महा’ चक्रवात: मुंबई से सटे पालघर मे अलर्ट ! गुजरात में एनडीआरएफ तैनात।

0
543

भूकंप के झटकों से उबर रहे पालघर अब ‘महा’ चक्रवात के चपेट में आने को है।अरब सागर में बने तूफानी ‘महा’ चक्रवात के मद्देनजर मुंबई से सटे सागर किनारे बसे पालघर के नागरिक परेशान हैं,डरे डरे से हैं।

एहतियातन तौर पर आज 6 नवंबर से 8 नवंबर तक स्कूल कॉलेज बंद रखने के आदेश जारी किए गए हैं। सारी सरकारी एजेंसी अलर्ट मोड पर हैं।

मछुआरों को चेतावनी दी है किक वह अगले 2-3 दिनों तक मछली पकड़ने समंदर में ना जाएं। जो मछुआरे समंदर में गए हैं उन्हें भी तुरंत लौटा इमेज कहां गया है नागरिकों से कहां गया है कि जरूरत पड़ने पर ही घर से निकलें।

पालघर में टूरिस्टो का भी जमावड़ा रहता है इसे देखते हुए समुद्र के किनारे होटल और रिसॉर्ट में रह जाए लोगों को होटल खाली करने का निर्देश दिया गया है। ये होटल और रिसॉर्ट अगले 3 दिनों तक बंद रहेंगे।

पालघर जिले के तटीय इलाकों में बसे 67 गांवों में
एहतियातन तौर अस्थाई तौर पर आवासीय व्यवस्था की गई है। स्कूल के अधिकारी व कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। डॉक्टरों की टीम और फायर ब्रिगेड डिपार्टमेंट अलर्ट हैं।

समुद्री किनारे में बसे होने की वजह से यहां का मुख्य व्यवसाय मत्स्य उद्योग है। जानकारी के मुताबिक पालघर में पौने तीन हजार के करीब बोट हैं। जिनका मुख्य इस्तेमाल मछली पकड़ने में किया जाता है इनमें से लगभग 288 समुद्र में जा चुकी हैं। चिंता की बात यह है कि 138 बूट समंदर 10 मिलीलीटर चली गई हैं। प्रशासनिक इकाइयां उनकी वापसी में लगी हुई हैं ताकि किसी अनहोनी घटनाओं के चपेट में आने से बच जाएं।

वहीं दूसरी ओर महाराष्ट्र से तटीय इलाकों को बांटने वाले गुजरात भी हाई अलर्ट मोड पर है। मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती तूफान ‘महा’ केंद्र शासित प्रदेश दीव के पास गुजरात तट पर गुरुवार को टकराने से पहले कमजोर होकर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। इससे गुजरात के अलग अलग हिस्सों में भारी बारिश होने के साथ साथ में 90 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं।’महा’ चक्रवात पोरबंदर तट से पश्चिम-दक्षिण पश्चिम में करीब 650 किलोमीटर और अरब सागर में वेरावल के पश्चिम-दक्षिण पश्चिम में 700 किलोमीटर दूरबताया जा रहा है जो पूर्व-उत्तर पूर्व की ओर बढ़ सकता है। इसके तेजी से कमजोर पड़ने पर यह सात नवंबर की सुबह चक्रवाती तूफान बनकर दीव के पास गुजरात तट को पार कर सकता है। इस दरम्यान 70-80 से ल 90 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं।

मौसम विभाग का मानना है कि सात नवंबर को जब ‘महा’ चक्रवात जब तट पर टकराएगा तो, भावनगर, सूरत, भरूच, आणंद, अहमदाबाद, बोटाद और वडोदरा में सात नवंबर को भारी बारिश के साथ मौसम तेजी से बदल सकता है। एहतियातन तौर पर इन इलाकों में नीवी व एनडीआरएफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं।