कोई मज़हब परिपूर्ण नहीं

ईश्वर को पाने के लिए मज़हबों का सहारा लेना ज़रूरी नहीं है। मज़हब तो केवल ज्ञान का स्रोत हैं। लेकिन किसी मज़हब में परिपूर्ण ज्ञान नहीं है। अगर परिपूर्ण होता, तो फिर दुनिया में कई मज़हबी किताबों की आवश्यकता ही नहीं होती। न ही इतने मज़हब बनते। सबका एक ही मज़हब होता। सब एक ही मज़हब को तरजीह देते। लेकिन मज़हब विचारों की देन हैं। जिस तरह अरबों लोगों के विचार किसी भी काल में एक समान नहीं हो सके, उसी तरह एक मज़हब का होना भी असम्भव था। सो जिस काल में जो भी सन्त या विद्वान हुए, उन्होंने अपने-अपने हिसाब से ईश्वर और उस तक पहुँचने के रास्ते बताने का प्रयास किया। लेकिन सबने एक बात पर सबसे ज़्यादा बल दिया, और वह है- मानवता अर्थात् इंसानियत। किसी ने दो ईश्वर नहीं बताये। किसी ने जल, वायु, अग्नि, पृथ्वी और आकाश को अपना बताने और सभी का उस पर अधिकार होने से इन्कार नहीं किया; और कोई भी इन तत्त्वों के टुकड़े नहीं कर सका।

फिर आपस में प्यार क्यों नहीं? क्यों सब एक होकर नहीं रह सकते? इसका सीधा-सा जवाब है- लोग एकमत नहीं हैं। उनके विचार अलग-अलग हैं। हालाँकि सभी मज़हब लोगों को जोडऩे की बात करते हैं। लेकिन सभी मज़हबों की किताबें अलग-अलग होने की वजह से लोग अपनी-अपनी पसन्द से उन मज़हबों को स्वीकार करते हैं और उनमें विश्वास रखते हैं; और सभी इन मज़हबों के सहारे ईश्वर को पाना चाहते हैं। अर्थात् उद्देश्य एक होने के बावजूद लोग आपस में कभी एक नहीं होते। भले ही वे यह स्वीकार करते हैं कि उनका मालिक एक ही ईश्वर है और यह भी जानते हैं कि वही ईश्वर सभी का पिता है। आश्चर्य की बात है कि दुनिया के अधिकांश लोग इस बात पर एकमत होते हुए भी एक नहीं हैं। इसकी वजह यह है कि लोग एक-दूसरे को ख़ुद से, ख़ुद के विचार से, ख़ुद के अस्तित्व से ऊपर न मानना चाहते हैं और न देखना।

हैरानी की बात यह है कि लोग अपनी-अपनी मर्ज़ी के मज़हबों को इसलिए पकड़े बैठे हैं; क्योंकि उनमें यह विश्वास कूट-कूटकर भरा है कि ये मज़हब उन्हें ईश्वर तक ले जाएँगे। और यही लोगों की सबसे बड़ी मूर्खता है। ये ठीक ऐसे ही है, जैसे वाहन चलाने का हुनर न जानने वाले लोग उसमें बैठ जाएँ और अपेक्षा करें कि वह वाहन उन्हें गन्तव्य तक ले जाएगा। दरअसल वाहन तो गन्तव्य तक ले जाने के लिए साधन मात्र है। जिस तरह वाहन को ठीक से चलाना आने पर ही वह गन्तव्य तक ले जा सकेगा, उसी तरह मज़हबों के मार्गदर्शन पर चलना आना चाहिए और वह भी ठीक से। वाहन और मज़हब दोनों के सहारे चलने पर छोटे-बड़े गड्ढे अर्थात् परेशानियाँ, अनेक तरह की मुसीबतें, मुश्किलें आती हैं। केवल ध्यान, सन्तुलन, गति, स्फूर्ति आदि का ध्यान रखना होता है। लेकिन इन सबसे इतर एक महत्त्वपूर्ण चीज़ है और वह यह है- गति। जिस तरह वाहन में स$फर करते समय वाहन की गति की तरफ़ हमारा शरीर गतिमान रहता है, ठीक उसी तरह मज़हब का सहारा लेने के समय हमें शरीर और मन, दोनों से उसकी गति (मज़हबी किताब में बताये गये मार्ग) की ओर अनवरत तय करनी होगी। अन्यथा कोई फ़ायदा नहीं।