पत्रकारिता का ‘जनपक्ष-विपक्ष’ | Tehelka Hindi

तमाशा A- A+

पत्रकारिता का ‘जनपक्ष-विपक्ष’

कोई पत्रकार किसी नेता-पार्टी से ‘नत्थी’ दिखे तो इसे फिसलन की शुरुआत क्यों न कहें?
आनंद प्रधान 2014-03-31 , Issue 6 Volume 6

मनीषा यादव

न्यूज चैनल ‘आज तक’ के एंकर-पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल के बीच ‘ऑफ द रिकॉर्ड’ बातचीत का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया से लेकर न्यूज मीडिया और चैनलों पर सुर्खियों में है. अरुण जेटली जैसे वरिष्ठ भाजपा नेताओं से लेकर कुछ न्यूज चैनल तक एंकर-पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी पर पत्रकारिता की नैतिकता (एथिक्स) और मर्यादा लांघने का आरोप लगा रहे हैं. इस ‘ऑफ द रिकॉर्ड’ बातचीत में वाजपेयी की केजरीवाल से अतिनिकटता और सलाहकार जैसी भूमिका को निशाना बनाते हुए उनकी निष्पक्षता पर उंगली उठाई जा रही है.

आरोप लगाया जा रहा है कि वाजपेयी आम आदमी पार्टी (आप) की ओर झुके हुए हैं और चैनल के अंदर पार्टी के प्रतिनिध या प्रवक्ता की तरह काम कर रहे हैं. इस कारण केजरीवाल के साथ उनका इंटरव्यू ‘फिक्स्ड’ और पीआर किस्म का है जिसका मकसद ‘आप’ के नेता की सकारात्मक छवि गढ़ना है और जिसमें शहीद भगत सिंह तक को इस्तेमाल किया जा रहा है.

सवाल यह है कि क्या वाजपेयी और केजरीवाल की ‘ऑफ द रिकॉर्ड’ बातचीत सिर्फ एक स्वाभाविक सौजन्यता या औपचारिकता या हद से हद तक एक तरह का बड़बोलापन है या फिर इसे पत्रकारीय निष्पक्षता और स्वतंत्रता के साथ समझौता माना जाए. हालांकि पत्रकारिता के नीरा राडिया और पेड न्यूज काल में पुण्य प्रसून और केजरीवाल की बातचीत काफी शाकाहारी लगती है, लेकिन इसमें पत्रकारिता की नैतिकता, मानदंडों और प्रोफेशनलिज्म के लिहाज से असहज और बेचैन करने वाले कई पहलू हैं. इस बातचीत में वाजपेयी किसी स्वतंत्र पत्रकार और नेता के बीच बरती जाने वाली अनिवार्य दूरी को लांघते हुए दिखाई पड़ते हैं.

दूसरे, पत्रकारिता और पीआर में फर्क है और पत्रकार का काम किसी भी नेता (चाहे वह कितना भी लोकप्रिय और सर्वगुणसंपन्न हो) की अनुकूल ‘छवि’ गढ़ना नहीं बल्कि उसकी सच्चाई को सामने लाना है. असल में, किसी भी पत्रकारीय साक्षात्कार में पत्रकार-एंकर अपने दर्शकों का प्रतिनिधि होता है और इस नाते उससे अपेक्षा होती है कि वह साक्षात्कारदाता से वे सभी सवाल पूछेगा जो उसके दर्शकों को मौका मिलता तो उससे पूछते. याद रहे कि कोई भी पत्रकारीय इंटरव्यू पत्रकार और साक्षात्कारदाता खासकर सार्वजनिक जीवन में सक्रिय या पद पर बैठे नेता के बीच की निजी बातचीत नहीं है. सच यह है कि जब कोई नेता खुद को इंटरव्यू के लिए पेश करता है तो इसके जरिए लोगों के बीच यह संदेश देने की कोशिश करता है कि वह अपने विचारों या क्रियाकलापों में पूरी तरह पारदर्शी है. कुछ भी छिपाना नहीं चाहता है और हर तरह के सार्वजनिक सवाल-जवाब और जांच-पड़ताल के लिए तैयार है. ऐसे में, पत्रकार से अपेक्षा की जाती है कि वह उस नेता से कड़े से कड़े और मुश्किल सवाल पूछे ताकि उसके विचारों या क्रियाकलापों से लेकर उसकी कथनी-करनी के बीच के फर्क और अंतर्विरोधों को उजागर किया जा सके. क्या पुण्य प्रसून वाजपेयी, केजरीवाल से इंटरव्यू करते हुए इस कसौटी पर खरे उतरते हैं?

Pages: 1 2 Single Page

(Published in Tehelkahindi Magazine, Volume 6 Issue 6, Dated 31 March 2014)

Type Comments in Indian languages