आशु भाई उर्फ़ गुरूजी हिरासत में

योन उत्पीड़न का आरोप लगाया है गाजियावाद की महिला ने उसपर

0
600

दुष्कर्म का आरोप झेल रहे आशु भाई उर्फ़ गुरूजी उर्फ़ आसिफ खान को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने गुरूवार को हिरासत में ले लिया है। पुलिस उसे पिछले कई दिन से तलाश कर रही थी .उसकी एक भक्त रही गाजियावाद की महिला ने उस पर लम्बे समय से शारीरिक शोषण का आरोप लगाया है।

पिछले लम्बे समय से आशु भाई अपने आश्रमों से लोगों को संकट से मुक्ति दिलाने का धंधा चला रहा था और अब खुद संकट में फंस गया है। वह खुद को ज्योतिषचार्य, हस्तरेखा विशेषज्ञ और काले जादू का महारथी प्रचारित करता था। गाजियावाद की एक महिला के आरोपों के मुताबिक उसने न सिर्फ  उसका यौन उत्पीड़न किया बल्कि उसकी बच्ची के साथ भी छेड़छाड़ की।

अभी तक जिस आशु भाई उर्फ़ गुरूजी को उसके भक्त हिन्दू संत मान रहे थे वास्तव में टीवी चैनलों ने खोजकर उसे मुस्लिम बताया है। उसका नाम वोटर लिस्ट में आसिफ खान है। वोटर लिस्ट पर उसकी तस्वीर इसकी गबाही है। वोटर लिस्ट में उसका नाम आसिफ खान पुत्र इदहा ख़ान लिखा है। वोटर लिस्ट में ठीक नीचे बेटे समर खान की भी तस्वीर लगी है।

निजी टीवी चैनल ‘आज तक’ के मुताबिक आशु भाई गुरुजी ने आसिफ खान बनकर अपने गोरखधंधे की शुरूआत साल 1990 में की। आशु 1990 तक दिल्ली के वजीरपुर की जेजे कॉलोनी में रहता था।  मगर साल 2018 आते आते वो करोड़ों का मालिक बन गया। आशु के पास सिर्फ करोड़ों रुपये ही नहीं बल्कि कई महंगी कारें भी हैं। सराय रोहिल्ला के पदम नगर इलाके में अपने धंधे शुरूआत की। आशु भाई गुरुजी ने दूसरों का भविष्य बताने का धंधा शुरू किया। जल्द ही आशु भाई गुरुजी को अपना धंधा बंद करना पड़ा। क्योंकि आशु के घर का नौकर उसके 50 लाख रुपये लेकर भाग गया था।

बाद में आशु (आसिफ खान) पदम नगर से निकलकर रोहिणी इलाके में अपना धंधा फिर से शुरु किया। उसका धंधा इतना फला फूला कि अब आलम ये है कि दिल्ली के कई इलाकों में बाबा की करोड़ों की प्रापर्टी है जिसमें प्रीतम पुरा के तरुण एंकलेव में मकान, रोहिणी सेकटर 7 में आश्रम और साउथ दिल्ली के हौज़खास जैसे पॉश इलाके में ऑफिस है।