उत्तर प्रदेश की सियासत का असर दिल्ली एमसीडी चुनाव पर

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के साथ ही दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के चुनाव होने है। ऐसे में उत्तर प्रदेश में जो भी सियासी दांव पेंच चले जा रहे है। उनका सीधा असर दिल्ली नगर के चुनाव पर जरूर पड़ना है।

राजनीति के विश्लेषकों का मानना है। अगर समाजवादी पार्टी और आप पार्टी उत्तर प्रदेश में गठबंधन करती है। तो दिल्ली के एमसीडी के चुनाव में भाजपा ही नहीं बल्कि कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे को चुनाव में उठा सकती है। क्योंकि आप पार्टी का जो जन्म हुआ है वो, भ्रष्ट्राचार के विरोध में हुआ है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने तो कई बार भ्रष्ट्र नेताओं की सूची जारी कर कहा कि आप पार्टी का कभी भी भ्रष्ट्र पार्टी के साथ गठबंधन नहीं हो सकता है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अमरीश का कहना है कि, सियासत में कब कौन किसका दोस्त बन जाये और कब विरोधी ये कहा नहीं जा सकता है। लेकिन आप पार्टी के मुखिया ने तो अन्ना आंदोलन के समय से ही मुख्यमंत्री बनने तक कई मर्तबा कहा है कि वे उन राजनातिक दलों के साथ समझौता नहीं करेगे जिन पर भ्रष्ट्राचार के आरोप है।