जस्टिस उदय ललित के अगले सीजेआई बनने संभावना, दो महीने रहेंगे पद पर

मुसलमानों में ‘तीन तलाक’ प्रथा अवैध ठहराने सहित कई ऐतिहासिक फैसलों का हिस्सा रहे सर्वोच्च न्यायालय के दूसरे वरिष्ठतम जज जस्टिस उदय यू ललित देश के अगले प्रधान न्यायाधीश हो सकते हैं। ललित का कार्यकाल सिर्फ दो महीने का होगा लिहाजा इस साल नवंबर में तीसरे वरिष्ठतम जज डीवाई चंद्रचूड़ अगले प्रधान न्यायाधीश बन सकते हैं।

सरकार ने प्रधान न्यायाधीश एनवी रमना को पत्र लिखकर अपने उत्तराधिकारी के नाम की सिफारिश का अनुरोध किया है। कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने जो पत्र लिखा है वह पिछले कल देर शाम मुख्य न्यायाधीश के कार्यालय में प्राप्त हुआ है। सीजेआई एनवी रमना अब अपने उत्तराधिकारी के रूप में अपने बाद वरिष्ठतम जज जस्टिस यूयू ललित के नाम की सिफारिश करेंगे।

इस बीच सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की पिछले कल जो बैठक हुई थी उसमें जजों की नियुक्ति पर कोई सहमति नहीं बन पाई। तय किया गया कि नए प्रधान न्यायाधीश ही सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में जजों की नियुक्ति पर फैसला करेंगे। जस्टिस रमना रमना 26 अगस्त को सेवानिवृत्त होंगे।

वर्तमान सीजेआई रमना का कार्यकाल काफी उपलब्धियों भरा रहा है और वे अपनी बात कहने में काफी मुखर भी रहे हैं। उनके कार्यकाल में सुप्रीम कोर्ट में एक साथ 9 जजों सहित सहित पहली बार एक साथ तीन महिला जजों ने शपथ ली। यही नहीं इनमें एक जस्टिस बीवी नागरत्ना भविष्य में देश की पहली महिला सीजेआई बनेंगी। रमना के कार्यकाल में ही देश के अलग-अलग उच्च न्यायालयों में 250 जजों की नियुक्तियां हुई।