बढ़ते मामलों के बीच, कैसे बचे कोरोना से?

कोरोना ने जब 2020 मार्च में दस्तक दी थी, तब देश में कोरोना के मामले मार्च महीनें में ही 5 सौ से भी कम थे। सरकार ने कोरोना के कहर को देखते हुये ही 22 मार्च को एक दिवसीय लाँकडाउन का ऐलान किया था ताल-थाली और मोमबत्ती जला कर लोगों को जागरूक भी किया था।फिर बाद में 24 मार्च को संपूर्ण लाँकडाउन का ऐलान किया था। तब लोगों ने कड़ाई से लाँकडाउन का पालन भी किया था।

लेकिन ठीक एक साल बाद 22 मार्च 2021 में कोरोना के मामले देश में तेजी से बढ़ रहे है। देश के कई राज्यों के कई जिलों में लाँकडाउन भी लगा है। पर कोरोना के गाइड लाईन का पालन करने वाले कम ही देखे जा रहे है। दिल्ली में सरकार भले ही बिना मास्क वालों का 2 हजार का चालान काट रही है। फिर भी मास्क ना लगाने वालों की संख्या कम ही देखी जा रही है।