उन्नाव रेप पीड़िता की मौत, देश में फूटा गुस्सा

यूपी के सीएम दफ्तर में ऐसे मामलों के लिए विशेष प्रकोष्ठ बनाएं : प्रियंका गांधी

0
651

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में रेप पीड़िता, जिसे दो दिन पहले जला दिया गया था, भी आखिर ज़िंदगी की जंग हार गयी। सफदरजंग अस्पताल में पिछले रात करीब पोने  १२ बजे मौत हो गयी। देश में एक बार फिर इन घटनाओं के खिलाफ बड़े पैमाने पर गुस्सा फूट पड़ा है। उसे दो दिन पहले बुरी तरह जला दिया गया था जिसके बाद उसे एयरलिफ्ट करके लखनऊ से दिल्ली लाया गया था।

डाक्टरों के मुताबिक पीड़िता का शरीर ९५ फीसदी जल चुका था। सफदरजंग अस्पताल के डाक्टरों के मुताबिक बहुत प्रयासों के बावजूद पीड़िता को बचाया नहीं जा सका।  शुक्रवार शाम ही उसकी हालत खराब होनी शुरू हो गई थी। रात करीब अवा ११ बजे उसे दिल का दौरा पड़ा जिसके बाद उसका इलाज शुरू किया गया ताकि उसे बचाया जा सके लेकिन रात करीब पोने १२ बजे उसने दम तोड़ दिया।

उसकी मौत के बाद एक बार देश भर में में इस तरह की घटनाओं के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा फूट पड़ा है। पीड़िता की मौत के बाद कमोवेश सभी राजनीतिक दलों के नेताओं ने घटना पर गुस्सा जाहिर किया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों पर गहरी चिंता जाहिर करते हुए लखनऊ में कहा कि उन्नाव में बीते ११ महीने में करीब ९० रेप हुए हैं। प्रियंका गांधी ने कहा – ”सरकार का कर्तव्य होता है कि वह कानून-व्यवस्था को कायम रखे। उन्नाव में पिछले ११ महीने में ९० बलात्कार हुए हैं। सरकार को फैसला करना पड़ेगा कि वह महिलाओं के पक्ष में है या फिर अपराधियों के पक्ष में?”

उन्होंने कहा कि उन्नाव में जो पिछला मामला हुआ था, उसमें सरकार ने आरोपी की तब तक सुरक्षा की जब तक उस महिला का परिवार खत्म नहीं हो गया। उन्नाव के बाद संभल, मैनपुरी में आपने देखा और अब फिर उन्नाव में गुरुवार को नया मामला हुआ है। प्रियंका गांधी ने कहा – ”मुख्यमंत्री मामलों को देखें और उन्हें मेरा सुझाव है कि वह अपने दफ्तर में एक प्रकोष्ठ बनाएं और हर जिला पुलिस अधीक्षक से कहा जाए कि अगर महिलाओं से संबंधित शिकायत आती है तो मुख्यमंत्री कार्यालय को उसकी सूचना दें और २४ घंटे के अंदर उसका मुकदमा दर्ज कर पीड़िता को सुरक्षा दी जाए।”

एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने अपना गुस्सा जाहिर किया – ”एक और रेप पीड़ित मासूम की जिंदगी खत्म हो गई। उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बारे में सुनकर बेहद दुख हुआ। मेरी हार्दिक संवेदना। उसकी आत्मा को शांति मिले। लेकिन हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि अन्य रेप पीड़ितों के साथ ही उसे भी न्याय मिले….अब बहुत हुआ।”

कांग्रेस की महिला शाखा ने ट्वीट कर कहा – ”यूपी सरकार सो गई है। भारत की एक और बेटी ने दम तोड़ दिया क्योंकि सिस्टम उसकी सुरक्षा करने में नाकाम रहा। रेप पीड़िता को उन्नाव में जला दिया गया था, जिसे एयरलिफ्ट कर सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पीड़िता की शुक्रवार रात ११.४० बजे मौत हो गई। बहादुर लड़की की आत्मा को शांति मिले। आपने कड़ा संघर्ष किया।”

बसपा सुप्रीमो मायावती, लोक जनशक्ति पार्टी के नेता चिराग पासवान सहित कई नेताओं ने भी ट्वीट कर पीड़िता की मौत पर दुख जाहिर किया है।