क्या गुजरात पुलिस ने कमलेश तिवारी मामले में यूपी पुलिस को मात दी?

0
599

उत्तर प्रदेश पुलिस को देश के सबसे बड़ेपुलिस बल के रूप में जाना जा सकता है। लेकिन एक छोटे से गुजरात ने हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी के सनसनीखेज हत्याकांड के मामले में यूपी पुलिस को चालाकी से मात दी हैा। इस वीभत्स हत्या ने राजनीतिक रंग ले लिया क्योंकि पैगंबर मोहम्मद के बारे में उनके भडक़ाऊ बयानों के बाद उनकी हत्या की योजना के बारे में गुजरात पुलिस से मिले संकेत के बाद उन्हें पुलिस सुरक्षा देने के बावजूद राज्य पुलिस उन्हें बचाने में विफल रही है।

शाहजहाँपुर में उन्हें ट्रैक करने और क्लोज सर्किट कैमरों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में सफल होने के बाद भी, तिवारी के दोनों हत्यारे यूपी पुलिस को चकमा देने में कामयाब रहे और उत्तरप्रदेश के साथ लगती  700 किलोमीटर लंबी और दलदली सीमा से नेपाल में खिसक गए। वे उसी  सीमा के माध्यम से यूपी में फिर से प्रवेश करने में कामयाब रहे और कथित रूप से सतर्क यूपी पुलिस का ध्यान आकर्षित किए बिना राजस्थान को पार कर गए। अंत में, उन्हें गुजरात-राजस्थान सीमा के निकट गुजरात आतंकवाद-निरोधी दस्ते द्वारा श्यामलाजी जिले अरावली में पकड़ा गया।

दोनों मुख्य आरोपी, अशफाक हुसैन (34), एक मेडिकल प्रतिनिधि और फूड डिलीवरी बॉय, मोइनुद्दीन पठान (27), को 21 अक्टूबर को लखनऊ में खुर्शेदबाग स्थित निवास में हिंदू समूह के नेता कमलेश तिवारी की कथित हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

दोनों ने 18 अक्टूबर को लगभग 12.30 बजे, भगवा गमछा पहन कर कमलेश तिवारी को फोन किया और कहा कि वे उन्हें दीवाली के त्योहार के लिए मिठाई का डिब्बा देना चाहते हैं। तिवारी ने उन्हें चाय, नाश्ते की पेशकश के साथ गर्मजोशी से व्यवहार किया, और उनका असली मकसद नहीं पढ़ सके। तिवारी के समर्थक को पास की दुकान से सिगरेट और पान मसाला लेने के लिए भेजने के बाद और उसे अपने कार्यालय के कमरे में अकेला पाकर, उन्होंने उस पर धारदार चाकू से हमला कर दिन के प्रकाश में वहां सक भाग गए। तिवारी गंभीर रूप घायल हो गए। अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई। उसनी गर्दन पर दो गहरे जख्म के निशान पाए गए। उन्होंने तिवारी की खोपड़ी के पीछे एक गोली भी चलाई उनके चेहरे के बाईं ओर घाव था। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला कि उन्होंने उसे 15 बार बेरहमी चाकू मारे और चेहरे में गोली मार दी।

सबसे महत्वाकांक्षी दक्षिणपंथी कार्यकर्ता, कमलेश तिवारी को दिसंबर 2015 में राष्ट्रव्यापी सुर्खियों को आकर्षित करने के  विवाद के कारण गोली मार दी गई थी, जब उन्होंने पैगंबर मोहम्मद के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उनकी टिप्पणी के कारण देश भर में कई स्थानों पर विभिन्न मुस्लिम समूहों ने विरोध प्रदर्शन किया।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर और राजस्थान के टोंक में प्रदर्शनकारियों ने मांग की कि उनका ‘‘सिर कलम किया जाना चाहिए।‘‘  पश्चिम बंगाल के मालदा जिले के कालीचक में मुस्लिम समूहों द्वारा किया गया विरोध जनवरी 2016 में हिंसक हो गया था जब प्रदर्शनकारी पुलिस और सीमा सुरक्षा बल से भिड़ गए। प्रदर्शनकारियों ने कालियाचक पुलिस स्टेशन पर हमला किया और आग लगा दी। दर्जनों वाहनों में आग लगा दी गई। ट्रेन सेवाएं बाधित हुईं। “उनकी टिप्पणी के बाद हुए दंगों और विभिन्न स्थानों पर जहां मुसलमान उनकी मौत की मांग करते हुए उग्र हुए थे, उनकी मृत्यु के पीछेे वास्तविक कारण में कुछ अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं।

तिवारी के विवादास्पद घृणास्पद बयान से मुस्लिम बहुल बिजनौर जिले के कुछ मौलवियों की प्रतिसादात्मक प्रतिक्रियाएं आईं, जिन्होंने उनके कृत्य को निंदनीय माना और उनके साथ मारपीट करने का आह्वान किया और जो भी ऐसा करेगा उसे भारी मात्रा में नकद इनाम दिया जाएगा।

यूपी के डीजीपी ओ.पी. सिंह ने अगले ही दिन हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में एक प्रेस कांफ्रेंस की। उन्होंने कमलेश तिवारी द्वारा 2015 में दिए गए भाषण नेे इन लोगों को कट्टरपंथी बना दिया था, लेकिन जब हम बाकी बचे अपराधियों को पकड़ेगे तो और  अधिक सच सामने आ सकते हैं। उन्होंने खुलासा किया कि कैसे एक मिठाई के डिब्बे ने पुलिस को अपराधियों को पकडऩे में मदद की। उनकी हत्या के तुरंत बाद गुजरात एटीएस के पुलिस ने शमीम रशीद पठान, फैजान पठान और मोहसिन शेख नामक तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया, शेख पेशे से मौलवी है।

कमलेश शुरू में हिंदू महासभा से जुड़े थे, लेकिन जब से वे एक बड़ी प्रमुख भूमिका निभाना चाहते थे, तो उन्होंने हिंदू समाज पार्टी के नाम से अपनी पार्टी बनाई। हिंदू महासभा की इच्छा के बावजूद, उन्होंने महासभा की संपत्ति पर कब्जा करना जारी रखा, जहां से वह अपनी समानांतर हिंदू समाज पार्टी चला रहे थे। उनकी आक्रामकता ने कई विवादों को आमंत्रित किया जिससे अखिलेश यादव के शासन के दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत उनकी गिरफ्तारी और हिरासत में ले लिया। पैगंबर मोहम्मद पर अपनी टिप्पणी के लिए कई महीने जेल में बिताने के बाद, इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ द्वारा सितंबर 2016 में उन पर लगाए गए एनएसए के आरोपों को खारिज करने के बाद उन्होंने जमानत पर अपनी रिहाई को सुरक्षित कर लिया।

कमलेश ने 2018 में फिर से सुर्खियां बटोरीं, जब उन्होंने अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण के लिए ‘‘कारसेवा‘‘ (स्वयंसेवक सेवा) आयोजित करने की घोषणा की, मामला सुप्रीम कोर्ट के समक्ष लंबित रहने के बावजूद। उन्होंने अपने प्रचार स्टंट के माध्यम से एक विवाद के बाद विवादों को जन्म दिया। उन्होंने यह घोषणा करके महात्मा गांधी के हत्यारे का गौरव बढ़ाया कि वह नाथू राम गोडसे का मंदिर बनाएंगे। उन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर को मुक्त करने की घोषणा की, जहाँ कथित रूप से ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण इस हिंदू मंदिर पर आक्रमण करने के लिए किया गया था। विश्व हिंदू परिषद (टभ्च्) भी नारेबाजी के बाद नारे लगाती है, ‘‘अयोध्या हुई हमारी है, अब मथुरा काशी की बारी है‘‘ कमलेश 2018 में  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुंह से पैगंबर मोहम्मद की प्रशंसा को सहन नहीं कर सके। उन्होंने सवाल किया, ‘‘जब वह पैगंबर मोहम्मद की प्रशंसा करते हैं, उनके आदर्शों का पालन करने का वादा करते हुए वे हिंदुत्व के नेता कैसे हो सकते हैं’’।

इसलिए, कमलेश तिवारी एक जटिल व्यक्तित्व थे, जो हिंदू नेताओं पर हमला करता है जबकि उसके मन में  किशोरावस्था से मुसलमानों के लिए कट्टर निहित घृणा भी। उसके शत्रु दोनों ओर से हो सकते हैं। जब उनकी हत्या हुई तो  भावनात्मक रूप से पीडि़त उनकी मां कुसुम तिवारी ने उन्होंने आरोप लगाया कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उनकी लोकप्रियता से जलन थी । उन्होंने सवाल किया, ‘‘जब वह कट्टरपंथी मुस्लिम चरमपंथियों की हिट लिस्ट में थे और राज्य सरकार को गुजरात सहित अन्य राज्यों से इस आशय के संकेत मिले थे, तब उनका सुरक्षा घेरा क्यों नहीं बनाया गया?‘‘

उनकी टिप्पणी पर तंज कसते हुए, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने शनिवार को राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए अपनी ‘मुठभेड़‘ नीति के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ की आलोचना की। उन्होंने सुझाव दिया कि हत्याएं रुक नहीं सकतीं क्योंकि मुख्यमंत्री ने खुद पुलिस अधिकारियों को गोली मारने की अनुमति दी है, जो भी कानून और व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए सोचते हैं। उन्होंने टिप्पणी की, “जब सीएम खुद कहेंगे कि हालात सुधारने के लिए परेशानी पैदा करने वालों को खत्म करो तो हत्याएं कैसे रुकेंगी। लेकिन उनके आदेश के बाद, न तो पुलिस को पता है कि किसे गोली मारनी है और न ही लोगों को। “उन्होंने कमलेश तिवारी को प्रदान की गई सुरक्षा में चूक के लिए राज्य सरकार को भी जिम्मेदार ठहराया।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कमलेश तिवारी की हत्या के बाद ’अपराध को नियंत्रित करने में असफल’ योगी सरकार पर हमला किया। उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा पर कानून-व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने में उसकी कथित विफलता पर एक चुटकी लेते हुए उसने आरोप लगाया कि योगी सरकार राज्य में अपराधों की बढ़ती संख्या को नियंत्रित करने में ‘‘असफल‘‘ है। यूपी पुलिस प्रशासन के बारे में बताते हुए उन्होंने अपने ट्वीट में विभिन्न हत्याओं का हवाला दिया जिसमें सहारनपुर में एक भाजपा नेता, कुशीनगर में पत्रकार, मेरठ में एडवोकेट, बस्ती में छात्र नेता, मऊ में बेटे और लखनऊ में कमलेश तिवारी शामिल हैं।

कमलेश तिवारी का परिवार बहुत परेशान था, जब उनका पार्थिव शरीर सीधे उनके पैतृक स्थान महमूदाबाद से सटे सीतापुर जिले में भेजा गया, जबकि परिवार और दोस्त लखनऊ निवास पर इक_े थे। उनके शव का अंतिम संस्कार करने के लिए परिवार ने विरोध किया, लेकिन कमिश्नर लखनऊ मुकेश मेश्राम, डीएम कौशलराज शर्मा और अन्य अधिकारी ने परिवार की नौ सूत्रीय मांगों को स्वीकार किया, जिसमें पर्याप्त मुआवजा, घर, बेटे को सरकारी नौकरी और मारे गए हिंदू नेता के परिवार को सुरक्षा प्रदान की गई। इसके बाद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच उनकी मां सहित परिवार के सदस्यों ने सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। बाद में सीएम योगी आदित्यनाथ ने परिवार के लिए 15 लाख रुपये मुआवजे की मंजूरी दी। राज्य सरकार ने महमूदाबाद (सीतापुर) में परिवार को एक घर भी आबंटित किया।

कड़ी सुरक्षा के बीच परिवार के सदस्यों को सीएम से मिलने के बाद उनके मूल स्थान पर ले जाया गया और यहां तक कि मीडियाकर्मियों को भी सीएम आवास के सामने परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत करने की अनुमति नहीं दी गई। लेकिन सीतापुर पहुंचने के बाद उनकी मां ने शिकायत की कि पुलिस उन्हें अनिच्छा से सीएम के पास ले गई क्योंकि 13 दिनों के दौरान हिंदू परंपराओं के अनुसार किसी को अपना घर नहीं छोडऩा चाहिए, लेकिन अधिकारियों ने उन्हें मुख्यमंत्री से मिलने के लिए मजबूर किया।

कमलेश की पत्नी और माँ के अलग-अलग संस्करण थे। मृतक किरण तिवारी की पत्नी का नाम मोहम्मद मुफ्ती नईम और अनवारुल हक है, जिन्होंने कथित रूप से रुपये की घोषणा की थी। किरण ने 18 अक्टूबर, 2019 की आधी रात को कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश रचने के लिए उन्हें अपनी प्राथमिकी में नामित किया, जहां उनकी मां कुसुम तिवारी ने उनके उन्मूलन के पीछे एक स्थानीय भाजपा नेता शिव कुमार गुप्ता के साथ दुश्मनी का हवाला दिया।

राज्य के पुलिस महानिदेशक ओ.पी. सिंह की दिन और रात की निगरानी में यूपी एसआईटी और गुजरात एटीएस के  समन्वय के साथ हाई प्रोफाइल हत्या के रहस्य को आखिरकार सुलझा लिया गया, गुजरात-राजस्थान सीमा पर शामलाजी के पास गुजरात आतंकवाद-रोधी दस्ते ने तिवारी हत्या मामले में अशफाक हुसैन और मोइनुद्दीन खुर्शीद पठान को गिरफ्तार किया। दोनों आरोपी नेपाल भाग गए थे, लेकिन पैसे की कमी के कारण उन्हें भारत लौटना पड़ा। उन्होंने दोस्तों और रिश्तेदारों से संपर्क किया, जो निगरानी में थे। गुजरात-राजस्थान सीमा पर पुलिस उनकी लोकेशन को ट्रैक करने और उन्हें पकडऩे में सक्षम थी।

इससे पहले मामले में, तीन आरोपियों मौलाना मोहसिन शेख, फैजान सदस्य और राशिद पठान को भी गुजरात एटीएस और यूपी पुलिस ने एक संयुक्त अभियान में गिरफ्तार किया था और ट्रांजिट रिमांड पर उत्तर प्रदेश ले जाया गया था। एक अदालत ने मंगलवार (22 अक्टूबर, 2019) को तीनों आरोपियों को चार दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इस मामले के एक अन्य आरोपी सैय्यद आसिम अली को महाराष्ट्र एटीएस ने सोमवार को नागपुर से गिरफ्तार किया था। अदालत द्वारा लखनऊ के लिए उनके ट्रांजिट रिमांड की अनुमति देने के बाद सभी आरोपी व्यक्ति यूपी एसआईटी जांच का सामना करेंगे।