ग्रह से पहले पूर्वग्रह

दल द्वारा सबसे पहला सवाल जो पूछा गया, वह था, ‘तुम किस जाति के हो? कुछ अन्य सवाल जो उनकी तरह उछाले गए, वे इस प्रकार हैं- ‘तुम सबका धर्म क्या है?’ ‘तुम्हारी उपासना पद्धति क्या है?’ ‘तुम्हारा ईश्वर कौन है?’ ‘कौन-सा सम्प्रदाय है तुम्हारा?’ ‘तुम्हारी भाषा क्या है?’ ‘तुम कौन-सी बोली बोलते हो?’ ‘तुम्हारी बिरादरी के बाकी लोग कहां हैं ?’ ‘क्या तुम दोनों की आपस में रिश्तेदारी है?’ ‘तुम में एक ज्यादा काला क्यों हैं?’

वैज्ञानिकों का दल मुश्किल में- अभी उनके ऊपर प्रश्नों की बौछार हो रही थी कि दल को प्रश्न दागने  के क्रम को तोड़ना पड़ा. ऐसा स्वर्णिम अवसर कौन खोना चाहता था, मगर मजबूरी थी, क्योंकि तब तक एक एलियन की मौत हो चुकी थी. प्रश्नों की संख्या से या प्रश्नों की प्रकृति से, आदमी की संगत से या उसके संसर्ग में आने से हुए किसी, संक्रमण से, यह बता पाना बहुत मुश्किल है. बहरहाल, एक एलियन का शव सामने था और दूसरा एलियन सरपट अपने सिर पर पैर रख कर वहां से भाग चुका था. दो वैज्ञानिकों को छोड़कर दल के बाकी सदस्य भूलोक पर लौट आए.

सरकार को दल के अगुए द्वारा भेजी गई रिर्पोट- हमें विश्वास नहीं हो रहा है कि हमने वहां जीवन ही नहीं जीवधारियों की भी खोज कर ली है. हमारे दो सदस्य वहीं पर बने हुए हैं. एक, भागे हुए एलियन की खोज में वहां भाग रहे हैं. दूसरे, शव की सुरक्षा में बैठे हुए हंै. जीवित या मृत एलियन लाने के विषय में हमारे पास कोई पूर्व दिशा-निर्देश या योजना नहीं थी. अतः सरकार से अनुरोध है कि इस विषय को अपने संज्ञान में लेते हुए हमें शीघ्र निर्देशित करने का कष्ट करें. साथ में बहुत दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि कुछ मुख्य बातें जैसे उनकी जाति-धर्म-कर्मकांड वगैरह के विषय में हम कोई जानकारी प्राप्त नहीं कर सके. हमें आशा नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि हम जैसे ही दूसरे एलियन को खोज निकालेंगे, वैसे ही ये महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल कर लेंगे. यह जानकारी निस्संदेह हमारे देश की उन्नति में योगदान करेगी. धन्यवाद! जय हिंद!

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here