मोदी का बघनखा बनाम राहुल का व्याकरण

0
231

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लोकसभा में दिया गया भाषण इस बात की ओर संकेत करता है कि आगामी चुनावों में अपनी जीत के प्रति आश्वत नहीं हैं। वे राष्ट्रपति के बजट अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि कोई भी लोकतंत्र मिलावटी व्यवस्था को स्वीकार नहीं करेगा। इससे पूर्व वे यह भी कह चुके थे कि अब तो ‘महामिलावट’ आने वाला है। इससे स्पष्ट है कि उनके मन में कई तरह की आशंकाएं हैं।

मुझे इस बात की खुशी है कि फिसल कर ही सही प्रधानमंत्री की जुबान से यह बात निकली। यह इसलिए सुखद है कि हमारे प्रधानमंत्री असलियत से नावाकिफ़ नहीं हैं। मैं तो अब तक समझता था कि मोदी को ज़मीनी सच्चाई का पता ही नहीं है और ऐसा नहीं है कि वे अनजान होने का ढोंग भर रहे हैं। इसलिए यह देश के लिए राहत की बात है कि प्रधानमंत्री को सब पता है। वे जानते हैं कि उनकी लोकप्रियता चरमरा गई है। वे जानते हैं कि उनके साथ भारतीय जनता पार्टी डूब रही है। आप ही बताइए कौन सी स्थिति ज़्यादा खतरनाक होती। वह कि प्रधानमंत्री माने बैठे हैं कि उनका सिंहासन अडिग है। या वह कि प्रधानमंत्री को अहसास है कि पाए बुरी तरह हिल चुके हैं।

ज़ाहिर है कि अपने स्वर्ग में रह रहे एक प्रधानमंत्री से वह प्रधानमंत्री बेहतर है जो यथार्थ की मुंडेर पर खड़ा है। अपने में ही मस्त रहने वाले प्रधानमंत्री को अगर आगामी लू की लपटों का अहसास हो गया है तो मैं तो इसे अच्छा लक्षण मानता हूं। दूसरों को ठेंगे पर रखने वाले प्रधानमंत्री को अगर आगे की ऊबड़-खाबड़ राह दिखने लगी है तो मैं तो इसे सकारात्मक संकेत मानता हूं। लेकिन मैं थोड़ा डरा हुआ भी हूं। इसलिए कि यह तो मोदी पर ही निर्भर करता है कि अपने इस अहसास को वे भारतीय लोकतंत्र का शास्त्रीय नृत्य बनने देंगे या उनमें जागा यह आत्मबोध हमें अपने प्रधानमंत्री की तांडव मुद्राओं का दर्शन कराएगा। क्योंकि अगर नरेंद्र भाई अपनी गुदगुदी रजाई में ही बैठे होते तो कम से कम इतना तो होता कि वे कुछ भी ठीक करने की कोशिश नहीं करते और जो होना था हो जाता। मगर अब तो उन्हें मालूम हो गया है कि महागठबंधन उनकी देहरी तक पहुंच गया है इसलिए वे इस ‘महामिलावट’ से अपनी रसोई को बचाने के लिए सब कुछ करने में कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे। और हमने देखा है कि जब हमारे प्रधानमंत्री चीज़ों को दुरुस्त करने पर आमादा हो जाते हैं तो आगा पीछा सोचे बिना ऐसी तलवार भांजते हैं कि मुल्क़ का रोआं-रोआं ज़ख्मी होकर कितना ही विलाप करे वे अपने कानों पर कोई जूं नहीं रेंगने देते हैं। पौने पांच बरस में अपने प्रधानमंत्री की हंटरबाज़ी से देश की देह पर पड़े फफोले अब तक रिसते हम देख ही रहे हैं।

ऐसे में ‘चोरों से निपटने’ के लिए हर कीमत पर अपनी हुकूमत वापस लाने की ताब ने हमारे ‘गऱीबनवाज़’ प्रधानमंत्री को अगर अपने इरादों के घोड़े पर सवार कर दिया तो समझ लीजिए कि इस बार के लोकसभा चुनाव तक बचे इन महीनों में भारत वह सब देखेगा जो उसने कभी नहीं देखा होगा। महागठबंधन की आहट सुन लेने के शब्द भले ही नरेंद्र भाई की ज़ुबान ने बत्तीस दांतों का पहरा तोड़ कर बाहर ठेल दिए मगर इसका मतलब यह नहीं है कि उनमें इस सच्चाई का सामना जनतांत्रिक तरीके से करने की नैतिक उदारता भी घुल गई है। उनके पोर-पोर में वह विचार मौजूद है जिसे अक्षरश: लागू करने में ही वे अपना जन्म सफल मानते हैं। लोकतंत्र की उनकी अपनी परिभाषा है समाजतंत्र की उनकी अपनी परिभाषा है और जन-जीवन में अनुशासन की उनकी अपनी परिकल्पना है। अपने सपनों का भारत बनाने के लिए वे भारत के किसी भी सपने को क़ुर्बान करने में कतई हिचक नहीं दिखाएंगे।

इसलिए हम सभी तुच्छ देशवासियों के लिए यह समय अपने पराक्रमी प्रधानमंत्री की एक-एक पदचाप पर गहरी निगाह रखने का है। पलक झपकी नहीं कि नरेंद्र भाई अपनी वापसी का रास्ता साफ कर लेंगे। वे तो आंखों में धूल झोंक कर मंजिल पर प्रकट होने की विद्या जानते हैं। सोए उनींदे पहरेदारों की बगल से तो वे चुटकी बजाते गुजऱ जाएंगे। ममता बनर्जी के सत्याग्रही धरनों अरविंद केजरीवाल के जिद्दी अभियानों चंद्राबाबू नायडू के सूक्ष्म जंजालों शरद पवार की कुशाग्र डुबकियों शिवसेना के जटिल गलियारों और प्रियंका गांधी के आगमन से कांग्रेस में आई तीक्ष्णता को भोथरा करने का जो विज्ञान हमारे प्रधानमंत्री के पास है वह नियमों और परंपराओं की किसी भी दीवार से बंधा हुआ नहीं है। असली चिंता यही है।

आगामी आम चुनाव के कुरुक्षेत्र में नरेंद्र भाई के रथ को रोकने के लिए देश के चारों कोनों से वैचारिक समानता के सिपाही निकल तो पड़े हैं लेकिन उन्हें भाजपा के इस वाजिब प्रश्न का उत्तर भी देना होगा कि आखिऱ उनका अखिल भारतीय सेनापति कौन है। जिन्हें लगता है कि मोदी के जानबूझ कर फेंके इस जाल में फंसने से बेहतर है सवाल की अनदेखी वे ग़लती पर हैं। पूरे चुनाव को दो विचार समूहों के बजाय दो व्यक्तियों के बीच चयन का मुद्दा बनाने की नरेंद्र भाई की चाल किसी को कितनी ही डरावनी लगती हो मुझे तो लगता है कि उनकी यह गेंद महागठबंधन को तुरंत लपक कर राहुल गांधी की तरफ  लुढ़का देनी चाहिए।

इसलिए कि जब बाकी सब के पास मज़ाक और उपहास था राहुल के पास दृढ़ता थी। मई 2014 में शुरू हुए मोदी युग के बाद एक साल पहले तक हम सब को लग रहा था कि इस युग ने अवाम से उसका लड़ाकूपन बड़ी कामयाबी से छीन लिया है। आज अगर यह लड़ाकूपन लौटा है तो उसमें राहुल की अनवरत दृढ़ता का सबसे बड़ा योगदान है। उन्होंने नरेंद्र मोदी के ‘चरखावतार’ का पर्दाफ़ाश किसी भी और से ज़्यादा शिद्दत के साथ किया। मोदी का लात खा कर लस्तपस्त पड़ी कांग्रेस को जब सोनिया गांधी फिर अपने पैरों पर खड़ा कर रही थीं तो राहुल ने अपने संगठन को वैचारिक और सांस्कृतिक तानाशाही के खि़लाफ़ लडऩे के लिए तैयार करने में अपनी महती भूमिका अदा की।

आज के राहुल में जो तेवर हैं उन्हें देख कर कोई भी मानेगा कि अगर अगला आम चुनाव ‘मोदी बनाम राहुल’ हो जाए तो नरेंद्र भाई बुरी तरह थर्रा जाएंगे। मैं जानता हूं कि पूरा संघ कुनबा किस तरह इस कोशिश में लगा है कि कहीं लोकसभा चुनाव मोदी राहुल के बीच चयन की जंग न बन जाए। क्योंकि मोदी की परछाईं से भयभीत देश को राहुल के साए में सुकून नजऱ आने लगा है। क्योंकि नरेंद्र भाई बघनखे के साए में सहमा देश बैर भाव के बिना सियासत का शाश्वत व्याकरण साधते राहुल की गोद में अपने को ज़्यादा सुरक्षित महसूस करने लगा है। यही आम चुनाव का जीव द्रव्य है। नरेंद्र भाई तो इसे समझ गए हैं  महागठबंधन के क्षत्रप इसे जितनी जल्दी समझ जाएं उतना ही

बेहतर!

लेखक न्यूज़ व्यूज़ इंडिया के संपादक और कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी हैं।