किसान आंदोलन के छह माह पूरे होने पर मनाया जा रहा काला दिवस

किसान आंदोलन के छह महीने पूरे होने पर बुधवार को दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसान काला दिवस मना रहे हैं। केंद्र में मोदी सरकार के सात और किसानों के आंदोलन के छह माह पूरे होने के बीच 26 मई को अन्नदाताओं ने सभी किसानों से अपने घरों व वाहनों पर काला झंडा लगाने का आह्वान है।

देशभर के सभी धरनास्थलों पर काली पगड़ी व चुनरी पहनकर धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। पंजाब और हरियाणा के कई गांवों में पीएम का पुतला फूंका गया। संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं का कहना है कि किसानों की मांग मनवाने के लिए सरकार पर दबाव बनाना जरूरी है। इस बीच, तमिलनाडु सरकार ने कहा है कि वह कृषि कानूनों के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पेश करेगी।

इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन यानी भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया कि हम काले झंडे के साथ ही तिरंगा भी लेकर चल रहे हैं। छह महीने हो गए हैं, लेकिन सरकार हमारी बात नहीं सुन रही है। इसलिए किसान काले झंडे रखने को मजबूर हुए हैं। हम सबकुछ शांतिपूर्वक तरीके से कर रहे हैं। इसके साथ ही हम कोविड के नियमों का पालन भी कर रहे हैं।

दिल्ली से सटे यूपी गेट पर काला दिवस मनाने के दौरान भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने मंच से किसानों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि यदि छह महीने में भी सरकार किसानों से बात नहीं करती तो इसका मतलब यह है कि आंदोलन लंबा चलेगा। उन्होंने कहा कि किसान कभी भी सरकार के पुतले फूंकने में विश्वास नहीं रखता था मगर अब सरकार ने मजबूर कर दिया। उन्होंने कहा कि काला दिवस महज यूपी बॉर्डर पर ही नहीं, बल्कि पूरे देश में मनाकर विरोध किया जा रहा है।