फ्लोर टेस्ट से पहले ही येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा

0
319

कर्नाटक के इस चुनाव ने देश में लोकतंत्र की नई परिभाषा लिख दी। भाजपा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर जिस स्थान पर पहुँची थी वो उसने नतीजे के बाद की घटनाओं से खो दिया। येद्दियुरप्पा के इस्तीफे ने सिर्फ उनके ही कद्द को चोट नहीं पहुंचाई है, भाजपा के शीर्ष नेतृत्व जिनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शामिल हैं, की छवि को भी बड़ा धक्का लगाया है। लोगों में यही सन्देश गया है कि भाजपा सरकार बनाने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है। तय मानिये कर्नाटक के इस चुनाव ने देश में २०१९ के लोकसभा चुनाव के लिए एकजुट विपक्ष की सम्भावना के द्वार खोल दिए हैं।