फीफा वर्ल्ड कप २०१८ : बेल्जियम तीसरे स्थान पर रहा, इंग्लैंड को २-० से हराया

0
3170

डेढ़ हफ्ता पहले तक फीफा वर्ल्ड कप 2018 में विजेता पद की दावेदार मानी जा रही बेल्जियम और इंग्लैंड क्रमशः तीसरे और चौथे स्थान पर रहे हैं। शनिवार शाम बेल्जियम ने सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम में खेले गए फीफा वर्ल्ड कप के तीसरे स्थान के मैच में इंग्लैंड को 2-0 से हरा दिया। सेमीफाइनल में दोनों टीमें अपने प्रतिद्वंदियों से हार गईं थीं जिसके बाद उनका आज तीसरे-चौथे स्थान के लिए मुकाबला हुआ। विश्व कप का फाइनल रविवार को फ़्रांस और क्रोएशिया के बीच  (भारतीय समय के मुताबिक रात ८.३० बजे) होना है।

बेल्जियम ने एक पखवाड़े के भीतर दूसरी बार इंग्लैंड को हराया। ग्रुप चरण में भी बेल्जियम ने 82 साल के लंबे अंतराल के बाद इंग्लैंड हो हराया था। ये फीफा वर्ल्ड कप में बेल्जियम का अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन है। गेरेथ साउथगेट ने क्रोएशिया से सेमीफाइनल में हारी इंग्लैंड टीम में चार बदलाव किये थे। इंग्लैंड ने विश्व कप में अपनी सबसे युवा टीम उतारी जिसमें खिलाड़ियों की औसत आयु 25 वर्ष 174 दिन थी।

बेल्जियम शुरू से ही आक्रामक थी और उसने इंग्लैंड के डिफेंस और अटैक को पूरे मैच में पंगु सा करके रखा। बेल्जियम ने चौथे मिनट में ही गोल कर इंग्लैंड को जबरदस्त झटका दे दिया जिससे इंग्लैंड कभी भी बाहर नहीं निकल पाया। टीम में वापसी करने वाले थॉमस म्यूनिएर ने यह गोल किया।  थॉमस पहले सेमीफाइनल मैच में निलंबन के चलते नहीं खिलाये गए थे। नासेर चाडली के बाई तरफ से दिए लो क्रास पास पर म्यूनिएर ने गोल किया।

इस विश्व कप में बेल्जियम की टीम ”रेड डेविल्स” के नाम से मशहूर हुई। हॉफ टाइम तक बेल्जियम 1-0 से आगे कहल रही थी। दूसरे हाफ में -0 की बढ़त के मनोविज्ञानिक लाभ के साथ बेल्जियम के खिलाड़ियों ने एक के बाद इंग्लैंड पर हमलों की बौछार की।  हालांकि गोल का अवसर बेल्जियम को ८२वें मिनट में मिला जब ब्रुइने से मिले पास पर हैजार्ड ने गेंद गोलपोस्ट के भीतर नेट में मार दी। इस तरह बेल्जियम फीफा वर्ल्ड कप में तीसरा स्थान हासिल करने में पहली बार सफल हुआ। हैजार्ड को ”मैन ऑफ द मैच” चुना गया।

दर्शकों की शोर के बावजूद इंग्लैंड टीम को इस विश्व कप में जीत की जगह हार की निराशा के साथ देश वापस लौटना पड़ा। बेल्जियम का विश्व कप में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन इससे पहले १९८६ में था जब वह चौथे स्थान पर रहा था। भले बेल्जियम कप नहीं जीत पाया लेकिन उसने तीसरा स्थान पहली बार हासिल कर अपने समर्थकों को निराश नहीं होने दिया।