पीएम का अपने हलके को ५५७ करोड़ का तोहफा

वाराणसी में कई योजनाओं के शिलान्यास और उदघाटन किये

0
820

लोक सभा चुनाव से कुछ ही महीने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने लोक सभा हलके वाराणसी में मंगलवार को ५५७ करोड़ की परियोजनाओं के नींव पत्थर रखे और कुछ का उद्घाटन किया। पिछले साढे चार साल में मोदी का अपने हलके का यह १३वां दौरा है। बाद में एक जनसभा में पीएम ने कहा – ”सवा चार साल पहले हम काशीवासी बदलाव के इस संकल्प लेकर निकले थे। आज अंतर स्पष्ट दिखाई दे रहा है”।

इस मौके पर मोदी ने अपनी सरकार की इलाके के लिए तमाम योजनाओं का जिक्र किया और लोगों से पूछा कि  क्या वे बदलाव महसूस कर रहे हैं या नहीं ! पीएम ने कहा कि सांसद बनने से पहले बिजली के लटकते तारों को देखकर वे सोचते थे कि इससे कब मुक्ति मिलेगी। ”देखिए आज शहर के एक बड़े हिस्‍से से बिजली के लटकते तार गायब हैं”। मोदी ने अपने कार्यकाल में हलके के तमाम कामों की एक एक कर सभी सूचियां जनता के सामने रखीं।

मोदी ने कहा कि वाराणसी में हो रहे विकास के गवाह यहां एयरपोर्ट पर आ रहे लोग भी बन गए। टूरिस्टों की तादाद लागातार बढ़ रही है। बाबतपुर एयरपोर्ट पर आने वाले की संख्या प्रतिवर्ष आठ लाख से बढ़कर ११ लाख हो गई है। यह शहर ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक के बड़े हब के तौर पर उभरने वाला है। पास के क्षेत्रों को हर पल बिजली मिलने वाली है। एक और बिजली केंद्र के साथ लो वोल्‍टेज की समस्या से छुटकारा मिलेगा। वाराणसी को पूर्वी भारत के रूप में विकसित करने का प्रयास हो रहा है। इसके तहत वाराणसी वर्ल्ड क्लास की सुविधा से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। आज काशी की सड़कों पर रात में भी मां गंगा का प्रवाह सा दिखता है। एलईडी बल्‍बों से रोशनी तो दिखती है, बिजली के बिल में भी कमी आई है।

उन्होंने कहा कि बनारस में रिंग रोड की चर्चा हो रही थी, लेकिन काम फाइलों में दबा हुअ था। कहा २०१४ में सरकार बनने के बाद रिंग रोड की फाइल को फिर से निकाला गया। लेकिन यूपी की पहले की सरकार ने काम आगे नहीं बढ़ने दिया गया। उनको फिक्र सता रही थी कि यह काम हो गया तो मोदी की जय-जय हो जाएगी। काशी रिंग रोड के निर्माण से सिर्फ काशी ही नहीं, आसपास के जिलों को भी लाभ मिलने वाला है। वाराणसी शहर के भीतर और दूसरे राज्‍यों से जोड़ने वाली सड़कों का विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने वाराणसी को पूर्वी भारत के गेट-वे के रूप में विकसित करने की अपनी योजना के बारे में भी बताया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर कहा कि काशी के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक भावनात्मक रिश्ता है। ”उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के साथ प्रदेश को इतना दिया है, जितनी कल्पना नहीं की गई थी”।