आरक्षण बिल लोकसभा में पास

0
469
आर्थिक रूप से सवर्णों को आरक्षण का बिल आज लोक सभा में पास हो गया। इसके हक़ में ३२३ सदस्यों ने इसके हक़ में मतदान किया। जबकि विरोध में ३ वोट पड़े। अब यह बिल राज्य सभा में जाएगा।
लोकसभा में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा है कि एससी-एसटी और ओबीसी व्यवस्था को छेड़ा नहीं जाएगा। गरीब सामान्य वर्ग को 10 फीसदी आरक्षण मिलेगा।
बिल पर चर्चा के दौरान वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि आरक्षण को लेकर अभी तक सही रास्तों से कोशिश नहीं हई थी। उन्होंने कहा है कि इस बिल को लेकर राज्यों की विधानसभाओं में जाने की जरूरत नहीं है।
सवर्ण आरक्षण बिल पर कांग्रेस ने बिल को संयुक्त संसदीय समिति को भेजने की मांग की है।
रामदास आठवले ने कहा है कि आज मुझे बहुत अच्छा हो रहा है फील, क्योंकि लोकसभा में पास हो रहा है ये बिल, नरेन्द्र मोदी जी की मजबूत हो रही है हील, क्योंकि राफेल में नहीं है कोई गलत डील, नरेन्द्र मोदी जी का था अच्छा लक्षण, इसलिए मिल रहा है गरीबों को आरक्षण।
हुकुमदेव नारायण ने कहा है कि कट्टरपंथी को छोड़ उदारवादी बनकर सोचने की जरुरत है और ये विधेयक इसी का परिणाम है। एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि ये बिल बाबा साहेब का अपमान है।  ये बिल संविधान के साथ धोखा है।
कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा है कि मैं पार्टी की तरफ से इस बिल का समर्थन कर रहा हूं लेकिन इस बिल को लाने पर सरकार की नीयत पर सवाल खड़ा होता है। सरकार आखिरी समय में ही क्यों ये बिल लेकर आई है। इस बिल को पेश करने की समयसीमा पर सवाल खड़ा होता है। सरकार की नीयत पर हमें भरोसा नहीं है।
पूर्व केंद्रीय मंत्री और आरएलएसपी सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा ने कहा है आरक्षण से स्मृद्धि नहीं आ सकती। युवा पीढ़ी की उर्जा गलत जगह लग रही है। भगवंत मान ने कहा है कि हम इस बिल का समर्थन करते हैं, लेकिन अगर उनकी नीयत सही है तो इसे पास कराएं। लेकिन ये बिल राज्यसभा से पास नहीं होगा. मान ने कहा कि बीजेपी भारतीय जुमला पार्टी है।
आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान ने कहा है कि अगर बीजेपी के दिल में गरीबों के लिए सम्मान होता तो वह पहले साल के पहले सेशन में बिल लेकर आती लेकिन वह अब लेकर आई जब चुनाव होने वाले है। ये एक चुनावी स्टंट है। ये एक जुमला है।
बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने कहा है कि मेरे लिए आज होली, दशहरा और दीवाली जैसा दिन है. मेरी जाति के लिए आज त्योहार है. मोदी सरकार की तरफ से पिछड़ों के लिए ये बड़ा कदम है।
लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी ने बिल का विरोध किया है। संसद में पार्टी नेता जय प्रकाश नारायण यादव ने कहा है कि पिछड़ों को 85 फीसदी आरक्षण मिलना चाहिए। सवर्ण आरक्षण एक धोखा है।
सवर्ण आरक्षण बिल का समाजवादी पार्टी ने समर्थन किया है। सपा के सांसद ध्रमेंद्र यादव ने कहा है कि आरक्षण आबादी के अनुपात में मिलना चाहिए।
बिल पर चर्चा के दौरान केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि सभी को समान हक समान शिक्षा मिलनी चाहिए. ऐसा नहीं होना चाहिए कि राष्ट्रपति के बेटे को उच्छ शिक्षा मिले और चपरासी के बेटे को नहीं. हम सभी के समान हक की बात करते हैं।
रामविलास पासवान ने मांग की है कि 10 फीसदी आरक्षण को 9वीं सूची में डाला जाए. उन्होंने यह भी कहा है कि प्राइवेट सेक्टर में भी 60 फीसदी आरक्षण होना चाहिए।
रामविलास पासवान ने कहा है कि मुझे सरकार के इस फैसले से बहुत खुशी है. मैं अरूण जेटली का धन्यवाद करता हूं कि उन्होंने सदन में इस बिल से होने वाले लाभ के बारे बताया है।