। चर्चा में कहा गया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति (डीएनईपी) 2019 भारतीय संस्कृति, दर्शन एवं ज्ञानतंत्र और भाषा की विविधता; संविधान के अनुच्छेद-14, 15(1) और 16 के तहत समानता, समाजिक न्याय और भेदभाव से मुक्ति के मौलिक अधिकार; अनुच्छेद-1(1) के तहत भारतीय राजनीति की संघीय संरचना और राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के अधिकार और संविधान के मूल मंत्र के अनुसार समाजवादी धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक गणराज्य के निर्माण के लिए आवश्यक अन्य संवैधानिक मूल्य और अनिवार्यताओं के िखलाफ है। यह प्रारूप शिक्षा प्रणाली से स्वायत्तता के हर आिखरी अंश को निकाल देता है और उच्च शिक्षा सहित सभी स्तरों पर पात्रता, प्रवेश और मूल्यांकन के मानदंडों के केन्द्रीकरण को बढ़ावा देता है। यह शिक्षण संस्थानों की बहुस्तरीय प्रणाली की जगह निजी राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी और मान्यता प्रक्रियाओं को लागू करने का प्रस्ताव करता है। जो तथाकथित स्वतंत्र प्रबंधन द्वारा चलाया जाएगा, जो संस्थानों के कामकाज में शिक्षकों, छात्रों और कर्मचारियों की किसी भी लोकतांत्रिक और प्रतिनिधि भागीदारी की अनुमति नहीं देता है। इसका मतलब यह है कि प्रतिगामी शासन को सुदृढ़ करने के लिए बहुमूल्य भारतीय संस्कृति और भाषा के आधिपत्य और जाति, वर्ग, पितृसत्ता, जाति धर्म, भाषा, जन्म स्थान और आमतौर पर निकाय में निहित बहुविध शिक्षा प्रणाली से है। जो शिक्षा के निजीकरण और निगमीकरण को बढ़ावा देने के लिए सार्वजनिक वित्त पोषित शिक्षा प्रणाली को कमज़ोर और ध्वस्त करता है। कम वेतन वाले कौशल (कौशल भारत मिशन) के लिए शिक्षा में कमी; और बहुजन (एससी, एसटी/ओबीसी/मुस्लिम/स्वछंद और परम्परागत आदिवासियों) का बड़े पैमाने पर बहिष्कार, खासतौर से मुनाफे के लिए लालायित वैश्विक पूँजी (कौशल भारत से मेक इन इंडिया के लिए) के लाभ के लिए सस्ती श्रम शक्ति के निर्माण के लिए लड़कियों को शिक्षा के क्षेत्र से बंचित करना है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (डीएनईपी) वास्तव में दोहरे समानांतर संवाद से स्वतंत्रता संग्राम में किये गये महत्त्वपूर्ण योगदान, जाति-विरोधी तर्क और साम्राज्यवाद-विरोधी तर्क और संविधान में वर्णित समस्त सामाजिक धार्मिक समुदायों के बीच एकजुटता से बनाये गये ऐतिहासिक भूमिका उप-महाद्वीप के विभिन्न हिस्सों की बहु-धार्मिक, बहु-जातीय और बहु-भाषी भारत (हिंदू राष्ट्र नहीं) के दृष्टिकोण को बनाने के तर्क को नकारता है। पूर्व के 484 पृष्ठ का डॉ. कस्तूरीरंगन समिति की ड्राफ्ट रिपोर्ट (जून 2019) को अब 55 पृष्ठ संस्करण (अक्टूबर 2019) में बदल दिया गया है। बाद के संस्करण को छल से बदला गया है, ताकि भारत सरकार के इरादे का भंडाभोड़ जनता द्वारा आसानी से नहीं किया जा सके। इस संस्करण को मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया जाना बाकी है। हमें देखना है कि दोनों संस्करण में क्या है?

शैशव संरक्षण एवं शिक्षा (ईसीसीई) और समावेश सार्वजनिक वित्त पोषित डोमेन में डीएनईपीई के सार्वभौमिक ईसीई (3-6 वर्ष आयु वर्ग के लिए) पर ज़ोर दिया गया है। हालाँकि, यह प्रगतिशील कदम लगता है। लेकिन यह चुटकी भर नमक का लेना है। जबकि सभी क्षेत्रों में यह व्यावसायीकरण को बढ़ावा दिया जा रहा है। इनका उद्देश्य बड़े पैमाने पर स्थानीय स्वयंसेवकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और परामर्शदाताओं’ की भर्ती करने की मंशा है। जो निस्संदेह सत्तारूढ़ औषधालय, विशेष रूप से आरएसएस के हैं, जिन्हें सार्वजनिक धन से समर्थन प्राप्त होगा। आरएसएस कैडर द्वारा स्कूलों से विश्वविद्यालयों तक में घुसपैठ करके शिक्षा प्रदान करने से है।

व्यवसायीकरण और विनियमन

हालाँकि डीएनईपी शिक्षा को सामाजिक अच्छा, सार्वजनिक खर्चों में वृद्धि और परोपकार, अवसरों की समानता और इतने पर शिक्षा के बारे में ज़ोर से बात करता है। यह शिक्षा में अनपेक्षित व्यापार को बढ़ावा देता है। यह न केवल निजी स्वामित्व वाले स्कूलों और कॉलेजों को फीस जमा करने की अनुमति देता है, बल्कि विश्व बैंक, आईएमएफ और डब्ल्यूटीओ के आदेशों के अनुसार, यह अनुशंसा करता है कि सरकारें निजी संस्थानों को विनियमित नहीं करेंगी; क्योंकि वे लाभ के लिए नहीं या सार्वजनिक हैं।

भेदभाव-आधारित स्कूल और बहुजनों का बहिष्कार

डीएनईपी ने पड़ोस के स्कूलों (सीएसएस-एनएस) पर आधारित कोठारी आयोग की सिफारिश को अनदेखा करने के लिए चुना है। सभी बच्चों के लिए 12वीं कक्षा तक सभी वर्गों, जातियों, धर्मों, लिंग, भाषा, जन्म स्थान आदि को खासतौर से, सीएसएस-एनएस 1968, 1986 और 1986 (1992 में संशोधित) को क्रमिक नीतियों द्वारा अनुशंसित किया गया था। इस प्रकार, डीएनईपी समाज के विभिन्न वर्गों के लिए बहुस्तरीय स्कूल प्रणाली को वैध करता है। इसके अलावा, यह कक्षा 9 या उससे भी पहले की शिक्षा के व्यावसायीकरण की सिफारिश करता है। व्यावसायिक और उदार पाठ्यक्रमों के बीच विकल्प के प्रावधान के साथ, बहुजन और यहाँ तक कि गरीब उच्च जाति के बच्चों (85 फीसदी से अधिक बच्चों की संख्या) चाहेंगे।

मातृभाषा मध्यम और संस्कृत के प्रभाव का खंडन

शिक्षा के माध्यम के रूप में मातृभाषा की डीएनईपी की सिफारिश कक्षा 5 तक सीमित है। इसे कक्षा 8 तक सहन किया जाता है और फिर जब सम्भव हो खंड जोडक़र सिफारिश को समाप्त कर दिया जाता है। यह उच्च शिक्षा के साथ-साथ सभी स्तरों पर संस्कृत को लागू करना चाहता है। जबकि गैर-हिन्दी भाषी राज्यों में छात्रों पर हिन्दी और संस्कृत लागू की जाएगी, संस्कृत को हिन्दी-भाषी राज्यों में तीन-भाषा की नीति के तहत लागू किया जाएगा।

पाठ्यक्रम और अनुसंधान का एकीकरण

डीएनईपी की सिफारिश है कि कोर सामग्री एनसीईआरटी द्वारा स्कूलों के लिए तैयार की जानी चाहिए और पूरे देश के लिए सामान्य शिक्षा परिषद् (जीईसी) द्वारा कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के लिए पाठ्यक्रम और क्रेडिट संरचनाएँ (55-पृष्ठ में गिरायी गयी जीईपी, संस्करण)। इसका तात्पर्य यह है कि राज्यों/संघ शासित प्रदेशों और उनके निकायों की पाठ्यक्रम सामग्री तय करने में बहुत कम भूमिका होगी (इस स्थिति को लेने में 55-पृष्ठ का संस्करण अप्रत्यक्ष है)। इसके अलावा, यह राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) की भूमिका का विस्तार करता है, जिससे स्कूल स्तर और उच्च शिक्षा दोनों में शिक्षा की सामग्री को नियंत्रित किया जा सकता है। इस प्रकार, एनटीए स्कूल शिक्षा के निकास द्वार और उच्च शिक्षा के प्रवेश द्वार को नियंत्रित करेगा। अंत में डीएनईपी नेशनल रिसर्च फाउंडेशन (एनआरएफ) को पूरे देश में एचईआई द्वारा किये जाने वाले शोध को नियंत्रित करने के लिए अनिवार्य करता है। निस्संदेह, यह विचार और ज्ञान उत्पादन के प्रतिगमन को बढ़ावा देगा, जो फासीवाद के लिए आवश्यक है।

संस्थागत स्वायत्तता पर हमला

एनईपी 2019 भी शिक्षा प्रणाली से स्वायत्तता को हर सम्भव समाप्त करता है और उच्च शिक्षा सहित सभी स्तरों पर योग्यता, प्रवेश और मूल्यांकन मानदंडों के ेकेन्द्रीकरण को बढ़ावा देता है। एक ही समय में, यह एक निजी राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी और प्रत्यायन प्रक्रियाओं का प्रस्ताव करता है, जो शिक्षण संस्थानों की एक बहुस्तरीय प्रणाली है, जो तथाकथित स्वतंत्र प्रबंधन द्वारा चलाया जाएगा, जो किसी भी लोकतांत्रिक और शिक्षकों, छात्रों और संस्थानों प्रतिनिधि की भागीदारी की अनुमति नहीं देता है।

जनवादी विकल्प और संघर्ष की कार्यसूची इस प्रकार है :

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019 के प्रारुप को वापस लिया जाए।

सभी स्तरों पर (पीपीपी और एफडीआई सहित) शिक्षा के निजीकरण और व्यावसायीकरण का उन्मूलन और पूरी तरह से राज्य द्वारा वित्त पोषित, पूरी तरह से स्वतंत्र और लोकतांत्रिक ढंग से संचालित सामान्य शिक्षा प्रणाली को केजी से पीजी ‘तक, यानी कॉमन स्कूल सिस्टम’ से दिया जाए। केजी से कक्षा सात तक, नेबरहुड स्कूलों पर आधारित और बहुभाषी सन्दर्भ में शिक्षा के माध्यम के रूप में मातृभाषा पर आधारित हो।

केजी से पीजी तक शिक्षकों की ठेकेदारी को समाप्त करना और उनकी नियुक्ति को नियमित करना।

शिक्षा में निर्णय लेने के केन्द्रीकरण को समाप्त करना और सीएबीई को राज्यों/केन्द्रशासित प्रदेशों के साथ लोकतांत्रिक परामर्श के मॉडल के रूप में फिर से स्थापित करना, जबकि शिक्षा को राज्य/संघ राज्य क्षेत्र की सूची में वापस लाना।

समानता और सामाजिक न्याय, स्वतंत्रता, बंधुत्व, लोकतंत्र, बहुलवाद, धर्मनिरपेक्षता और समाजवाद के संवैधानिक मूल्यों के आधार पर एक परिवर्तनकारी शिक्षा प्रणाली की स्थापना, जो ज्ञान के लिए वैज्ञानिक स्वभाव पैदा करती है, जिससे धर्म, जाति, जैसे सभी विषमताओं से मुक्ति मिलती है।

इस एजेंडे को हराने के लिए बौद्धिक कठोरता और ज्ञान आवश्यक होगा। हमें उच्च शिक्षा के स्कूलों और संस्थानों दोनों में असंतोष और संघर्ष के लिए लोकतांत्रिक स्थानों की रक्षा के लिए पूरी तरह से सूचित, तैयार और संगठित होना चाहिए, जो सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की गारंटी देगा।

जिसमें शिक्षा का अधिकार (एआईएफआरटीई) के लिए अखिल भारतीय मंच; आईसा; एआईएसएफ; अखिल भारतीय शांति और एकजुटता संगठन (एआईपीएसओ); एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक राइट्स (एएफडीआर), पंजाब; बीएपीएसए; भगत सिंह छात्र एकता मंच, दिल्ली; भीम सेना के छात्र संघ; छात्र एकता मंच, हरियाणा; सामान्य शिक्षक फोरम (सीटीएफ); सामूहिक; दयार-ए-शौक छात्र चार्टर, जामिया; दिल्ली शिक्षक की पहल; डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स यूनियन (डीएसपी); डेमोक्रेटिक स्टूडेंट ऑर्गनाइजेशन (डीओएस), पंजाब;  दिशा; डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट (डीटीएफ); डीवाईएफआई; खुदाई िखदमतगार; लोक शिक्षा मंच; निशांत नाट्य मंच; पीएसीएचएचएएस; पीडीएसयू; पिंजरातोड़; प्रगतिशील छात्र मोर्चा (पीएसएफ), हांसी, हरियाणा; पंजाब रेडिकल स्टूडेंट यूनियन (पीआरएसयू), पंजाब; लाल झंडा (पंजाब); समाजवादी युवजन सभा (एसवाईएस); एसएफआई; सामाजिक लोकतांत्रिक मोर्चे (एसडीएफ); दृष्टिहीन व्यक्तियों के लिए समाज; और सामाजिक न्याय के लिए युवा ने भागीदीरी किया।