पीएम चौकीदार नहीं, भागीदार : राहुल गांधी

राफेल डील में गड़बड़ हुई पीएम के कहने पर

0
990

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लोक सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर कहा कि मोदी सरकार जुमलों की सरकार है। आंध्र प्रदेश के प्रतिनिधि ने सदन में अपना जो दुःख बताया है वह पूरे देश का दुःख है। राहुल ने कहा कि जुमलों की सरकार का पहला उदहारण हरेक के खाते में १५ लाख डालना था। लेकिन हुआ क्या।

दूसरा जुमला था हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार का वादा। लेकिन पिछले चार साल में सिर्फ ४ लाख लोगों को रोजगार मिला। राहुल ने कहा यह मेरे नहीं लेबर ब्यूरो के आंकड़े हैं। जीएसटी ने छोटे व्यापारी को बरबाद किया। आपने बेरोजगारी फैला दी इससे और गरीबों की जेब में हाथ डालकर  उनका पैसा लूट लिया। जियो के इश्तहार पर पीएम का फोटो आ चुका है। यह वो शक्तियां हैं जो  इनकी मदद करती हैं। १०-२० बड़े बिजनसमैन हैं जिनकी यह मदद करते हैं। गरीबों के लिए आपके दिल में जगह नहीं है।

पीएम ने कहा था मैं देश का चौकीदार हूँ। मैं पीएम नहीं चौकीदार हूँ । लेकिन जब अमित शाह के पुत्र जयंत शाह पर आरोप लगा और कहा गया कि पीएम के मित्र (अमित शाह) के बेटे की आमदन एक महीने में १६००० गुना बढ़ा गयी तो पीएम चुप रहते हैं। इस बीच स्पीकर ने कहा जो सदन में नहीं उनकी नाम कार्यवाही से हटाने होंगे।

राहुल ने राफेल डील पर कहा डिफेंस मिनिस्टर यहाँ बैठी हैं। कहा था देश को जहाज की कीमत बताउंगी। डिफेन्स मिनिस्टर ने बाद में साफ़ बोला कि आंकड़ा नहीं दे सकती। क्योंकि दोनों देशों में सीक्रेट समझौता है। मैं फ्रांस के राष्ट्रपति से मिला। मैंने उनसे पूछा तो उन्होंने साफ़ कहा ऐसा कोइ सम्झौटा नहीं। जाओ पूरे देश को बताओ। राहुल ने कहा सीधे देश के पीएम के दबाव में आकर रक्षा मंत्री ने देश से झूठ बोला। पूछा – क्यों और किसकी मदद हो रही, देश को बताइये।

इस बीच भाजपा के विरोध के बाद स्पीकर ने कहा कि रक्षा मंत्री को वे अपना पक्ष रखने का अवसर देंगी। राहुल ने कहा कि रक्षा मंत्री ने देश से झूठ बोला। राहुल ने कहा दुनिया जानती है कि देश के पीएम किसके निकट हैं। राफेल डील पर देश को बताया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ”राफेल हवाईजहाज की हमारी डील में इसका दाम 520 करोड़ रुपये था, मगर पता नहीं क्या हुआ प्रधानमंत्री जी फ्रांस गये और जादू से हवाईजहाज का दाम 1650 करोड़ रुपये हो गया।”

पीएम एक्सप्लेन करें क्यों एचएएल से वापस लिया। पीएम को बताना चाहिए। मैं जनता हूँ पीएम मुस्कुरा रहे हैं। वे मेरी आँखों में झाँक नहीं पा रहे।

पीएम चौकीदार नहीं भागीदार हैं : राहुल

इस बीच भाजपा के अनंत कुमार ने राहुल के आरोप पर कहा कि वे ऐसा नहीं कर सकते। यह नियमों के खिलाफ है। पर राहुल ने कहा कि मैंने देश के सामने रख दिया है। राहुल ने कहा पीएम चौकीदार नहीं भागीदार हैं। हमारे पीएम चाइना के पीएम के साथ झूला झूल रहे थे तब चीन के सैनिक डोकलाम में घुसपैठ कर रहे थे। पीएम बिना एजेंडा चीन जाते हैं और डोकलाम पर चुप रहते हैं। आपमें दम नहीं है। हमारे सैनिक देश की रक्षा करते हैं आप झूला झूलते हैं। आप देश के गिनती के अपने मित्रों का कर्जा माफ़ करते हैं और अपने दोस्तों की जेब में पैसा डालते हैं।

इस बीच स्पीकर ने नसीहत देते हुए तथ्यों के साथ बोलने को कहा। उन्होंने कहा सब को बोलने का अधिकार है तथ्यों के साथ बोलने पर रोक नहीं। अनंत कुमार ने कहा राहुल जो बोल रहे उसके तथ्य सदन में रखने चाहियें। इस समय सदन में हंगामा देखने को मिला।

हंगामे के बीच स्पीकर ने सदन को स्थगित किया। पौने दो बजे तक सदन स्थागित किया।

स्पीकर ने सदन दोबारा शुरू होने पर कहा कि डीबेट अच्छी तरह से हो। राहुल से कहा आप नाम लेकर  आरोप लगाएं तो मंत्री को भी बोलने का अधिकार मिलता है। मैं सदन में इतने साल से हूँ। मैंने बड़े लोगों को सदन में बोलते सुना है। आरोप जिसपर हैं तो उसे बोलने का अधिकार है। सीधा डिफेंस मिनिस्टर पर आरोप हैं तो उन्हें बोलने का अधिकार देना होगा। आरोप के प्रूफ भी देने पड़ते हैं। गलत बात जहाँ होगी उसे कार्यवाही से हटाना होगा। भाषा और डेकोरम बनाकर रखें। पीएम के खिलाफ आंकड़े जो रखे हमें नहीं मालुम कितने सच। बाद में भाषण देखकर फैसला करूंगी।

राहुल ने दुबारा बोलना शुरू किया। किसानों के कर्ज माफी की बात उठाई। कर्नाटक सरकार ने एक ही बार में जो पीएम ने दिया उससे कहीं ज्यादा दिया। इसके बाद महिलाओं के लिए कहा कि एक विदेशी पत्रिका ने देश में महिलाओं की दुर्दशा के बारे में लिखा। हज़ारों साल से ऐसा नहीं हुआ। अब पहली बार देश की सरकार अपनी महिलाओं की इज्जत नहीं बचा पा रही। गैंग रेप होता है। देश की दुनिया में खराब छवि बन रही है। जहाँ भी देखो रेप की ख़बरें आ रही हैं। उनपर पूरे देश में अत्याचार हो रहा। दलितों, गरीबों, आदिवासियों पर अत्याचार हो रहे हैं। प्रधानमंत्री चुप रहते हैं। इससे देश की छवि खराब हो रही।

लगातार आक्रमक भाषण देते हुए राहुल ने कहा देश में जिस किसी को उठकर पीट दिया जाता है। पीएम चुप रहते हैं। इस बीच भाजपा के अनुराग ठाकुर और अन्य सदस्य शोर करने लगे। स्पीकर ने सबको चुप रहने को कहा। राहुल ने कहा जब ऐसी बात होती है फ़र्ज़ बनता है देश को बताएं। सत्तापक्ष का शोर चलता रहा। राहुल ने कहा जब भी किसी को पीटा, कुचला जाता है तो यह अंबेडकर  के संबिधान पर हमला होता है। जब आपके मंत्री संबिधान को बदलने की बात करते हैं तो देश के संबिधान की इंसल्ट करते हैं। हम ऐसा नहीं होने देंगे।

राहुल ने कहा कि पीएम और शाह अलग-अलग व्यकितत्व हैं। लेकिन एक चीज में दोनों एक जैसे हैं। दोनों सत्ता हारना नहीं चाहते। अभी जब स्थगन के दौरान में अंदर गया तो भाजपा के ही सदस्यों ने मुझे मेरी स्पीच पर बधाई दी। यही फीलिंग पूरे देश में है। अब अगले चुनाव में हम सब मिलकर प्रधानमंत्री को हराने जा रहे हैं। मेरे दिल में पीएम के खिलाफ गुस्सा है या नफरत नहीं है। मैं तो पीएम, भाजपा और आरएसएस का आभारी हूँ जिन्होंने मुझे हिन्दुस्तानी होने का अर्थ समझाया। वे लाठी मारें, झूठ बोले लेकिन देश के प्रति प्यार होना चाहिए। आपने मुझे हिन्दू होने का मतलब समझाया। आपने मुझे शिबजी का मतलब समझाया। आपका धन्यवाद। यह हमारे देश का इतिहास है। भाजपा को कहा – आपके लिए मैं पप्पू हूँ, लेकिन मेरे दिल में आपके लिए नफरत नहीं। मैं कांग्रेस हूँ। आपके दिल से नफरत बाहर निकालूंगा। आप सबको कांग्रेस में बदलूंगा।

राहुल गांधी के गंभीर आरोपों का रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने जवाब दिया। उन्होंने कहा कि 25 जनवरी 2008 को फ्रांस के साथ सीक्रेसी अग्रीमेंट कांग्रेस की ही सरकार ने किया था, हम तो इसे आगे बढ़ा रहे हैं। इस अग्रीमेंट में राफेल डील भी शामिल है। रक्षा मंत्री ने कहा कि जब कांग्रेस की सरकार थी उस समय तत्कालीन रक्षा मंत्री एके एंटनी ने फ्रांस की सरकार के साथ सीक्रेसी अग्रीमेंट्स किया था। उन्होंने कहा कि अब कांग्रेस के अध्यक्ष जब फ्रेंच प्रेजिडेंट से मिले तो क्या बात हुई, नहीं पता। आपको बता दें कि पूरा मामला राफेल की कीमत को लेकर है। कांग्रेस का आरोप है कि मोदी सरकार ने प्लेन की कीमत बढ़ा दी।

रक्षा मंत्री ने आगे फ्रेंच प्रेजिडेंट द्वारा एक भारतीय मीडिया समूह को दिए इंटरव्यू का हवाला देते हुए कहा, ‘सवाल का जवाब देते हुए फ्रांस के राष्ट्रपति ने साफ कहा था कि आपके साथ (भारत से) कॉमर्शल अग्रीमेंट्स हैं और आपके पास प्रतिद्वंद्वी भी हैं और ऐसे में हम आपको डील की डीटेल नहीं दे सकते हैं।’

राहुल ने कहा कि कुछ ही दिन पहले एक नया जुमला स्ट्राइक हुआ। ये एमएसपी का जुमला था। प्रधानमंत्री ने पूरे देश में 10 हजार करोड़ का फायदा दिया है और कर्नाटक की सरकार ने सिर्फ एक प्रदेश में 34000 करोड़ रुपये का फायदा दिया। उन्होंने कहा कि किसान कहता है प्रधानमंत्री जी आपने हिंदुस्तान के सबसे अमीर लोगों का ढाई लाख करोड़ का कर्जा माफ किया हमारा भी थोड़ा कर्ज माफ कीजिये। लेकिन वित्त मंत्री कहते हैं नहीं किसानों का कर्जा माफ नहीं होगा।

अपना भाषण ख़त्म करके राहुल प्रधानमंत्री के पास गए और कुछ शब्द कहे और लौटे। मोदी ने उन्हें वापस आने का इशारा किया। फिर लौटे राहुल मोदी के गले मिले और उनसे हाथ मिलाया। मोदी ने भी मुस्कुरा कर उनकी पीठ पर हाथ रखा।

राहुल के खिलाफ विशेषधिकार हनन का नोटिस देगी भाजपा

इस बीच संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने बताया है कि राहुल के खिलाफ पार्टी सदन में विशेषधिकार हनन का नोटिस देगी। उन्होंने राफेल पर राहुल के आरोपों को संसदीय नियमों का उल्लंघन बताया और कहा कि उनके आरोप तथ्यों पर आधारित नहीं। कहा कि राहुल ने नियमों को पानी में बहा दिया।

उधर सदन में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि देश को भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी पर विश्वास है। उन्होंने अविश्वास प्रस्ताव को देश की जनता के बहुमत का मजाक बताया। कहा जिस नेता के कहने पर लोगों लोगों ने एलपीजी सिलिंडर गरीबों को देने के लिए सब्सिडी छोड़ दी। उन्होंने कहा कि जनता का भरोसा कुछ कष्टों के बावजूद भाजपा और मोदी पर है। उनसे पहले समाजवादी पार्टी के मुलायम सिंह यादव ने भी कुछ मुद्दों पर सरकार की खिंचाई की।

अब हो सकता है कि अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग के समय कांग्रेस सदन से वाकआउट करे क्योंकि टीडीपी का अविश्वास प्रस्ताव आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जे पर था।