भूख का सिस्टम

मनीषा यादव
मनीषा यादव
मनीषा यादव

डॉक्टरों के कमरे में यह वाली प्रार्थना इतनी बार की जाती है कि यदि कभी झाड़ू मार कर प्रार्थनाओं को बुहारने की कोई तकनीक निकल आए तो उनके चैंबर से रोज बड़ा-सा ढेर इसी प्रार्थना का निकले. मैं खुद भी नहीं जानता परंतु यदि चिकित्सा क्षेत्र में बहते, लहराते हुए टॉनिकों के इस दरिया की कभी नपती की जा सके तो मामला जरूर अरबों रुपये का निकलेगा. इनमें से ज्यादातर वे टॉनिक होंगे जिनकी मरीज को जरूरत ही नहीं होती. प्राय:इन इधर-उधर के टॉनिकों को लेते-लेते मरीज इतनी देर कर देता है कि उसकी बीमारी पकड़ में आते-आते बहुत देर हो चुकी होती है. याद रहे कि भूख न लगना, स्वयं में किसी तरह की बीमारी नहीं है लेकिन यह अन्य बीमारियों का लक्षण जरूर है. भूख खत्म करने वाली इतनी बीमारियां हैं कि कोई सहृदय, सक्षम और चुस्त डॉक्टर ही उसकी जड़ तक पहुंच सकता है. भूख अर्थशास्त्रियों के लिए जितना जटिल विषय है उससे जटिल यह चिकित्साशास्त्र के लिए है.

पहले तो यह समझ लें कि हमें भूख क्यों लगती है? यूं मान लें कि ईश्वर चाहता है कि आपके जीवन का कार्य-व्यापार चलता रहे. इसलिए भूख लगती है. आप जीवन में जो भी काम करते हैं (इसमें श्वास और हृदय का लगातार चलते रहना भी शामिल है) उसके लिए ऊर्जा की जरूरत होती है. आप रात-दिन शारीरिक ऊर्जा खर्च कर रहे हैं लेकिन इसे आप पाएंगे कहां से? भोजन से. ईश्वर चाहता है कि आप भोजन करें. आपको ऊर्जा मिले. यह जीवन चले. इधर मनुष्य मूलत: आलसी प्राणी है. ईश्वर को पता है कि यदि इसे भोजन की तड़प पैदा न हो तो यह तो पांव फैलाकर लेटा रहेगा. तभी भगवान ने भूख पैदा की. जो प्रगतिशील शायर शिकायत करते फिरते हैं कि खुदा, तूने भूख पैदा ही क्यों की…तो बेटा वह इसलिए ताकि तुझमें जिंदा रहकर शायरी करने की ऊर्जा बची रहे. भूख एक जीवनरक्षक प्रणाली है. हर जीव में यह अपनी तरह से काम करती है. हम मनुष्य की इसी भूख की चर्चा करेंगे.

याद रहे कि चिकित्सा विज्ञान को अभी भी इस बात का अंतिम उत्तर नहीं मिला है कि हमें भूख क्यों लगती है? कुछ मोटा-मोटी बातें पता हैं जिन्हें मैं यहां आपको बताता हूं. भूख को समझेंगे तो मेरी आगे आने वाली बाकी बातें आपकी समझ में आएंगी. वास्तव में भूख मन और मस्तिष्क का खेल है. आपका मस्तिष्क भूख पैदा करता है पेट नहीं. भरपेट भोजन के बाद यही आपको तृप्ति भी महसूस कराके आगे खाने से रोकता है. और मन का खेल अलग है. वह अपनी पर आ जाए तो मस्तिष्क भी उसके बस में. मन का मतलब है आपका चेतन तथा अवचेतन मानसिक जगत. यह मनोवैज्ञानिक पथ है भूख का. तभी तो पचासों ऐसी मनोवैज्ञानिक बीमारियां हैं जिनमें भूख लगनी बंद हो सकती है. शरीर स्वस्थ्य और मन बीमार तो भी भूख लगनी बंद हो सकती है. तो भूख मन के कब्जे में है. हां, इसका कंट्रोल स्टेशन बना है मस्तिष्क के हाईपोथैलेमस नामक हिस्से में. एक बेहद जटिल-सा कंप्यूटर है आपका मस्तिष्क. इसमें हाईपोथैलेमस नामक ड्राइव में दो प्रोग्राम बने हुए हैं. एक हिस्से में भूख महसूस होने का प्रोग्राम है तो दूसरे में तृप्ति का. इन्हीं को चिकित्सा की तकनीकी भाषा में क्रमश: ‘हंगर (Hunger) ‘ और सेटाइटी (Satiety) सेंटर्स कहा जाता है.

मस्तिष्क में भूख तथा तृप्ति को महसूस करने के ये केंद्र एक जटिल संतुलन में काम करते हैं. यहां प्रश्न यह भी उठता है कि इन केंद्रों को कंट्रोल करने का खटका किसके हाथ है?  कौन है जो इनको चलाता, बंद करता, कम-ज्यादा करता है? सच तो यह है कि यह रहस्य पूरी तरह से खुला ही नहीं है. शरीर में बहुत से हार्मोंस हैं. मेटाबोलिक पदार्थ हैं, तंत्रिकाएं हैं, मस्तिष्क के अन्य हिस्से भी हैं. कंट्रोल का काम ये सब मिलकर करते हैं. इतने कंट्रोल हैं साहब, तब तो बहुत छीनाझपटी का माहौल रहता होगा हाईपोथैलेमस के आसपास! कोई खटका दबा रहा है तो कोई उलटा या सीधा घुमा रहा है. पर ऐसा नहीं होता है. सब नियम से चलता है. भगवान के बनाए सिस्टम में यही एक बात मनुष्य से अलग है कि उसमें एक जटिल अनुशासन होता है. हर कंट्रोल सिस्टम को पता है कि उसे क्या तथा कितना कंट्रोल करना है. इसीलिए कोई आपाधापी नहीं होती. हां, जब होती है तब शरीर बीमार हो जाता है.

हाईपोथैलेमस को अपनी तरह से कंट्रोल करने वाले ये सारे हार्मोन आदि कहां से आते हैं? दरअसल ये विभिन्न पदार्थ शरीर में विभिन्न स्थानों से पैदा होकर रक्त में प्रवेश करते हैं. मैं इनके तकनीकी  नाम लेकर कोई भ्रम नहीं पैदा करूंगा. कठिन-कठिन से नाम लेकर पाठकों पर अपने ज्ञान का आतंक पैदा करने का सुनहरा अवसर छोड़ रहा हूं. ऐसा समझ लें कि कुछ पदार्थ आमाशय में बनते हैं, कुछ छोटी आंत में, कुछ पैंक्रियाज आदि में. कुछ तो आपकी चर्बी से पैदा होते हैं. फिर पेट खाली होने पर अमाशय तथा आंतें पिचक जाती हैं. अंदर से इस प्रकार एक संदेश वेगस नामक तंत्रिका द्वारा मस्तिष्क को भेजा जाता है कि साहब यहां पेट खाली पड़ा है, तनिक इस आदमी को याद तो दिलाओ कि कुछ खाए. भूख लगना आपको यह याद दिलाता है कि पेट खाली है.

भूख पर असर डालने वाले ये सारे पदार्थ तथा तंत्रिकाएं दो तरह से काम करते हैं- या तो ये हाईपोथैलेमस का भूख बढ़ाने वाला खटका दबा देते हैं या फिर तृप्ति पैदा करने वाला. इधर मन भी अपना काम करता रहता है. मन के अलावा फिर आपकी आदतें, भेजना को लेकर बचपन से आजतक का सांस्कृतिक पारिवारिक माहौल भी अपना असर डालते हैं. मां की बनाई कोई पसंदीदा डिश क्योंकर जीवनभर में कभी-भी आपकी भूख बढ़ा देती है? …तो ये सारे असर हाईपोथैलेमस पर पड़ते हैं जो भूख पैदा करता है या भूख मारता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here