प्रश्नों से घिरा प्रेम

0
71

[wzslider autoplay=”true” transition=”‘slide'” info=”true” lightbox=”true”]

मंगलवार, 14 जनवरी. नए साल में फ्रांस के राष्ट्रपति का पहला पत्रकार सम्मेलन. लगभग 600 पत्रकार राष्ट्रपति भवन एलिजे प्रासाद में उनकी प्रतीक्षा कर रहे थे. पूरा  मंत्रिमंडल भी वहां बैठा हुआ था. शाम साढ़े चार बजे राष्ट्रपति फ्रोंस्वा ओलांद आए. फ्रांसीसी तिरंगे और नीली पृष्ठभूमि पर बारह सितारों वाले यूरोपीय संघ के झंडे के बीच खड़े हो कर वे अगले 45 मिनट तक फ्रांस की खस्ताहाल अर्थव्यवस्था, यूरोपीय संघ, देश में नस्लवाद और यहूदियों के प्रति घृणा से ले कर अफ्रीका में तैनात फ्रांसीसी सैनिकों जैसे अनेक राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय विषयों पर बड़े धैर्य से बोले.

लेकिन, उनके धैर्य की असली परीक्षा तब हुई जब घड़ी में पांच बज कर 18 मिनट होने जा रहे थे. एक वरिष्ठ पत्रकार ने वह चुटीला प्रश्न हॉल में उछाल ही दिया जो फ्रांस के जनमानस को पिछले पांच दिन से कुरेद रहा था–‘क्या वालेरी त्रियरवाइलर आपकी आगामी अमेरिका यात्रा के समय अब भी प्रथम महिला के तौर पर ही साथ रहेंगी?’

वालेरी त्रियरवाइलर राष्ट्रपति ओलांद के भाषण के समय तक उनकी जीवनसंगिनी थीं. दोनों का विवाह नहीं हुआ था, तब भी त्रियरवाइलर को ही देश की प्रथम महिला होने का सम्मान मिला हुआ था. उनके बारे में कोई प्रश्न उठता ही नहीं, यदि फ्रांसीसी पत्रिका ‘क्लोजर ‘ का नवीनतम अंक 10 जनवरी से बाजार में नहीं होता और त्रियरवाइलर इस बीच अस्पताल में न पहुंचतीं. राष्ट्रपति की नई प्रणय-लीला के ‘मानसिक आघात’ ने उन्हें अस्पताल पहुंचा दिया था. अपने नए प्रेम के लिए कुछ भी कर गुजरने के बंबइया फिल्मों जैसे राष्ट्रपति महोदय के मनचले अंदाज के बारे में पत्रिका ने सात पृष्ठों वाली एक चटपटी रिपोर्ट छापी थी. इसके मुताबिक 59 वर्षीय राष्ट्रपति महोदय 41 वर्षीय फिल्म अभिनेत्री जूली गाये के प्रेम-पाश में इस तरह सुध-बुध खो बैठे हैं कि रातें उनके साथ बिताने के लिए राष्ट्रपति भवन से गायब हो जाते हैं और दुपहिया स्कूटर पर बैठ कर प्रेमिका के घर के फेरे लगाते हैं.

रोमांस के रसिया राष्ट्रपति
जूली गाये जिस फ्लैट में रहती हैं वह राष्ट्रपति भवन के पास ही है. बात कानोंकान दूर तक न पहुंचे, इसलिए केवल एक ही अंगरक्षक राष्ट्रपति ओलांद के साथ रहा करता है. स्कूटर-सवारों के लिए सिर पर हेलमेट लगाने की अनिवार्यता राष्ट्रपति ओलांद के लिए अपना चेहरा छिपाने का सबसे उपयुक्त मुखौटा बन गई है. रातों को सड़कों की रोशनी में  हेलमेट से ढका चेहरा साफ-साफ पहचान सकना वैसे भी मुश्किल ही है.

सौतिया-डाह के चलते अस्पताल पहुंच चुकी उनकी जीवनसंगिनी के भावी दर्जे के बारे में भी पत्रकार सम्मेलन के दौरान सवाल हो सकता है, इसके लिए राष्ट्रपति ओलांद भी मन ही मन शायद तैयार रहे होंगे. इस ठेठ प्रश्न पर वे बौखलाए या तिलमिलाए नहीं. स्वर किंचित कांपा, पर अपना संतुलन बनाए रखते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं आपका प्रश्न समझ रहा हूं… अपने निजी जीवन में हम मनुष्यों को (कुछ) परीक्षाएं देनी पड़ती हैं. ऐसी परीक्षाएं, जो संबंधों की अंतरंगता के दायरे में हल करनी होती हैं. मेरा सिद्धांत है कि जो कुछ निजी है, उसका हल भी निजी तौर पर ही निकाला जाए. यह जगह और यह समय इस प्रश्न पर चर्चा करने के उपयुक्त नहीं है. लेकिन, मैं आपसे वादा करता हूं कि मैं इस प्रश्न का उत्तर उस यात्रा (अमेरिका यात्रा) की तारीख से पहले ही दे दूंगा जिसका यहां उल्लेख हुआ है.’

सच स्वीकार
राष्ट्रपति महोदय ने प्रश्न का कोई सीधा उत्तर भले ही नहीं दिया, लेकिन सच्चाई को अप्रत्यक्ष ढंग से पूरे देश के सामने स्वीकार करने में कोई टालमटोल भी नहीं की. अपने उत्तर से उन्होंने यह अप्रत्यक्ष संकेत भी दे दिया कि वे अपनी नई प्रेम-कहानी को उजागर करने वाली पत्रिका के विरुद्ध कोई कानूनी कार्रवाई भी नहीं करेंगे. पत्रिका का नया अंक जब बाजार में आया था तब उन्होंने धमकी दी थी कि वे उसके विरुद्ध कानूनी कदम उठाएंगे. उनकी नई हृदयेश्वरी हालांकि पत्रिका पर 50 हजार यूरो (लगभग 37 लाख रुपये) का दावा ठोकने को उद्यत मालूम पड़ती हैं.

अपनी जीवनसंगिनी और देश की ‘प्रथम महिला’ वालेरी त्रियरवाइलर के दर्जे के बारे में राष्ट्रपति ओलांद का कहना था –‘इस तरह का कोई (औपचारिक) दर्जा नहीं है, यह केवल एक चलन है. मेरे लिए महत्व इस पारदर्शिता का है कि (मेरी) जीवनसंगिनी का नाम सार्वजनिक हो और सबको पता रहे.’ लेकिन, उस समय अस्पताल में पड़ी मदाम त्रियरवाइलर की तबीयत के बारे में उनका उत्तर जरूर बहुत ही बेरुखा और टरकाऊ था– ‘वे आराम कर रही हैं. और कोई टिप्पणी नहीं.’ इससे यही संकेत मिल रहा था कि राष्ट्रपति की 41 वर्षीया फिल्मी प्रेमिका के आगे 48 वर्षीया पत्रकार-जीवनसंगिनी का पत्ता साफ ही समझा जाए.

मदाम त्रियरवाइलर राष्ट्रपति भवन में रहते हुए भी फ्रांसीसी सचित्र-साप्ताहिक ‘पारी माच’ (अंग्रेजी में पेरिस मैच) के लिए लिखती रही हैं. इस पत्रिका में उनके एक पत्रकार-मित्र फ्रेदरीक गेर्शेल भी काम करते हैं. गेर्शेल के हवाले से पेरिस के सर्वाधिक बिक्री वाले दैनिक ‘ले पारििजयें’ ने 14 जनवरी को लिखा कि साप्ताहिक पत्रिका ‘क्लोजर’ की रिपोर्ट आने के साथ ही राष्ट्रपति ओलांद ने अपनी जीवनसंगिनी को पहली बार बताया कि उनके और फिल्म अभिनेत्री जूली गाये के बीच क्या चल रहा है. राष्ट्रपति महोदय की बातें सुन कर त्रियरवाइलर को ऐसा लगा मानो फ्रांस की सबसे तेज बुलेट-ट्रेन ‘टीजीवी मेरे ऊपर से गुजर गई.’ इससे पहले वे यही सोच रही थीं कि ‘क्लोजर’ पत्रिका में जो कुछ छपा है वह बकवास है.

दैनिक ‘ले पारिजियें’ के अनुसार, त्रियरवाइलर ने अपने पत्रकार-मित्र को बताया कि राष्ट्रपति ओलांद ने पत्रिका में छपी सारी बातें स्वीकार कीं, कोई बहानेबाजी नहीं की. न तो उन्होंने रातों को चोरी-छिपे अपनी स्कूटर-यात्राओं को झुठलाया और न ही यह कि वे अपनी नई प्रेमिका गाये के यहां कितनी रातें बिता चुके हैं. उनके नए प्रणय की अफवाहें कुछ समय से हवा में थीं. लेकिन, मदाम त्रियरवाइलर ने उन्हें गंभीरता से नहीं लिया था. इसलिए सच्चाई सुनने के बाद उनकी हालत ऐसी थी जैसे उन्हें किसी ‘राजनीतिक-भावनात्मक सुनामी’ ने झकझोर दिया हो. इसीलिए उन्हें आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती होना पड़ा.

क्षमा करने को तैयार
‘ले पारिजियें’ के अनुसार, त्रियरवाइलर ने अपने पत्रकार मित्र से संभवतः यह भी कहा कि वे राष्ट्रपति ओलांद को क्षमा करने के लिए तैयार हैं, बशर्ते कि वे जल्द ही तय करें कि क्या वे (त्रियरवाइलर) ही अब भी देश की ‘प्रथम महिला’ हैं. दोनों भले ही बिना शादी किए छह वर्षों से साथ-साथ रह रहे थे, फिर भी त्रियरवाइलर के लिए एक अलग सरकारी स्टाफ और कार्यालय था. देश-विदेश में होने वाले औपचारिक समारोहों में वे राष्ट्रपति ओलांद के साथ इस तरह उपस्थित होती रही हैं मानो वही उनकी पत्नी हैं. बीती सात जनवरी को दोनों अंतिम बार सार्वजनिक तौर पर साथ-साथ देखे गए थे. त्रियरवाइलर अगली 16 फरवरी को 49 साल की हो जाएंगी. 11 फरवरी को राष्ट्रपति ओलांद को अमेरिका जाना है. अपने पत्रकार सम्मेलन में उन्होंने वादा किया था कि इस तारीख से पहले ही स्पष्ट कर देंगे कि उनके साथ कोई ‘प्रथम महिला’ होगी या नहीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here