‘पांच साल में पूरी तरह बदल जाएगा हमारा सिनेमा’ | Tehelka Hindi

मुलाक़ात, समाज और संस्कृति, सिनेमा A- A+

‘पांच साल में पूरी तरह बदल जाएगा हमारा सिनेमा’

sudherदूसरे विषयों की तरह सिनेमा की पढ़ाई का क्या महत्व है?
अगर आप किसी संस्थान में हैं तो वहां आपको अपने व्यक्तित्व को स्थापित करने के अवसर अधिक हैं. सिनेमा को प्रभावी बनाने के लिए आपको शिल्प और अनुशासन दोनों की आवश्यकता होती है. मैंने फिल्म बनाना अपने भाई से सीखा जो एफटीआईआई में थे. मैंने उनके साथ एक समझौता किया था कि उन्हें वहां जो कुछ सिखाया जाएगा वह सब वे मुझे बताएंगे. मैंने खुद एफटीआईआई परिसर के खूब चक्कर लगाए और अप्रत्यक्ष तरीके से प्रशिक्षण हासिल किया.

आपका अपने महिला पात्रों के साथ क्या रवैया रहता है?
मैं उन्हें बहुत प्रोत्साहित करता हूं और उनकी गलतियों का भी सम्मान करता हूं. यह उनका अधिकार है. मैं हमेशा मजबूत महिलाओं से जुड़ा रहा हूं. उदाहरण के लिए, मेरी दादी जो अपने पति से अलग होकर अकेले रहती थीं. मैं कोशिश करता हूं कि महिलाओं की अंतहीन क्षमताओं को उजागर कर सकूं. महिलाओं ने मुझे दुख भी पहुंचाया और प्यार भी किया लेकिन एक पुरुष के रूप में मैंने हमेशा उन्हें जटिल लेकिन आकर्षित करने वाला पाया है. मैं कोई फैसला नहीं सुना रहा. महिलाओं को भी आजादी का हक ह,ै वहीं अगर वे चाहें तो घरेलू कामकाज करते रहने का भी उनको उतना ही हक है. उन्हें रूढ़िवादी छवियों क गुलाम बनने की जरूरत नहीं है.

Pages: 1 2 Single Page
Type Comments in Indian languages