धर्म-भ्रष्ट लोग

इन दिनों उत्तर प्रदेश में धर्म-परिवर्तन का मामला काफ़ी तूल पकड़े हुए है। इस मामले में कुछ लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया है और कुछ की तलाश में पुलिस बतायी जा रही है। ख़ैर, पहले भी उत्तर प्रदेश ही नहीं, पूरे देश में लाखों लोगों ने धर्म-परिवर्तन किया है। लेकिन किसी का जबरन धर्म-परिवर्तन कराना गुनाह है। स्वार्थवश भी धर्म-परिवर्तन अनुचित और अधर्म का कार्य है। लेकिन स्वेच्छा से न यह गुनाह है और न ही अनुचित। ऐसा विद्वतजनों का कहना है।

लेकिन मेरे कुछ सवाल हैं। पहला यह कि धर्म किसने बनाये हैं? दूसरा धर्म का अर्थ क्या है? धर्म कहता क्या है? धर्म का उपयोग किसके लिए और क्यों किया जाता है? क्या कोई धर्म किसी को ख़ुद से बँधे रहने के लिए बाध्य करता है? क्या धर्म का ढिंढोरा पीटने वाले लोग वास्तव में धर्म पर चलते हैं? क्या धर्म किसी को जबरन अपनाने की अपील करता है? या किसी को जबरन अपनी शिक्षाएँ मनवाने के लिए बाध्य करता है? क्या दुनिया में कोई ऐसा पवित्र व्यक्ति है, जो यह सिद्ध कर सके कि वह उन्हीं पूर्वजों की सन्तान है, जिनका न तो कभी धर्म बदला गया, न धर्म डिगा और न किसी अन्य धर्म अथवा जाति के किसी स्त्री / पुरुष का उसके कुल में संसर्ग हुआ है? मेरी नज़र में तो एक भी नहीं है। यानी खुले तौर पर कहना पड़ रहा है कि दुनिया में कोई भी विशुद्ध धर्म या विशुद्ध जाति का नहीं है। अगर किसी का धर्म उसके पूर्वजों के समय से एक है, तो उसकी जाति विशुद्ध नहीं है।

इसीलिए मैं धर्म-जाति के पचड़े में नहीं फँसा। क्योंकि मैं जानता हूँ कि ईश्वर एक है। जीवात्मा एक है। प्रकृति एक है। वायु एकमेव है। जल एकमेव है। ब्रह्माण्ड एक है। यानी सब कुछ अद्वैत है। अगर कुछ द्वैत है, तो वो हैं हमारे अलग-अलग विचार, हमारी अपनी-अपनी समझ। अगर धर्म की बात करें, तो मेरी नज़र में वही व्यक्ति धर्म के मार्ग पर है, जो किसी का नुक़सान किये बिना, किसी का बुरा सोचे बिना, किसी को दु:ख पहुँचाये बिना, किसी को आहत किये बिना, किसी की हत्या किये बिना, किसी के प्रति द्वैष रखे बिना, ईश्वर और उसकी सृष्टि तथा सृष्टि के प्राणियों से किसी भी तरह की शिकायत किये बिना अपनी मेहनत के दम पर जीवनयापन कर रहा है। कौन है ऐसा? यहाँ तो सब स्वार्थ के वश में हैं और स्वार्थ साधने के लिए कुछ भी कर बैठते हैं। यहाँ तक कि उन माँ-बाप को भी दु:ख पहुँचाने से नहीं चूकते, जिन्होंने जीवन दिया है। मेरी नज़र में माँ-बाप को दु:ख पहुँचाने वाले लोग ईश्वर की शरण में भी चले जाएँ, तो भी धर्म और उनका कर्म उन्हें क्षमा नहीं करेगा। ऐसे लोग दिन-रात पूजा, नमाज़, प्रार्थना में भी बैठे रहें, तो भी अधर्मी ही कहे जाएँगे। इसी तरह बाक़ी धर्म कार्यों में से एक में भी ख़रा न उतरने पर भी कोई व्यक्ति धर्म के मार्ग पर नहीं माना जा सकता।