नागालैंड फायरिंग पर संसद में हंगामा, शाह ने कहा इस घटना की जांच एसआईटी करेगी

नागालैंड में रविवार को फाइरिंग की घटना में 13 नागरिकों की मौत पर सोमवार को लोकसभा और राज्यसभा में काफी हंगामा हुआ। प्रश्नकाल के दौरान इस घटना पर कांग्रेस और विपक्ष के सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया। बाद में इस विषय पर गृह मंत्री अमित शाह ने घटना पर गहरा दुःख जताते हुए सदन को बताया कि इसकी जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है, जो एक महीने के भीतर जांच पूरी करके रिपोर्ट  पेश करेगी।

इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि आखिरकार गृह मंत्रालय क्या कर रहा है जब आम नागरिक, यहां तक कि सुरक्षाकर्मी अपनी ही जमीन पर सुरक्षित नहीं हैं। उधर भारतीय सेना ने मामले की ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ का आदेश दिया है और  घटना पर गहरा खेद जताया है।

नागालैंड फायरिंग पर कांग्रेस और विपक्ष के हंगामा करने के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा में दिए बयान में कहा – ‘उन्हें संदिग्ध समझते हुए फायरिंग हुई थी।  भारत सरकार नागालैंड घटना पर गहरा खेद और मृतकों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना जताती है। घटना की विस्तृत जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है जिसे एक महीने के अंदर जांच पूरी करने को कहा गया है।’

शाह ने कहा – ‘सभी एजेंसियों से यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि भविष्य में विद्रोहियों के खिलाफ अभियान चलाते समय इस तरह की किसी घटना की पुनरावृत्ति न हो। वाहन में सवार 8 में से 6 लोगों की मौत हो गई। बाद में पता चला कि यह गलत पहचान का मामला है। दो अन्य घायलों को सेना ने निकटवर्ती स्वास्थ्य केंद्र में दाखिल किया। इसके बाद जब स्थानीय ग्रामीणों को घटना की खबर मिली तो उन्होंने सेना की यूनिट को घेर लिया।’