घट रहा असली दूध का उत्पादन

दुधारू पशुओं में लम्पी बीमारी और पशुपालकों की निराशा से पैदा हो रही समस्या

तक़रीबन अस्सी के दशक में मैं जब छोटा था, तो जब भी किसी बुज़ुर्ग को, ख़ासतौर पर बुज़ुर्ग महिलाओं को नमस्ते करने पर एक आशीर्वाद ज़रूर मिलता था- ‘दूधो नहाओ, पूतों फलो’ यानी तुम्हारे घर में ख़ूब दूध-घी हो और तुम्हारे कुल की वंश-बेल ख़ूब फले-फूले यानि घर बच्चों की किलकारियों से भरा रहे। लेकिन न तो अब यह आशीर्वाद किसी को मिलते देखने-सुनने में आता है और न ही दूध ही सबको मिल पा रहा है। कहने को हिन्दुस्तान दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश है।

पूरी दुनिया में कुल उत्पादित दूध का 22 फ़ीसदी दूध हिन्दुस्तान में होता है। दूध के इतने उत्पादन के बावजूद न तो देश की पूरी आबादी को दूध उपलब्ध हो पा रहा है, और न ही उन सबको शुद्ध दूध मिल पा रहा है, जिन्हें दूध उपलब्ध हो पा रहा है। क्योंकि दूध तो पहले ही पानी की मिलावट के लिए जाना जाता है, और अब तो न सिर्फ़ तरह-तरह की मिलावट हो रही है, बल्कि बड़ी मात्रा में जानलेवा केमिकल्स से नक़ली दूध भी बन रहा है। लेकिन इससे दु:खद यह है कि देश में प्राकृतिक दूध उत्पादन घटता जा रहा है। प्राकृतिक इसलिए कहा, क्योंकि ये दूध गाय, भैंस और बकरी आदि से प्राकृतिक रूप से प्राप्त होता है। इस प्राकृतिक दूध की कमी के चलते केमिकल से बनने वाले नक़ली दूध में लगातार इज़ाफ़ा हो रहा है।

गाय-भैंस के दूध का उत्पादन घटने के कई कारण हैं। पहला तो यह कि पिछले तीन-चार दशक में हरे चारे के मैदान तक़रीबन ख़त्म हो चुके हैं। दूसरा यह कि अब पशुओं के चारे और दाने में भी पहले जैसी ताक़त और गुणवत्ता नहीं है। तीसरा यह कि पिछले कुछ दशकों से चारा लगातार महँगा होता जा रहा है। चौथा बड़ा कारण कि पशु महँगे होते जा रहे हैं और पशुओं को बीमारियाँ पहले से ज़्यादा होने लगी हैं। इन सब कारणों से ग्रामीण क्षेत्रों में पशुपालन कम होता जा रहा है। दूध की बढ़ती माँग और असली दूध के घटते उत्पादन का परिणाम यह हुआ कि केमिकल से नक़ली दूध बनाने वाले अनाप-शनाप पैदा हो गये।

आज उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश के कई शहर नक़ली दूध उत्पादन के अड्डे बने हुए हैं। नक़ली दूध बनने का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि वित्त वर्ष 2010-11 में हिन्दुस्तान में कुल 1,218 लाख टन दूध का उत्पादन होता था, जो वित्त वर्ष 2019-20 में बढक़र 1,984 लाख टन हो गया। लेकिन ये आँकड़े हैं; और इनमें सच्चाई कितनी है, इस पर ठीक से नहीं कहा जा सकता है। क्योंकि जब गाय-भैंस का पालन गाँवों में घटा है, तो फिर उत्पादन कैसे बढ़ गया? ज़ाहिर है कि देश में तेज़ी से बढ़ रहीं नक़ली दूध की फैक्ट्रियाँ दूध उत्पादन के आँकड़ों में इज़ाफ़ा कर रही हैं। इसकी पुष्टि इस बात से होती है कि जितना असली दूध गायों और भैंसों से मिल रहा है, उससे तक़रीबन चार गुना ज़्यादा दूध लोगों तक पहुँच रहा है। जानकार बताते हैं कि कई दुग्ध डेयरियों में मिल्क पाउडर, पाम ऑयल और केमिकल से नक़ली दूध तैयार किया जाता है। एक किलो मिल्क पाउडर से 11 लीटर दूध तैयार किया जाता है। एक बोरी में 50 किलोग्राम मिल्क पाउडर होता है। यानी एक बोरी से 550 लीटर नक़ली दूध तैयार किया जाता है।

सवाल यह है कि अगर प्राकृतिक यानी गाय-भैंस के दूध का उत्पादन घट रहा है, तो फिर दूध उत्पादन के आँकड़े बढ़ कैसे रहे हैं? ज़ाहिर है कि नक़ली दूध ख़ूब सप्लाई हो रहा होगा; लेकिन इन नक़ली दूध बनाने वालों पर कोई शिकंजा कसने वाला नहीं है, जिससे असली दूध समझकर इसे पीने वालों को भयंकर शारीरिक नुक़सान हो रहा है।

दूध उत्पादन सहयोग समितियाँ धीरे-धीरे बन्द होती जा रही हैं। डेयरी मालिकों और प्रबंधकों ने पशुपालकों और किसानों से तो दूध कौड़ी भाव में ख़रीदना शुरू कर दिया है; लेकिन उसे बेचते सोने के भाव हैं। गाँवों में अभी भी भैंस का दूध 38-40 रुपये लीटर और गाय का दूध 23-24 रुपये लीटर ही बिकता है। यह भाव दूध की ख़रीदारी करने वाली सहकारी और निजी डेयरी समितियों के हैं। इसलिए किसानों और पशुपालकों का पशुपालन से लगातार मोह भंग होता जा रहा है। हाल यह है कि देश में दूध समितियों की संख्या घटकर क़रीब 70 फ़ीसदी रह गयी है। हालाँकि ऐसी दुग्ध डेयरी भी हैं, जो शुद्ध दूध और उससे बने उत्पादों के लिए विश्वसनीय हैं। लेकिन उनकी हदें हैं, यानी वो पूरे देश में तो दूध की सप्लाई नहीं कर सकतीं।