किलों के प्यार ने जिसे भारतीय बना दिया था

imgफ्रांसिस का जन्म एक पुर्तगाली जहाज पर हुआ जो उनके परिवार को फ्रांस से क्यूबा ले जा रहा था. साढ़े चार साल क्यूबा में रहने के बाद फ्रांसिस का परिवार वापस फ्रांस चला गया और दो साल बाद मोरक्को. मोरक्को में आठ साल रहने के बाद, जहां फ्रांसिस ने स्कूली शिक्षा हासिल की, उनका परिवार वापस फ्रांस आकर बस गया जहां उन्होंने कॉलेज और एमबीए किया. फिर आगे की पढ़ाई के लिए वे एक साल ब्रिटेन में रहे. इसके बाद फ्रांस का नागरिक होने के नाते एक साल की अनिवार्य मिलिट्री ट्रेनिंग के लिए जर्मनी भेजे गए. अगले दो साल मैक्सिको और ब्राजील में गुजारने के बाद उन्होंने भारत का रुख किया. पिछले 41 साल से फ्रांसिस यहीं रह रहे थे.
तहलका ने कुछ समय पहले उनसे मुलाकात की थी. खुद को आखिरी समय तक वामपंथी मानने वाले फ्रांसिस पहली बार भारत 1969 में एक कट्टर वामपंथी पत्रकार दोस्त के साथ आए जो नक्सलबाड़ी आंदोलन कवर करना चाहता था. ये दोनों कई वामपंथी नेताओं से मिले जिनमें ईएमएस नंबूदिरीपाद  (केरल और देश की पहली वामपंथी सरकार के मुख्यमंत्री) भी थे. तहलका से बात करते हुए उनका कहना था, ‘नंबूदिरीपाद बेहद अच्छे इंसान थे, खुले विचारों के और सीधा बोलने वाले. काफी संपन्न और रुढ़िवादी परिवार से होने के बाद भी उन्होंने अपना सब-कुछ छोड़ कर लोगों के लिए काम किया.’ लेकिन बाद में फ्रांसिस नंबूदिरीपाद की विचारधारा के विरोधी हो गए.उनका कहना था, ‘तब मैं सिर्फ 26 का था. उस उम्र में समाज को बदलने और चीजों को सुधारने को लेकर आप ज्यादा उत्साहित रहते हैं. लेकिन आज जब पलट कर देखता हूं तो काफी मुद्दों पर उनका नजरिया सही नहीं लगता.’ उसी दौरान वे फ्रांसिस मृणाल सेन और सत्यजीत रे के भी करीब आए. उस दौर की नई धारा के सिनेमा के आंदोलन में भी शामिल हुए और श्याम बेनेगल, कुमार साहनी, मणि कौल जैसे दिग्गजों के साथ काम भी किया.

दूसरी तरफ पत्रकार दोस्त यहां वामपंथ की हालत से नाराज एक महीने में ही वापस लौट गया मगर फ्रांसिस अगले तीन महीनों के लिए यहीं रुक गए. उन्हें भारत से प्यार हो गया था. कुछ लव एट फस्ट साइट जैसा. उन्होंने ट्रेन के थर्ड क्लास डिब्बे से लेकर लोकल बसों में सफर किया. इस देश के आम लोगों को करीब से जाना और उनसे खूब बातचीत की. लोगों के साथ यह संपर्क ही वह चीज थी जिसकी तरफ फ्रांसिस सबसे ज्यादा आकर्षित हुए. मगर उन्होंने हमेशा के लिए भारत में रुकने का फैसला कर्नाटक में एक गरीब जुलाहों के गांव में कुछ हफ्ते बिताने के बाद लिया. बकौल फ्रांसिस, ‘उस गांव की जगह अगर दिल्ली या मुंबई में वह वक्त गुजारता तो शायद मैं यहां रहने का फैसला नहीं करता. वह भारत के साथ मेरे लव अफेयर की शुरुआत थी.’

इसके बाद फ्रांसिस ने मुंबई स्थित फ्रांस के वाणिज्य दूतावास में सहायक वाणिज्य आयुक्त की नौकरी कर ली. वहीं फ्रांसिस के घरवालों ने उनके फैसले का समर्थन तो किया मगर चिंता भी जताई. दरअसल 1970 के उस दौर में बाहर देशों में भारत की पहचान गाय, फकीर, गरीबी और गंदगी के तौर पर ही थी.

कुछ साल बाद 1977 में फ्रांसिस शेखावटी के भित्तिचित्रों पर अपने दोस्त अमरनाथ के साथ मिलकर लिखी जा रही एक किताब के सिलसिले में राजस्थान के सीकर और झुंझुनू जिलों में गए. यहां शोध के दौरान उन्होंने पहली बार नीमराना किले को देखा जो पिछले 40 सालों से खंडहर था. इस किले के बारे में फ्रांसिस का कहना था ‘उस किले को देख कर हमें उससे इस कदर प्यार हो गया कि हमने 1986 में वहां के महाराजा से उसे सात लाख में खरीद लिया. उस समय हमें नहीं पता था कि हम इसे होटल में तब्दील करेंगे. लेकिन बाद में जब हमने कुछ कमरों का नवीनीकरण कर अपने दोस्तों को दिखाया तो उन लोगों ने इसे इतना पसंद किया कि वे यहां रहने चले आए. हम लोगों को पता चलता उससे पहले ही नीमराना किला एक होटल बन चुका था.’

kile
नीमराना किला जिसे नवीनीकरण करने के बाद होटल में बदल दिया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here