चंद महीने के ‘बिना चुने’ मुख्यमंत्री तीरथ विवादों से चर्चा में रहे

सरकार का सालाना समारोह रद्द किया
तीरथ सरकार ने राज्य में अपनी सरकार के चार साल पूरे होने के उपलक्ष्य में 18 मार्च को सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में ‘बातें कम काम ज्यादा’ थीम के साथ आयोजित होने वाले समारोहों को रद्द कर दिया था। त्रिवेंद्र ने अपने निर्वाचन क्षेत्र डोईवाला में एक मुख्य कार्यक्रम आयोजित करने की घोषणा की थी जहां केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित थे। पिछले महीने तीरथ ने अपने कार्यकाल के 100 दिन पूरे होने पर एक बुकलेट ‘सेवा, समर्पण और विश्वास के 100 दिन’ जारी की थी।

नियुक्तियों को रद्द करना
तीरथ सरकार ने त्रिवेंद्र द्वारा विभिन्न आयोगों, बोर्डों और निगमों में मंत्री रैंक के साथ अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सदस्य, सलाहकार के रूप में नियुक्त किए गए लोगों को हटाने का फरमान जारी कर दिया। तीरथ ने इन पदों पर नई नियुक्तियां नहीं की।

चार धाम यात्रा
पिछले हफ्ते तीरथ सरकार ने दो चरणों में चार धाम यात्रा शुरू करने के लिए एक कार्यक्रम की घोषणा की थी। कैबिनेट के फैसले पर उत्तराखंड हाईकोर्ट के रोक के बावजूद, सरकार ने यात्रा खोलने का निर्णय 25 जून को लिया था। हालांकि सरकार को बाद में अपना फैसला बदलना पड़ा और कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए चारथाम यात्रा स्थगित कर दी।

मोदी को भगवान राम और कृष्ण जैसा बता डाला
शपथ लेने के चार दिन बाद, रावत ने हरिद्वार में एक कार्यक्रम में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना भगवान राम और कृष्ण से की और कहा कि भविष्य में मोदी की राम और कृष्ण की तरह प्रशंसा की जाएगी। आज मोदी जी के सामने विभिन्न देशों के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री फोटो खिंचवाने के लिए लाइन होते हैं, कब मेरा नंबर आयेगा। पहले यह हाल था कि भहारत का प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति कहं दूर जा के खड़ा होता था। बगल में भटकने भी नहीं देते थे। लाइन में नंबर भी नहीं हो था। आज नया भारत मोदी जी के कारण है। मोदी का चमत्कार है। मैं तो कई बार कहता हूं लोगों को द्वापर में त्रेता में राम-कृष्ण हुए हैं और राम ने भी यही समाज के काम किया था इसलिए लोग भगवान मानने लग गए। आने वाले समय में नरेंद्र मोदी को भी उसी रूप में हम मानने लगेंगे वो काम नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री इस देश के अंदर कर रहा है उसकी जय जयकार। मोदी है तो मुमकिन है।

महिलाओं के जींस पर ‘संस्कारी’ टिप्पणी
तत्कालीन मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने अपने हवाई सफर का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी बगल में बैठी एक युवती की फटी जींस से उसके मूल्यों पर विवादित बयान दे डाला था। जब उनकी तरफ देखा तो नीचे गमबूट थे, जब और ऊपर देखा तो घुटने फटे थे, हाथ देखे तो कई कड़े थे… बच्चे दो साथ में उनके थे। मैंने कहा बहनजी कहां जाना है…दिल्ली जाना है, हस्बैंड कहां हैं। जेएनयू में प्रोफेसर हैं, तुम क्या करती हो…मैं एक एनजीओ चलाती हूं। एनजीओ चलाती हैं, घुटने फटे दिखते हैं, समाज के बीच में जाती हो, बच्चे साथ में हैं, क्या संस्कार दोगी?

राशन बांटने में बयानबाजी से नहीं चूके
रावत ने कहा कि हर घर में प्रति यूनिट पांच किलो राशन देने का काम किया। जसके 10 थे तो 50 किलो ले गया, 20 थे तो एक क्विंटल ले गया, दो थे तो 10 किलो हिस्से आया। लोगों ने स्टोर बना लिए, खरीदार सामने ढूंढ लिए। इतना बढ़िया चावल आया, कभी सामान्य जीवन के लिए आपने लिया नहीं होगा।