पुतिन की शर्तें: यूक्रेन हथियार मुक्त हो, क्रीमिया रूस का हिस्सा माना जाए

यूक्रेन के संकट के बीच व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को यूक्रेन से साफ़ तौर पर कह दिया कि उसके पास बचने का एक ही रास्ता है कि वह नाटो का सदस्य बनने की सोच छोड़ दे और खुद को पूरी तरह हथियार मुक्त कर ले। इसके अलावा पुतिन ने वर्तमान तनाव कम करने के लिए दुनिया से कहा है कि वह क्रीमिया को रूस के हिस्से के रूप में मान्यता दे।

राष्ट्रपति पुतिन ने मीडिया के लोगों से बातचीत में कहा कि अपने हथियारों के कारण यूक्रेन रूस के लिए खतरा है। उसका हथियार जमा करना रूस विरोधी है और साथ ही यूक्रेन हमेशा परमाणु शक्ति बनने का सपना देखता रहा है। पुतिन ने कहा – ‘अगर ऐसा होता है तो रूस पर परमाणु हमले का खतरा बना रहेगा।’

इस बातचीत में पुतिन ने क्रीमिया को रूस के हिस्से के रूप में मान्यता देने की भी मांग की। पुतिन ने मिंस्क समझौते पर भी कहा कि ‘अब इस समझौते का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि इसका उल्लंघन यूक्रेन काफी पहले ही कर चुका है।’ पुतिन ने कहा कि यूक्रेन में अब हम कितनी सेना भेजेंगे यह इस बात पर निर्भर होगा कि यूक्रेन के जमीनी हालात क्या हैं, हम वहां नरसंहार नहीं होने दे सकते।