गुजरात में भाजपा बंपर जीत के साथ सत्ता में लौटी, हिमाचल में कांग्रेस का परचम

गुजरात में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जबरदस्त जीत हासिल करते हुए सर्वाधिक सीटों के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 156 सीटों पर निर्णायक बढ़त बना ली हैं। वहां कांग्रेस वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव का प्रदर्शन दौहराने में नाकाम रही और सिर्फ 17 सीटों पर उसकी बढ़त हैं। उधर पहाड़ी राज्य हिमाचल में कांग्रेस ने भाजपा के ‘रिवाज़ बदलों’ के नारे को फेल करते हुए 40 सीटों के साथ बहुमत हासिल कर लिया हैं। वहां भाजपा ने 25 सीटें जीती हैं। गुजरात में भाजपा विधायक दल 12 दिसंबर को अपने नेता का चुनाव करेगा जबकि हिमाचल में कांग्रेस ने विधायक दल की बैठक की तारीख अभी तय नहीं की हैं।

गुजरात के विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के यह भविष्यवाणी सही साबित हुई है भाजपा प्रदेश के चुनाव में रेकॉर्ड तोड़ मतों से जीतेगी। भाजपा वहां 156 सीटों पर जीत दर्ज कर रही हैं जबकि कांग्रेस 17 और पहली बार विधानसभा के चुनाव लड़ रही आम आदमी पार्टी ने 5 सीटें जीती हैं।

गुजरात में भाजपा ने राज्य के इतिहास में सबसे बड़ी जीत दर्ज करते हुए 150 का आंकड़ा पार कर लिया है। इससे पहले 1985 में माधव सिंह सोलंकी के नेतृत्व में कांग्रेस ने 149 सीटें जीती थी। अब ये रिकॉर्ड टूट गया हैं। वहां के नतीजों से साफ जाहिर है कि आप कांग्रेस को कुछ हद तक नुकसान पहुंचाने में सफल रही हैं क्योंकि उसने 10 फीसदी से ज्यादा मत हासिल किए हैं भले उसे सीटें सिर्फ 4 ही मिली। कांग्रेस ने करीब 26 प्रतिशत मत हासिल किए हैं जो उसके पिछली बार के 42 प्रतिशत से 16 प्रतिशत कम हैं।

हिमाचल में कांग्रेस ने 40 सीटें जीत कर सपष्ट बहुमत हासिल कर लिया है। पार्टी के तीन बड़े नेता प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेंद्र बघेल शिमला पहुंचे हैं। यहां यह बताना दिलचस्प है कि कांग्रेस के चुनाव प्रचार की कमान पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी, जिनका शिमला में घर भी हैंं, ने संभाली थी। कांग्रेस ने इस चुनाव में पुरानी पेंशन लागू करने को अपना सबसे बड़ा मुद्दा बनाया था। इसके अलावा पार्टी ने अपने दिवंगत नेता वीरभद्र सिंह को अपने प्रचार के पोस्टरो प्रमुख्ता से रखा था। इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने हिमाचल में पार्टी की जीत पर प्रदेश कांग्रेस को बधार्इ दी है।

राज्य में अब सबकी नजर इस बात पर टिक गयी हैं कि वहां कौन मुख्यमंत्री बनता हैं। इस पद की दौड़ में प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, वरिष्ठ विधायक हर्षवर्धन सिंह और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू को आगे माना जा रहा हैं। हालांकि आखिरी समय में कोर्इ और नाम भी सामने आ सकता हैं।