एम–बाई फैक्टर किसके लिये है उपयोगी

राजनीति में प्रयोग और संयोग का ऐसा संगम होता है कि जो अक्सर सामने आ ही जाता है। जैसा कि आजकल उत्तर प्रदेश के विधानसभा के चुनाव में देखने को मिल रहा है। उत्तर प्रदेश की सियासत में समाजवादी पार्टी (एमबाई) पर ये जुमला खूब चलता है कि समाजवादी पार्टी मुस्लिम–यादव (एम-बाई) फैक्टर की राजनीति करती है।

अब यही जुमला भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) चल रहा है कि भाजपा भी एम बाई फैक्टर पर चल रही है। यानि मोदी और योगी। यहां के लोगों का कहना है कि प्रदेश में असली मुकाबला तो सपा और भाजपा के बीच है। दोनों दलों के बीच एम बाई फैक्टर का जादू चल रहा है। लेकिन ये तो चुनाव परिणाम ही बताएंगे कि कौन सी पार्टी का एम-बाई फैक्टर का जादू चला है।