दो देश, एक सच, दो पहलू

दोनों देशों की साझी विरासत में बिखरे पड़े इतिहास के ऐसे कई उदाहरणों को एक साथ रखने वाले इस प्रोजेक्ट पर दोनों देशों के कई युवा छात्र स्वयंसेवक और संपादक की भूमिका निभा रहे हैं. उन्होंने अपनी किताब में इतिहास की घटनाओं के बारे मंे दोनों देशों के संस्करणों को जस का तस अगल-बगल रख दिया है ताकि पाठकों को इनके विरोधाभास का आभास हो सके. इस परियोजना की शुरुआत तीन पाकिस्तानी छात्रों- कासिम असलम, अयाज अहमद और जोया सिद्दीकी ने की थी और उनकी पहली किताब अप्रैल 2013 में प्रकाशित हुई. दूसरी किताब का जिम्मा इस टीम के तीन भारतीय सदस्यों अनिल, बरकत और लावण्या ने उठाया है. हिस्ट्री प्रोजेक्ट-2 नामक इस किताब में समकालीन इतिहास के छह प्रमुख व्यक्तित्वों, गांधी, जवाहरलाल नेहरू, लोकमान्य तिलक, मुहम्मद अली जिन्ना, सर सैयद अहमद खान तथा मोहम्मद इकबाल के व्यक्तिव का दोनों पक्षों द्वारा किया गया आकलन पेश किया जाएगा.

इतिहास के इस साझा लेखन के बीज कुछ समय पहले अमेरिका के सीड्स ऑफ पीस अंतरराष्ट्रीय शिविर में बोए गए . इस शिविर में उन देशों के किशोरों को एक-दूसरे से रूबरू कराया जाता है जिनके आपसी संबंध ठीक नहीं होते. इस शिविर में अन्य देशों के युवा जहां खेलकूद, एक-दूसरे की संस्कृति और परंपराओं को समझने में लगे रहते थे वहीं भारत और पाकिस्तान के इन बच्चों का ध्यान अपने साझा अतीत पर अटक गया. आपसी बातचीत से उन्हें पता चला कि इतिहास की एक ही घटना के कितने अलग-अलग रूप उनको पढ़ाए गए हैं. जाहिर है दोनों सच नहीं हो सकते. बस यहीं से शुरुआत हुई द हिस्ट्री प्रोजेक्ट की.

लेकिन इस शुरुआत से एक महत्वपूर्ण सवाल जुड़ा हुआ है. क्या यह परियोजना दोनों देशों में इतिहास लेखन और साझा इतिहास से जुड़े तथ्यों के प्रस्तुतिकरण को लेकर किसी नई बहस को जन्म दे पाएगी? दूसरे शब्दों में कहा जाए तो इस परियोजना का हासिल क्या होगा? प्रोजेक्ट की भारतीय टीम के सदस्यों में से एक अनिल जॉर्ज कहते हैं, ‘हमारा मानना है कि युवाओं को अधिकार है कि वे तस्वीर का दूसरा पहलू देख सकें. खासतौर पर तब यह और आवश्यक हो जाता है जब मसला उनके अतीत से जुड़ा हो.’ वे कहते हैं कि वे सीमा के आर-पार तथ्यों में व्याप्त बदलाव को देखकर दंग रह गए. इतिहास लेखन हमारे और आपके जैसे लोगों ने ही किया है ऐसे में उनके लेखन में निजी नजरिया दाखिल हो गया हो, इसकी पूरी आशंका है.

भारत और पाकिस्तान की साझी विरासत में बिखरे पड़े इतिहास को उनके व्यापक संदर्भों के साथ पेश करने का बीड़ा उठाया है ‘द हिस्ट्री प्रोजेक्ट’ ने

बीते साल प्रकाशित इस परियोजना की पहली पुस्तक में पाकिस्तान तथा भारत में हाईस्कूल स्तर पर पढ़ाई जाने  वाली इतिहास की किताबों से सन 1857 से 1947 तक की 16 बड़ी घटनाओं के ब्योरे लिए गए. इसमें प्रथम स्वतंत्रता संघर्ष और भारत और पाकिस्तान का बंटवारा शामिल थे. इस किताब को तैयार करने के लिए नौ पाकिस्तानी तथा तीन भारतीय किताबों से तथ्य जुटाए गए. जब दोनों देशों की ओर से वर्णित तथ्यों को आमने-सामने रखकर देखा गया तो उनमें इतना अधिक अंतर था कि पढ़ने वाले दंग रह गए.  एक घटना के दो विरोधाभासी संस्करण तो थे ही, कई घटनाएं ऐसी भी थीं जिनका जिक्र एक देश के इतिहास में है जबकि दूसरे में वे पूरी तरह गायब हैं. जैसे 1930 में शुरू किया गया महात्मा गांधी का सविनय अवज्ञा आंदोलन पाकिस्तान में पढ़ाई जा रही किताबों में सिरे से नदारद है.

परियोजना के संपादक अपने शोध कार्य के लिए भारत में सीबीएसई और आईसीएसई तथा पाकिस्तान में कैंब्रिज प्रकाशन तथा पंजाब बोर्ड द्वारा कक्षा सात से 10 तक पढ़ाई जाने वाली इतिहास की किताबों की मदद ले रहे हैं. ये किताबें इस लिहाज से महत्वपूर्ण हैं कि छोटी उम्र में हासिल किया गया ज्ञान ही भविष्य में किसी व्यक्ति के सोचने समझने की क्षमताओं को आकार देता है. ऐसे में अगर द हिस्ट्री प्रोजेक्ट की किताबों को पढ़कर कोई बच्चा अपने ही इतिहास ज्ञान को नए सिरे से खंगालता है तो यही इस परियोजना की सबसे बड़ी सफलता होगी.

इसमें कोई शक नहीं कि बच्चों को पढ़ाए जाने वाले इतिहास की किताबों में राष्ट्रवाद की भावना प्रबल होती है. यहां तक कि कई दफा तो वे स्थापित तथ्यों के साथ छेड़छाड़ करने से भी नहीं चूकते. मिसाल के तौर पर भारतीय इतिहास की किताबों में मुहम्मद अली जिन्ना के शुरुआत में मुसलिमों-हिंदुओं के बीच एकता का समर्थक होने का जिक्र है लेकिन उनमें इस बारे में कोई खास जानकारी नहीं मिलती है कि आखिर क्यों उन्होंने अपना रुख बदल दिया और मुसलमानों के लिए अलग मुल्क की मांग पर अड़ गए. पाकिस्तानी किताबें यह बताती हैं कि कांग्रेस में हिंदुओं के वर्चस्व और मुसलिम अल्पसंख्यकों के लिए पैदा हो रही चुनौती इसकी वजह थी.

टीम के सदस्यों का कहना है कि यह कतई महत्वपूर्ण नहीं है कि बच्चे इन किताबों को पढ़कर भारत अथवा पाकिस्तान के इतिहास के बारे में कोई राय कायम करें. सबसे जरूरी यह है कि इसे पढ़कर उनके भीतर विचार की एक प्रक्रिया की शुरुआत हो और वे कथित रूप से स्थापित किए गए उन तथ्यों पर संदेह करना शुरू करें जो उन्हें भ्रामक लगते हैं. अपने भीतर पैदा किया गया यह खलल, उन्हें अधिक सजग और जानकार नागरिक के रूप में विकसित करेगा, जो राष्ट्र के विकास में दूसरों के मुकाबले अधिक बेहतर हस्तक्षेप कर सकेंगे.

2 COMMENTS

  1. पाकिस्तान में अच्छे लोगो की कोई कमी नहीं हे और वो अपनी आवाज़ मुखर भी करते हे लेकिन मसला यही हे की पाकिस्तान की बुनियाद ही झूठ पर रखी गयी थी वो झूठ ये था की पाकिस्तान इसलिए बना की भारत में मुसलमानो पर अत्याचार होता हे ऐसी कोई बात कतई नहीं थी महात्मा गांधी के शब्दों में ” ऊपर से लेकर नीचे तक जातियों में बटे हिन्दू समाज में इतना दम ही नहीं हे की वो चाहे भी तो मुसलमानो का शोषण या अतयाचार कर सके ” पाकिस्तान कई सारे झूठ पर बना खेर बन गया तो बन गया लेकिन मुसीबत पाकिस्तान के अछे भले ईमानदार बौद्धिक बुद्धिजीवियों की हो गयी वो बेचारे जितना सच बोलते हे तो यही लगता हे की वो पाकिस्तान की जड़े खोद रहे हे उन्हें गद्दार इंडिया हिन्दुओ का पिट्ठू कहा जाता हे और जो जितना झूठ बोलता हे ऐसा भरम होता हे की वो सच्चा पाकिस्तानी हे और पाकिस्तान की नीव मज़बूत कर रहा हे इसलिए पाक न्यूज़ चैनेलो पर बैठ कर ज़ैद हामिद ओरिया मक़बूल जान हामिद गुल फरहा हुसैन वगेरह वगेरह इतना बड़े झूठ बोलते हे की इतने बड़े झूठ शायद ही कोई और बोलता हो पाकिस्तान का एक मकबूल सामाजिक हास्य प्रोग्राम हे हस्ब ए हाल इसमें भारत की हर बात हर एक बात जैसी की एजुकेशन लोकतंत्र सुप्रीम कोर्ट चुनाव आयोग आर्थिक इस्तिति हर बात के लिए बढ़ चढ़ कर तारीफ की जाती हे लेकिन जैसे ही बात भारत के सेकुलरिज़म और मुसलमानो की बात होती हे तो बढ़ चढ़ कर झूठ बोले जाते हे क्योकि अगर य कह दिया की भारत सेकुलर हे और भारत के मुसलिमो और अकलियतों के हालात सही हे तो ये मन जाएगा की य बात पाकिस्तान के खिलाफ हे लोहिया जी ने सही कहा था की ”या तो पाकिस्तान भारत से लड़ता रहेगा या भारत में मिल जाएगा ” अब हमें करना ये चाहिए की जोर शोर से महासंघ की बात उठाय और विलय की बात का बकौल गुजराल साहब बिलकुल जिकर ही न करे जितना हम विलय की बात करेंगे महासंघ भी दूर होता जाएगा इसलिए पहले जोर शोर से महासंघ और कश्मीर की खुली सीमा ( कश्मीरियों के लिए ) की बात करनी चाहिएhttps://www.youtube.com/watch?… 21 : 20 से

  2. क्या ये पुस्तकें भारत में उपलब्ध हैं? रामदेव जी ने व राजीव दिक्षित जी ने पहले ही कांग्रेसी व अंग्रेज़ी इतिहासकारों की पोल खोल दी है, इसलिए दिलचस्प होगा यह जाणा कि आखिर कितना सच हमें पढाया जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here