कृषि कानून वापसी बिल संसद में ध्वनिमत से पास, अब राष्ट्रपति करेंगे मंजूर

कृषि कानून वापसी बिल सोमवार को संसद के दोनों सदनों में ध्वनिमत से पास हो गया है। अब इसे मंजूरी के लिए राष्ट्रपति को भेजा जाएगा। संसद में आज कृषि कानूनों को लेकर कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों की तरफ से जबरदस्त हंगामा किया गया. इसके चलते लोक सभा और राज्य सभा दोनों की कार्यवाही दो बार स्थगित की गर्इ।

अब संसद के दोनों सदनों में पास होने के बाद बिल को मंजूरी के लिए राष्ट्रपति को भेजा जाएगा। विपक्ष के जोरदार हंगामे के बीच लोक सभा और राज्य सभा में कानून वापसी बिल पास हुए।

विपक्ष चाहता था कि बिल पर चर्चा हो लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया। इसके विरोध में कांग्रेस सहित विपक्ष ने जबरदस्त हंगामा किया। बिल ध्वनि मत से पारित हुआ। इसके आज ही राज्यसभा में भी पेश करने की संभावना है।

इससे पहले सुबह संसद का शीतकालीन सत्र सोमवार को हंगामे से शुरू हुआ। विपक्ष के हंगामे के बीच लोकसभा और राज्य सभा को 12 बजे तक स्थगित कर दिया गया। उधर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में पार्टी के सांसदों ने कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग के साथ महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास विरोध प्रदर्शन किया।

बता दें सरकार की सत्र के पहले ही दिन लोकसभा में कृषि कानूनों की वापसी के लिए बिल पेश करने की तैयारी है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर लोकसभा में तीन मौजूदा कानूनों की वापसी का प्रस्ताव पेश करेंगे। उधर सदन शुरू होने से पहले कांग्रेस ने विपक्ष की बैठक कर इस मसले पर चर्चा की।

विपक्ष के कृषि कानूनों को लेकर हंगामा करने के बाद लोकसभा की कार्यवाही को 12 बजे तक स्थगित कर दिया गया है। लोकसभा में किसानों के मुद्दे पर विपक्ष के हंगामें पर स्पीकर ओम बिरला ने कहा कि पहला दिन है जनता देख रही है।