राज्यों में राहुल गांधी की पसंद के पिछले एक साल में अध्यक्ष बनने वाले सिद्धू चौथे नेता

राज्यों में कांग्रेस की लड़ाई के बीच बड़ी खबर यह है कि वहां अब लगातार राहुल गांधी की पसंद के नेता ही अध्यक्ष बन रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू ताजपोशी के बाद पिछले एक साल में राज्यों में अध्यक्ष बनने वाले राहुल गांधी की पसंद की चौथे नेता हैं। उनसे पहले तेलंगाना में कई दिग्गजों को किनारे कर राहुल के भरोसेमंद सांसद रेवंत रेड्डी, महाराष्ट्र में थोराट की जगह विधानसभा अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिलवाकर नाना पटोले और केरल में विधानसभा चुनाव में हार के बाद के सुधाकरण को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जबकि वीडी सतीशन को नेता प्रतिपक्ष बनाया गया है। राहुल केरल से ही सांसद हैं। पंजाब के बाद अब अन्य राज्यों के अलावा राजस्थान में भी सचिन पायलट समर्थकों में उम्मीद जगी है कि उनका मामला भी जल्द निपटा दिया जाएगा। यूपी में पहले ही दो बार के विधायक अजय कुमार लल्लू प्रदेश अध्यक्ष हैं जो प्रियंका गांधी की पसंद हैं।

तेजतर्रार और जनता में अपने भाषणों के तरीके से लोकप्रिय नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाकर और कार्यकारी अध्यक्षों के रूप में अपनी पसंद के नेताओं को जगह देकर आलाकमान ने बता दिया है कि पार्टी के फैसले करने का अधिकार किसका है। आलाकमान ने इसके लिए पर्याप्त समय लिया और पंजाब के सभी मंत्रियों, विधायकों और वरिष्ठ नेताओं से विस्तृत बातचीत की। कांग्रेस में राज्यों के इस फेरबदल में राहुल गांधी की छाप साफ़ दिख रही है।

हाल के महीनों में राज्यों के कांग्रेस नेता पार्टी आलाकमान को जिस तरह हलके से ले रहे थे, उनको भी पंजाब में सिद्धू को अध्यक्ष बनाकर इस जरिये सन्देश दे दिया गया है। पंजाब में ऐसा माना जाता है कि मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह उनका विरोध कर रहे थे। अब आलाकमान ने यह सन्देश दे दिया है कि मुख्यमंत्री का काम चुनाव के समय जनता से किये गए वादे पूरे करना है और संगठन में किसे क्या बनाना है, यह पार्टी आलाकमान का अधिकार है।

पंजाब में हाल के घटनाक्रम में कैप्टेन अमरिंदर सिंह को उनके ही उत्साही समर्थकों के दबाव बनाने की इरादे से मीडिया को दिए गए इस ‘फीडबैक’ से बड़ा नुक्सान पहुंचा है कि आलाकमान यदि ‘कैप्टेन की बात नहीं मानती है’ तो वह ‘भाजपा में जा सकते हैं’। पंजाब में किसान यदि किसी से सबसे ज्यादा खफा हैं तो वह भाजपा है। ऐसे में कैप्टेन अमरिंदर के भाजपा में जाने के शोर से सिर्फ उनका नुक्सान ही हुआ है।ऊपर से कांग्रेस के भीतर तक कैप्टेन से इस बात पर नाराजगी है कि पिछले चुनाव के कई वादे पूरे नहीं हुए हैं। यहाँ तक कि सिद्धू भी यह बात उठाते रहे हैं।

सिद्धू भाजपा से लगातार तीन बार अमृतसर से सांसद रहे हैं जो जनता में उनकी लोकप्रियता का प्रमाण है। सिद्धू जनहित के मुद्दों से समझौता करने वाले नेता नहीं माने जाते और सबसे बड़ी बात यह है कि पंजाब में उन्हें बादलों का कट्टर राजनीतिक विरोधी माना जाता है। यह बात कैप्टेन के मामले में नहीं कही जा सकती। उन्हें बादलों के प्रति ‘सॉफ्ट’ माना जाता है जिससे अकाली दल की सरकारों के समय ‘पीड़ित’ होने वाले कांग्रेसी नाराज रहते रहे हैं। उन्हें उम्मीद बंधी है कि सिद्धू के नेतृत्व में कांग्रेस ‘बादलों से मुक्त रहकर’ अपनी दबंग छवि बनाएगी।