किसानों को कुचलकर मारने के आरोपी केंद्रीय मंत्री के बेटे पर एफआईआर; लखीमपुर जा रही प्रियंका, कई नेता हिरासत में

उत्तर प्रदेश पुलिस ने आखिर भारी दबाव के बाद किसानों को गाड़ी से कुचलकर मार देने के आरोपी केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय मिश्रा के पुत्र आशीष मिश्रा समेत 14 लोगों के खिलाफ हत्‍या, आपराधिक साजिश और दंगा करने समेत कई धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली है। इस घटना में 8 लोगों की मौत हुई है। उधर लखीमपुर के तिकुनिया में कथित तौर पर मंत्री के बेटे की गाड़ी के नीचे कुचलकर शहीद हुए किसानों के परिजनों से मिलने जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इलाके में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गयी हैं और वहां धारा 144 लगा दी गयी है। संयुक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैत लखीमपुर पहुँच गए हैं और इलाके में जबरदस्त तनाव बना हुआ है।

लखनऊ में धरने पर बैठे सपा नेता अखिलेश यादव को भी हिरासत में लिया गया है। यादव ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफे की मांग की है। लखीमपुर में किसानों की इस तरह हत्या की घटना के बाद देश भर में गुस्सा पैदा हो गया है। केंद्रीय मंत्री के बेटे के खिलाफ एफआईआर बहराइच नानपारा के जगजीत सिंह की तहरीर पर दर्ज की गई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक लखीमपुर में हिंसक झड़प के दौरान किसानों की मौत को लेकर केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री अजय मिश्रा के आरोपी बेटे आशीष मिश्रा समेत 14 लोगों के खिलाफ हत्‍या, आपराधिक साजिश और गंगा सहित कई धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है। लखीमपुर के तिकुनिया थाने में यह  एफआईआर दर्ज हुई है।

उधर राज्यमंत्री अजय मिश्रा ने सफाई दी है कि उपद्रवी तत्वों ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला किया, लाठी-डंडों और तलवारों से पीटा जिसके वीडियो उनके पास हैं। तत्वों ने गाड़ियों में आग लगाई जबकि उनका बेटा कार्यक्रम स्थल पर था। मंत्री के दावे के मुताबिक उनके तीन कार्यकर्ताओं और ड्राइवर की मौत हुई है जिसके खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया है।

इस बीच किसानों से मिलने के लिए सोमवार सुबह लखीमपुर खीरी पहुंचने वाली  कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी को हरगांव के पास ही हिरासत में ले लिया गया। प्रियंका गांधी आधी रात एक बजे वहां के लिए रवाना हुई थीं। प्रियंका गांधी को हरगांव से हिरासत में लेकर सीतापुर पुलिस लाइन ले जाया गया। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि प्रियंका गांधी से पुलिसकर्मियों ने जोर जबरदस्ती की।