पुलवामा हमले पर देश भर में प्रदर्शन

लोगों ने कैंडल मार्च, विरोध प्रदर्शन करके किया गुस्से का इजहार

0
430

पुलवामा हमले में ४० जवानों की शहादत पर देश भर में आक्रोश है। पूरे देश में शनिवार को प्रदर्शन किये गए, कैंडल मार्च निकाले गए और पाकिस्तान के खिलाफ जमकर प्रदर्शन हुए। कई जगल पाक नेताओं और सेना के पुतले फूंके गए।

राजधानी दिल्ली समेत पूरे देश में लोगों ने सड़क पर निकल कर प्रदर्शन किये। इन प्रदर्शनों में जहाँ पाकिस्तान के खिलाफ ख्होब गुस्सा दिखा वहीं शहीद जवानों के परिवारों के प्रति एकजुटता का इजहार किया गया। इन प्रदर्शनों में सभी राजनीतिक दलों के नेताओं, व्यापार मंडलों, छात्र संगठनों ने हिस्सा लिया।

शहीद जवानों को समूचे देश की जनता ने अलग-अलग स्थानों पर अपनी श्रद्धांजलि दी। जम्मू-कश्मीर से कन्याकुमारी और असम से गुजरात तक देश की आम जनता शहीद जवानों के बलिदान को सलाम करते हुए अलग-अलग तरीकों से उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दे रही है। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में भी सैकड़ों लोगों ने सड़क पर उतरकर जवानों को नमन किया है। कोलकाता में जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए निकाले गए एक कैंडल मार्च में राज्य की सीएम ममता बनर्जी ने भी हिस्सा लिया है।

दिल्ली में द्धारका मोड़ के पास शनिवार शाम व्यापार मंडल और स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन किया। लोगों ने हाथों में मोमबत्तियां ले रखीं थीं और वे ”शहीद जवान अमर रहें” के नारे लगा रहे थे। प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे राजेश बोहरा ने बताया कि यह हमला देश के हर नागरिक और हमारी अस्मिता के खिलाफ है। बोहरा मोहन गार्डन साउथ २५ के भाजपा के महामंत्री भी हैं।

बोहरा ने तहलका से बातचीत में कहा – ”पाकिस्तान में बैठे आतंकी सरगना हाफ़िज़ सईद ने यह हमला करके अपनी मौत को दावत दी है। हमारे पीएम मोदी ने साफ़ कहा है कि जिसने भी यह हमला किया किया है उसे पाताल से ढूंढ़ निकाला जाएगा। हमें उन्हें किसी भी सूरत में छोड़ना नहीं चाहिए, यही हर देशबासी चाहता है। हमारी शहीदों के परिवारों से पूरी संवेदना है और इस मुश्किल घड़ी में हर भारतीय उनके साथ है।”

पुलवामा की घटना के बाद से ही पूरे देश में आतंक के खिलाफ गुस्सा साफ झलक रहा है। हर राज्य में लोगों ने सड़क पर उतरकर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए सरकार से आतंकी घटना का मुंहतोड़ जवाब देने की बात कही है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी आतंकवाद का समर्थन करने वाले वाले लोगों को सख्त सबक सिखाने के तमाम संदेश लिखे गए हैं। पुलवामा में हमले के बाद से ही सोशल मीडिया पर ऐसे तमाम हैशटैग ट्रेंड कर रहे हैं, जिनके माध्यम से लोगों ने सरकार से आतंक के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ने की बात कही है।

सुरक्षा के मद्देनजर कई जगहों पर कर्फ्यू लगाया दिया गया है। जम्मू में पूरी तरह से बंद है। वहां सभी दुकानें, पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद हैं। लोगों ने जम्मू मुख्य मार्ग तक बंद कर प्रदर्शन किया साथ ही जगह-जगह पर पाकिस्तान का पुतला फूंका। जम्मू के अलावा हिमाचल के विभिन्न नगरों में विद्यार्थियों, आम जनता, पूर्व सैनिकों ने सड़कों पर उतरकर इस जघन्य अपराध के खिलाफ अपना रोष जाहिर किया।

चंडीगढ़ और पंचकूला में भी प्रदर्शन किये गए। लोगों ने मांग की कि हमें निंदा नहीं चाहिए, अब एक भी आतंकी जिंदा नहीं बचना चाहिए। आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देते रहे पाकिस्तान का पुतला भी फूंका गया।