मैक्सिको

0
255

Team_Page_04-


विश्व रैंकिंग: 20
सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनअंतिम आठ (1970, 86)

खास बात
मैक्सिको लगभग हमेशा ही ग्रुप स्टेज (प्रथम चरण) को पार करने में सफल रहा है लेकिन नॉकआउट दौर (सोलह टीमों वाला दूसरा चरण) में पहुंचकर यह टीम हमेशा लडखड़ा जाती है. कोच हेक्टर हरेरा ने इस बार ओरिब पेराल्टा को लेकर बेहद आक्रामक रणनीति तैयार की है. संभव है कि इस बार मैक्सिको नॉकआउट का दुष्चक्र तोड़ दे

मैक्सिको का दुर्भाग्य है कि ऐन विश्व कप से पहले उसके चोटिल खिलाड़ियों की लिस्ट लंबी होती जा रही है. इस सूची में सबसे प्रमुख नाम हैं मिडफील्डर जुआन कार्लोस मेडिना और लुइस मोंटेस. बावजूद इसके मैक्सिको के पास अग्रिम पंक्ति और रक्षा पंक्ति (डिफेंडर) दोनों में कुछ बेहद अच्छे खिलाड़ी मौजूद हैं. डिफेंडरों की बात करें तो हेक्टर मोरेनो और रफेल मार्केज के नाम लिए जा सकते हैं. इसी प्रकार ओरिब पेराल्टा के रूप में मैक्सिको के पास दुनिया के कुछेक बेहतरीन फॉरवर्ड में से एक मौजूद है. ग्रुप मैचों में मैक्सिको की सबसे बड़ी चुनौती होगी ब्राजील के साथ टक्कर. मिडफील्ड की कमजोरी और ब्राजीली समर्थकों के कानफोड़ू समर्थन के बीच मैक्सिको को चमत्कार की पूरी उम्मीद है. मौजूदा टीम के ज्यादातर खिलाड़ी वही हैं जिन्होंने 2012 के ओलंपिक फुटबॉल के फाइनल में ब्राजील को मात दी थी. ओलंपिक विजय में टीम के गोलकीपर जीसस करोना की भूमिका अहम थी. टीम के कोच मिगुएल हरेरा की सारी रणनीतियां गोलकीपर करोना के इर्द-गिर्द ही बुनी गई हैं. टीम के दूसरे महत्वपूर्ण खिलाड़ी स्ट्राइकर जेवियर हर्नांडिज हैं. हर्नांडिज इंगलिश प्रीमियर लीग में प्रतिष्ठित क्लब मैनचेस्टर युनाइटेड के लिए खेलते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here