पीड़िता का आरोप – उनसे हो रही पूछताछ, आरोपी से नहीं

भाजपा नेता चिन्मयानन्द पर हैं रेप के आरोप

0
728

वरिष्‍ठ भाजपा नेता और पूर्व गृह राज्‍य मंत्री स्‍वामी चिन्‍मयानंद की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। एसआईटी को पीड़िता और उसके मित्र की तरफ से ”सबूतों से भरी” पेन-ड्राइव सौंपी गयी है और मांग की गयी है कि इसकी ईमानदार जांच की जाए।

पीड़िता और उसके मित्र का दावा है कि ”इस पेन ड्राइव में एक वीडियो है। चिन्मयानंद का असली चेहरा क्या है, जांच में यह सब उजागर करने के लिए पेन-ड्राइव काफी है।” करीब ९.५८ मिनट का यह वीडियो अब वायरल हो गया है। उधर पीड़िता के परिवार ने यह भी आरोप लगाया है कि एसआईटी की उनसे पूछताछ का तरीका ऐसा लगता है मानो वे ही अपराधी हैं जबकि दुष्कर्म के आरोपी और कथित तौर पर जान से मारने की धमकी देने वाले स्वामी चिन्मयानंद से एसआईटी अभी तक एक बार भी आमना-सामना नहीं कर सकी है।

गौरतलब है कि यूपी के शाहजहांपुर के एक लॉ कॉलेज में पढ़ने वाली छात्रा ने आरोप लगाया है कि स्वामी चिन्मयानंद ने कथित रूप से उसका रेप किया और एक साल तक शारीरिक शोषण किया। लड़की का आरोप है कि शाहजहांपुर पुलिस चिन्मयानंद के खिलाफ रेप केस नहीं दर्ज कर रही है। छात्रा का आरोप है कि ‘चिन्मयानंद ने उनका रेप किया और उसके बाद एक साल तक शारीरिक शोषण किया। यही नहीं शाहजहांपुर पुलिस ने रेप केस नहीं दर्ज किया। वो जब दिल्ली में थी तब दिल्ली पुलिस ने केस दर्ज कर उसे शाहजहांपुर पुलिस को फॉरवर्ड किया था, लेकिन वह अब भी कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।”

पीड़‍िता का कहना है कि एसआईटी ने उनसे करीब ११ घंटे पूछताछ की। ”मैंने उन्हें रेप के बारे में बताया। उन्हें बताने के बाद भी अब तक चिन्मयानंद को नहीं गिरफ्तार किया गया है।” उसने बताया कि इससे पहले जब उसके पिता ने चिन्मयानंद के खिलाफ शारीरिक शोषण के आरोप में मुकदमे की तहरीर दी थी तब मुकदमा दर्ज करना तो दूर, जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने उसके पिता को कथित धमकी देते हुए चिन्मयानंद के रसूख का हवाला दिया और बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने को कहा। याद रहे चिन्मयानन्द के लोग आरोपों को झूठ और ”ब्लैकमेलिंग” की संज्ञा दे चुके हैं।

इस बीच कांग्रेस ने इस मामले को लेकर भाजपा पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने केंद्र और यूपी सरकारों पर आरोप लगाया कि अपराधियों से प्रेम और संलिप्तता भाजपा के डीएनए शमिल हो चुका है। पार्टी प्रवक्ता रागिनी नायक ने सवाल किया कि लड़की के बार-बार गुहार लगाने के बावजूद चिन्मयांनद से पूछताछ और उनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं की गई?

उन्होंने पीड़ित छात्रा के बयान से जुड़ा वीडियो भी संवाददाताओं को दिखाया।  रागिनी ने कहा – ”भाजपा कहती है बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ। लेकिन उत्तर प्रदेश में बेटियों के खिलाफ बलात्कार और उत्पीड़न की घटनाएं हो रही हैं। उन्नाव और चिन्मयानंद मामले मोदी सरकार और योगी सरकार की संवेदनहीनता को दिखाते हैं।”