क्या रंगभेद का शिकार हुए सुनक?

LONDON, ENGLAND - JULY 17: (ONE MONTH FREE EDITORIAL USE; NO ARCHIVING) In this handout image provided by ITV, Conservative leadership candidate Rishi Sunak and Liz Truss during Britain's Next Prime Minister: The ITV Debate at Riverside Studios on July 17, 2022 in London, England. At 7pm on Sunday 17th July Live on ITV, Julie Etchingham hosts an hour-long debate in London with the five Conservative Party leadership contenders, vying to become Britains Prime Minister. All five candidates have agreed to take part and over the course of the 60-minute programme, they will debate with each other in response to questions put by the host. Taking place on the eve of the next round of voting, Rishi Sunak, Penny Mordaunt, Liz Truss, Tom Tugendhat, and Kemi Badenoch will debate the issues dominating the campaign. Each candidate will have the opportunity to make a closing statement. ITV is the UKs biggest commercial broadcaster and the programme will give the audience the opportunity to get to know more about the candidates and help them decide who has the qualities to be our new Prime Minister. Britains Next Prime Minister: The ITV Debate will also be streamed live on ITV Hub, as well as through ITV.com/news, ITV News YouTube channel, facebook and on Twitter. (Photo by Jonathan Hordle / ITV via Getty Images)

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री बनने के बाद लिज़ ट्रस के सामने हैं ढेरों चुनौतियाँ

क्या ऋषि सुनक भारतीय मूल के नहीं होते, तो अपनी योग्यता के बूते ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बन गये होते? बहुत-से हलक़ों में यह सवाल रहे हैं कि रंगभेद ऋषि सुनक और प्रधानमंत्री की कुर्सी के बीच दीवार बन गया। सुनक या उनके समर्थकों ने अपनी हार से पहले या बाद में भले ऐसी कोई बात नहीं की; लेकिन जिस तरह तत्कालीन प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सुनक के ख़िलाफ़ कंजर्वेटिव पार्टी के भीतर अभियान चलाया, रंगभेद समर्थक नेताओं को विरोध के लिए आगे किया और सुनक की छवि बिगाडऩे की कोशिश की, उससे सुनक की हार में रंगभेद को एक कारण मानने वालों की कमी नहीं है।

भारतीय मूल के उद्यमी और कंजरवेटिव पार्टी के दानदाता लॉर्ड रामी रोजर ने तो सितंबर के शुरू में ही एक वीडियो जारी करके कहा था कि अगर ऋषि सुनक चुनाव हार जाते हैं, तो ब्रिटेन को रंगभेदी देश के रूप देखा जा सकता है। लेकिन नहीं भूलना चाहिए कि यह आम चुनाव नहीं था, बल्कि सिर्फ़ कंजर्वेटिव पार्टी (ब्रिटेन की कुल आबादी का महज़ 0.25 फ़ीसदी) के भीतर का चुनाव था। आम चुनाव होते, तो शायद लिज़ पर सुनक भारी पड़ते।

वैसे लिज़ ट्रस और ऋषि सुनक के बीच मुक़ाबला कड़ा रहा। दोनों में 20,927 वोटों का अन्तर रहा। कंजर्वेटिव सांसदों की वोटिंग में सुनक शीर्ष पर बने हुए थे; लेकिन बाद में प्रतिनिधि समर्थन में वह पिछड़ गये। एक सर्वे कम्पनी यूगोव ने अपने एक सर्वे में दावा किया था कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पद की रेस में स्विंग वोटर्स के बीच ऋषि सुनक ज़्यादा लोकप्रिय हैं। सर्वे के मुताबिक, सुनक ऐसे मतदाताओं के बीच पसंदीदा हैं, जिन्होंने सन् 2019 के आम चुनाव में पहली बार कंजरवेटिव पार्टी को वोट दिया था।

हैरानी की बात है कि कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद लिज़ के हक़ में नहीं थे। सर्वे में हिस्सा लेने वाले ग़ैर-कंजर्वेटिव लोग कह रहे थे कि लिज़ सबसे कमज़ोर प्रधानमंत्री साबित होंगी। ऋषि पार्टी सांसदों की पहली पसन्द थे। हर सांसद उनकी क़ाबिलियत से वाक़िफ़ था। इसके बावजूद सुनक महँगाई कम करने और टैक्स रिलीफ के मुद्दों पर अपने स्टैंड से पीछे नहीं हटे। यह समझदार नेता की पहचान है। इसके बावजूद लिज़ जीत गयीं। सुनक टोरी सदस्यों के बीच मतदान के दौरान प्रतिद्वंद्वी ट्रस से पिछड़ गये। मार्गरेट थैचर और टेरेसा मे के बाद लिज़ ट्रस (47) ब्रिटेन की तीसरी महिला प्रधानमंत्री हैं।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के रूप में बोरिस जॉनसन ने 7 जुलाई को जब इस्तीफ़ा दिया था, तो उससे पहले उनके ख़िलाफ़ इस्तीफ़ा देने वालों में पूर्व चांसलर ऋषि सुनक सबसे पहले नेता थे। जॉनसन इस बात को कभी नहीं भूले और अपने समर्थकों को लगातार सुनक के ख़िलाफ़ सक्रिय रखा।

जीत के बाद लिज़ ट्रस ने कहा- ‘कंजर्वेटिव पार्टी की नेता चुनी जाने के बाद मुझे गर्व महसूस हो रहा है। देश के नेतृत्व के लिए मुझ पर विश्वास जताने के लिए धन्यवाद। इस मुश्किल समय में देश की अर्थ-व्यवस्था को आगे बढ़ाने और पूरी क्षमता को उजागर करने के लिए मैं साहसिक क़दम उठाऊँगी।’ उधर ऋषि सुनक ने जीत पर ट्रस को बधाई दी और उनके साथ चलने का सभी कंजर्वेटिव सदस्यों का आह्वान किया। उन्होंने कहा- ‘कंजर्वेटिव पार्टी एक परिवार है। अब हम नयी प्रधानमंत्री लिज़ ट्रस के पीछे एकजुट हैं; क्योंकि वह मुश्किल वक़्त में देश की कमान सँभालने जा रही हैं।’