उन्नाव रेप हादसा मामले में भाजपा विधायक समेत २५ पर मामला दर्ज

सीजेआई को देरी से मिली पीड़िता की चिट्ठी, रिपोर्ट मांगी

0
855
उत्तर प्रदेश पुलिस ने उन्नाव रेप कार हादसा मामले में पहले से जेल में बंद भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर सहित २५ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इस बीच सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने अदालत के रजिस्ट्रार को पीड़िता की तरफ से लिखी गई चिट्ठी पर रिपोर्ट देने को कहा है। प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि उन्हें मंगलवार को ही यह चिट्ठी मिली है।
प्रधान न्यायाधीश ने रजिस्ट्रार को इस बारे में जवाब देने को कहा है कि अभी तक ये चिट्ठी उनके सामने क्यों नहीं आई थी। गुरुवार को जब सुनवाई होगी तो ये रिपोर्ट अदालत को सौंपी जाएगी, इसके साथ ही पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट भी सौंपी जाएगी। याद रहे मीडिया में पीड़िता के परिजनों की तरफ से यह ब्यान आया था कि उन्होंने १२ जुलाई को सीजेआई को परिवार को विधायक की तरफ से दरपेश खतरे के प्रति जानकारी जानकारी देने और हस्तक्षेप करने के लिए चिट्ठी लिखी थी।
पिछले कल ही मीडिया में यह सामने आया था कि पीड़िता की मां ने दो हफ्ते पहले सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखी थी, लेकिन चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के पास ये चिट्ठी पहुंची ही नहीं। बुधवार को अदालत में सुनवाई के दौरान सीजेआई ने कहा कि उन्हें अखबार पढ़ने के बाद पता लगा कि पीड़िता की मां ने उन्हें चिट्ठी लिखी है।
अब मामले में गुरुवार को सर्वोच्च अदालत सुनवाई करेगी। गुरुवार को जब सुनवाई होगी तो ये रिपोर्ट अदालत को सौंपी जाएगी, इसके साथ ही पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट भी सौंपी जाएगी।
उधर उन्नाव रेप पीड़िता हादसे के मामले में सीबीआई ने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उसके भाई समेत २५ लोगों के खिलाफ बुधवार को मुकदमा दर्ज कर लिया है। एफआईआर में कुलदीप सिंह सेंगर, मनोज सिंह सेंगर, विनोद मिश्रा, हरिपाल सिंह, नवीन सिंह, कोमल सिंह, अरुण सिंह, ज्ञानेंद्र सिंह, रिंकू सिंह, वकील अवधेश सिंह का नाम शामिल है। इसके अलावा डेढ़ दर्जन अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ भी केस दर्ज हुआ है।
हादसे के बाद मचे बवाल के बीच राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी थी। राज्य सरकार की संस्तुति पर केंद्र ने २४ घंटे के भीतर ही सीबीआई जांच की अधिसूचना जारी कर दी, जिसके बाद सीबीआई ने मंगलवार देर रात केस दर्ज करने की तैयारी शुरू कर दी थी। माना जा रहा है कि बुधवार को ही जांच एजेंसी घटनास्थल का निरीक्षण करेगी।
रिपोर्ट्स के मुताबिक लखनऊ में दर्ज किए गए मामले में पुलिस रायबरेली के गुरुबख्शगंज थाने में दर्ज हत्या का मुकदमे को आधार बनाया है। रायबरेली के गुरुबख्शगंज थाने में कुलदीप सिंह सेंगर समेत १० नामजद और १५ अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। परिवार ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी। गौरतलब है कि पीड़िता के साथ रेप और उसके पिता की जेल में हत्या मामले की जांच पहले से ही सीबीआई के पास है।