अमृतसर में ट्रेन यातायात बहाल

प्रदर्शनकारियों को हटाया गया, पथरबाजी में पुलिसकर्मी घायल

0
418

अमृतसर हादसे की सूचना देने को लेकर गेटमैन और ट्रेन चालक के बयानों में विरोधाभास के बीच चालाक का रविवार को लिखित ब्यान आया है जिसमें उसने दावा किया है कि ट्रैक पर उसने भीड़ देख ली थी जिसे देखकर उसने ब्रेक लगाए थे लेकिन जैसे ही ट्रेन धीमी हुई लोगों ने उसपर पथराव शुरू कर दिया लिहाजा सवारियों की जान खतरे में न डालते हुए वह ट्रेन को आगे ले गया। इस बीच लोगों के विरोध प्रदर्शन के बीच अमृतसर लाइन पर ट्रेनों की आवाजाही बहाल कर दी गयी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक अमृतसर रेल हादसे में ट्रेन ड्राइवर अरविंद कुमार ने अपने लिखित बयान में कहा है कि ट्रेन के इमर्जेंसी ब्रेक उसने लगाए गए थे इसके बावजूद गाड़ी की चपेट में कुछ लोग आ गए। ”जब ट्रेन पूरी तरह से रुकने की स्थिति में पहुंच गई थी, तभी ट्रेन पर कुछ लोगों ने पत्थरों से हमला कर दिया, जिससे यात्रियों की सुरक्षा के मद्देनजर मैंने फिर से ट्रेन चला दी”। उधर चालाक और गेटमैन के हादसे की सूचना देने को लेकर भी विरोधावास सामने आया है।  चालाक ने कहा था की उसने अधिकारीयों को सूचना दे दी थी लेकिन गेटमैन ने बयान दिया था की उसने अधिकारीयों को घटना की सूचना दी।

इस बीच ट्रेन हादसे के बाद से पटरियों पर धरना दे रहे प्रदर्शनकारियों को रविवार को हटा दिया गया।  पथराव कर रहे लोगों ने वहां ट्रैफिक रोका था। इस पथराव में कई पुलिस वाले घायल भी हुए हैं। बाद में ट्रेनों का परिचालन करीब ४० घंटे बंद रहने के बाद दोपहर बहाल कर दिया गया । रेलवे के एक प्रवक्ता के मुताबिक रेलवे को स्थानीय अधिकारियों से दोपहर १२.३० बजे ट्रेन सेवाएं बहाल करने की मंजूरी मिली। “पहले मालगाड़ी को दोपहर २.१६ पर मनावला से अमृतसर रवाना किया गया। मेल और एक्सप्रेस ट्रेन भी बहाल की जा रही हैं। गौरतलब है कि इस हादसे में ६१ लोगों की मौत हो गयी थी।