उल्फा ने कहा, हमने नहीं की हत्याएं

पांच लोगों की हत्या के बाद तिनसुखिया में तनाव, बंद की अपील

0
302
असम के तिनसुकिया के खेरोनी में गुरुवार रात पांच लोगों की हत्या के बाद वहां गुस्सा फूट पड़ा है और विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। इस हत्याकांड का आरोप उल्फा (इंडिपेंडेंट) पर लगा है लेकिन उसने शुक्रवार को इस घटना में शामिल होने से इंकार किया है। घटना के विरोध में १२ घंटे के बंद की काल ऑल असम बंगाल यूथ स्टूडेंट्स फेडरेशन दी गयी है।
रिपोर्ट्स के मुताबिक तिनसुकिया जिले में सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है। गुरूवार रात खेरोनी में पांच लोगों की गोलियां मार कर हत्या कर दी गई जिसके बाद इलाके में लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। इस घटना में दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। हत्या का आरोप अपने ऊपर लगने के बाद उल्फा (इंडिपेंडेंट) ने बाकायदा एक प्रेस रिलीज जरी कर सफाई दी है कि वह इस घटना के पीछे नहीं है। पुलिस को हालांकि, संदेह है कि हमलावर उल्फा (इंडिपेंडेंट) उग्रवादी संगठन से जुड़े थे।
रिपोर्ट्स में बताया गया है कि मारे गए पांच में से तीन एक ही परिवार के थे। घटना के मुताबिक आधुनिक हथियारों से लैस हमलावरों ने ढोला-सादिया पुल के करीब गांव में रात करीब आठ बजे इन लोगों को घर से बाहर बुलाया और अंधाधुंध फायरिंग कर उनकी हत्या कर दी। बाद में वे फरार हो गए।
इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने घटना की कड़ी निंदा की है।
मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने भी मासूम लोगों की हत्या की निंदा की और पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की है। उन्होंने कहा कि घटना के जिम्मेवार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों तपन गोगोई और केशव महंत को डीजीपी कुलाधार साइकिया के साथ मौके पर जाने के निर्देशअसम के तिनसुकिया के खेरोनी में गुरुवार रात पांच लोगों की हत्या के बाद वहां गुस्सा फूट पड़ा है और विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। इस हत्याकांड का आरोप उल्फा (इंडिपेंडेंट) पर लगा है लेकिन उसने शुक्रवार को इस घटना में शामिल होने से इंकार किया है। घटना के विरोध में १२ घंटे के बंद की काल ऑल असम बंगाल यूथ स्टूडेंट्स फेडरेशन दी गयी है।
रिपोर्ट्स के मुताबिक तिनसुकिया जिले में सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है। गुरूवार रात खेरोनी में पांच लोगों की गोलियां मार कर हत्या कर दी गई जिसके बाद इलाके में लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। इस घटना में दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। हत्या का आरोप अपने ऊपर लगने के बाद उल्फा (इंडिपेंडेंट) ने बाकायदा एक प्रेस रिलीज जरी कर सफाई दी है कि वह इस घटना के पीछे नहीं है। पुलिस को हालांकि, संदेह है कि हमलावर उल्फा (इंडिपेंडेंट) उग्रवादी संगठन से जुड़े थे।
रिपोर्ट्स में बताया गया है कि मारे गए पांच में से तीन एक ही परिवार के थे। घटना के मुताबिक आधुनिक हथियारों से लैस हमलावरों ने ढोला-सादिया पुल के करीब गांव में रात करीब आठ बजे इन लोगों को घर से बाहर बुलाया और अंधाधुंध फायरिंग कर उनकी हत्या कर दी। बाद में वे फरार हो गए।
इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने घटना की कड़ी निंदा की है।
मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने भी मासूम लोगों की हत्या की निंदा की और पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की है। उन्होंने कहा कि घटना के जिम्मेवार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों तपन गोगोई और केशव महंत को डीजीपी कुलाधार साइकिया के साथ मौके पर जाने के निर्देश दिए हैं।
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी घटना पर दुख जताते हुए कहा कि इस घृणित अपराध के दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने ट्वीट में कहा – ”कहीं यह हमला राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) से जुड़े घटनाक्रम से संबंधित तो नहीं था। मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी पूरी सहानुभूति है”।
दिए हैं।
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी घटना पर दुख जताते हुए कहा कि इस घृणित अपराध के दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने  ट्वीट में कहा – ”कहीं यह हमला राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) से जुड़े घटनाक्रम से संबंधित तो नहीं था। मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी पूरी सहानुभूति है”।