बरसाती आपदा से निपटने के लिए तैयार है सरकार- सीएम फडणवीस

लगातार बारिश के चलते मुंबई और महाराष्ट्र का जीवन अस्त-व्यस्त। रेड अलर्ट जारी

0
955

मुंबई और पास के जिलों में भारी बारिश के कारण बने हालात से निपटने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने रविवार को एनडीआरएफ के छह और दलों की मांग की। चीफ़ मिनिस्टर देवेन्द्र फड़णवीस ने बताया कि बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी)व आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ पूरी तरह तैयार है। सभी मिलकर शहर तथा मुंबई महानगर क्षेत्र में हालात की निगरानी कर रहे हैं। सीएम के अनुसार राज्य सरकार एनडीआरएफ, थल सेना, नौसेना और अन्य एजेंसियों के संपर्क में है

पिछले 2 दिनों से हो रही लगातार हो रही बारिश के कारण मुंबई नवी मुंबई ठाणे और आसपास के इलाकों में पानी भर गया है जिसकी वजह से जन जीवन बुरी तरह से अस्त-व्यस्त है। एहतियातन के मद्देनजर प्रशासन ने नागरिकों से अनुरोध किया है कि बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकले।

बारिश की वजह से हवाई सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं प्रभावित हुई हैं। कई उड़ाने रद्द कर दी गई हैं। सबसे ज्यादा परेशानी लोकल ट्रेन और बस ऑटो प्राइवेट गाड़ियां से यात्रा करने वालों को हुईं। जलजमाव के कारण बसें ऑटो रिक्शा,बस गाड़ियां लंबे समय तक फंसी रहीं।

जहां तक मुंबई की मुंबई की लाइफ लाइन लोकल ट्रेन की बात करें तो वह बरसात की वजह से की बात करें तो वेस्टर्न रेलवे सेंट्रल रेलवे और हार्वर रेलवे सभी बारिश की वजह से प्रभावित रही। सबसे ज्यादा असर सेंट्रल और हार्वर रूट की ट्रेनें हुई अंखियों में पानी भर जाने की वजह से ट्रेन जगह-जगह पर रुकी रही और कई गाड़ियां कैंसिल करनी पड़ीं।

सीएसएमटी- वाशी के बीच (हारबर) लोकल सेवा बंद है।कल्याण बदलापुर रेलवे ट्रैक पर जाने की वजह से अंबरनाथ -करजत (सेंट्रल) लोकल ट्रेन बंद पड़ी हैं। वेस्टर्न रेलवे फिलहाल चल रही है।कसारा रेलवे स्टेशन में पानी भरने की वजह से लंबी दूरी की ट्रेन रुकी पड़ी हैं।मुंबई -हैदराबाद एक्सप्रेस, सिंहगढ़, दुरंतो ,कोणार्क, अमृतसर एक्सप्रेस रोकी गई है।

शेलू और नेरल के बीच रेलवे लाइन में पटरियों के नीचे से खड़ंजे बह गये जिसके कारण रेलवे सेवाएं रोक दी गई है। पटरियां पानी में डूबने से मध्य रेलवे सेवाएं थम गई है।

शनिवार की रात से सुबह पांच बजे तक मुंबई के कुलाबा में 120.8 मिलीमीटर बारिश हुई। जबकि सांताक्रुज में 173.0 मिलीमीटर बारिश हुई है। मौसम विभाग की ओर से आनेवाले 48 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। पिछले 2 दिनों से मुंबई में लगातार मूसलाधार बारिश होने से जलभराव हो गया है। इसके अलावा मौसम विभाग ने दोपहर में हाई टाइड की भी चेतावनी दी है।

पालघर में नदी में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है।

24 घंटे से शाहपुर में जोरदार बारिश की वजह से भातसा डैम ओवरफ्लो हो गया है। ऐतिहातन तौर आस पास के इलाकों की इलेक्ट्रिक सिटी बन्द कर दी गई है।

कसारा घाट में सड़क के किनारे की पहाड़ी दरकने से ने से वह एक हिस्सा गिरने से नासिक- मुंबई एक्सप्रेस हाईवे की आवाजाही प्रभावित हुई है। दक्षिण की काशी के नाम से मशहूर नासिक भी मूसलाधार बारिश की चपेट में है। तेज बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त है । गोदावरी नदी का जलस्तर बढ़ जाने की वजह से आसपास के मंदिर भी पानी में डूबे नजर आ रहे हैं। आसपास के निचले इलाकों में घर-घर में पानी भर गया है। सुरक्षा के मद्देनजर प्रशासन ने लोगों को स्थान का स्थानांतरित होने कहा है।कोल्हापुर में भी मूलाधार बारिश की वजह से पंचगंगा नदी में बाढ़ आ गई है।

ठाणे के में भारी वर्षा की वजह से एक अपार्टमेंट में 70 परिवार फंस गए थे जिन्हें हेलीकॉप्टर की मदद से बाहर निकाला गया है।

वसई के मिठागर परिसर में तकरीबन 400 परिवार की फंसे होने की खबर के बाद इन परिवारों की मदद के लिए एनडीआरएफ की टीम भेज दी गई है। और बचाव कार्य अपने जोरों पर है। ई मंडी इलाके में भी पानी भर जाने की वजह से जनजीवन प्रभावित हो गया है भिवंडी के भी कई इलाकों में पानी भर जाने की वजह से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। कुर्ला धारावी मिठी नदी से लगे इलाकों में भी मिठी नदी में पानी के उफान के चलते सुरक्षित स्थानों पर नगर वासियों को पहुंचा दिया गया।

पुणे में बारिश की वजह से सारे डैम ओवरफ्लो हो गए हैं। खड़कवासला पानशेत और परस गांव डैम के पानी छोड़ देने और बारसाती पानी की वजह से शहर का भिड़े पुल और शहर का अन्य इलाका जलमग्न हो गया शहर के शहर भर में पानी भर जाने के बाद यातायात अस्तव्यस्त हो गया है। शहर के कई निचले इलाकों में पानी भर गया था जिसकी वजह से कई बस्तियां जलमग्न हो गई।पुणे महानगरपालिका से मिली सूचना के अनुसार लगभग 625 परिवारों को सुरक्षित जगह पर स्थानांतरित कर दिया गया है। ऐतिहासिक तौर पर पुणे के स्कूलों में कल 5 अगस्त को छुट्टी घोषित कर दी गई है।